close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

महाराष्‍ट्र : मराठा आरक्षण के मुद्दे पर 24 घंटे में दो लोगों ने की आत्महत्या

देश में आरक्षण के पक्ष और विपक्ष में चल रहे आंदोलन के बीच आज महाराष्ट्र  मेंअब तक दो छात्रों ने आरक्षण में मुद्दे पर जान दे दी 

महाराष्‍ट्र : मराठा आरक्षण के मुद्दे पर 24 घंटे में दो लोगों ने की आत्महत्या
(प्रतीकात्मक फोटो )
Play

नई दिल्ली : महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण के मुद्दे को लेकर 24 घंटे के अंदर दो मराठा समुदाय के छात्रों ने आत्महत्या का कदम उठाया. महाराष्ट्र की औरंगाबाद पुलिस ने मीडिया को यह जानकारी दी. पुलिस ने बताया कि मध्य महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले के खुलदाबाद तहसील के गल्ले बोरगांव गांव में किशोर शिवाजी हरदे (26) का शव उसके खेत में एक पेड़ से लटका पाया गया.

हरदे ने कथित रूप से एक सुसाइट नोट लिखा जो उसकी जेब में पाया गया. उसने नोट में लिखा है कि वह सरकारी नौकरियों एवं शिक्षा संस्थानों में मराठा समुदाय को आरक्षण नहीं दिए जाने को लेकर यह कदम उठा रहा है.

इसे भी पढ़ें: मराठा आरक्षण के बाद अब महाराष्ट्र में उठी मुस्लिम आरक्षण की मांग, सड़क पर उतरे लोग

वहीं, मराठा आरक्षण के मुद्दे पर मंगलवार को अहमदनगर की एक 11वीं की छात्रा ने भी ख़ुदकुशी कर ली थी. राधाबाई काले महिला महाविद्यालय में 11वीं कक्षा की छात्रा किशोरी बब्बन कनाडे ने सोमवार दोपहर अपने छात्रावास के कमरे में पंखे से फंदा लगाकर जान दे दी. उसने भी एक सुसाइड नोट छोड़ा, जिसमें उसने कथित रूप से जिक्र किया है कि वह मराठा समुदाय के लिए आरक्षण की मांग को लेकर ‘‘बलिदान’’ दे रही है.

लड़की ने सुसाइड नोट में जिक्र किया है कि इस साल शुरू में हुई 10वीं कक्षा की परीक्षा में उसे 89 प्रतिशत अंक मिले थे, लेकिन वह उस श्रेणी में दाखिला नहीं ले सकी, जहां उसके परिवार के पास आर्थिक संसाधन उपलब्ध नहीं थे. लड़की ने अपनी सुसाइड नोट में लिखा कि मराठा समुदाय में पैदा होने की वजह से उसने ‘अन्याय’ का सामना किया.

सुसाइड नोट में इस छात्रा ने भी इस कदम को मराठा समुदाय के आरक्षण के मुद्दे पर बलिदान माना है. महाराष्ट्र में चल रही मराठा आरक्षण की आग में पिछले 2 महीने के अंदर 8 लोगो ने अपनी जान दे दी है.