close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Exclusive: संसद हमले के दोषी अफजल गुरु ने अलगाववादी नेता गिलानी को लिखी थी चिट्ठी

Exclusive: संसद हमले के दोषी अफजल गुरु ने अलगाववादी नेता गिलानी को लिखी थी चिट्ठी
संसद हमले के दोषी अफजल गुरु ने अलगाववादी नेता गिलानी को लिखा थी चिट्ठी (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः टेरर फंडिंग को लेकर अलगावादियों पर नेशनल इंवेस्टिगेटिव एजेंसी (एनआईए) के लगातार कसते शिकंजे से आतंक के आकाओं को पनाह देने वालों की परतें लगातार खुल रही है. जैसे-जैसे एनआईए अपनी कार्रवाई को आगे बढ़ा रही है कई नए खुलासे हो रहे है. हाल ही में एनआईए के हाथ 2001 में ससंद हमले के दोषी अफजल गुरु की एक चिट्ठी लगी है. ये चिट्ठी अफजल गुरु ने कश्मीर के हुर्रियत नेता सयैद अली शाह गिलानी को लिखी थी. जिसमें उसने गिलानी से खुद को दिल्ली की तिहाड़ जेल से श्रीनगर की जेल में ट्रांसफर करवाने में मदद की मांग की थी.

टेरर फंडिंग मामले में जांच कर रही एनआईए को ये चिट्ठी गिलानी के दामाद अल्ताफ अहमद शाह उर्फ फंटूश के घर पर 3 जून 2017 को मारे गए छापे के दौरान मिली. 6 सितंबर 2011 को लिखी गई इस चिट्ठी की एक कॉपी जी मीडिया के पास भी है. 

टेरर फंडिंग केस : जम्मू में NIA की छापेमारी, हिरासत में हुर्रियत नेता बहल

इस चिट्ठी में अफजल गुरु ने लिखा "मैं आपसे गुजारिश करता हूं कि आप राज्य के सीएम उमर अब्दुल्ला से कहें कि वे सुप्रीम कोर्ट के उस नोटिस का जवाब दे जो कि मेरे जेल ट्रांसफर के संदभ में है ना कि राज्य विधानसभा में इसे लेकर कोई विधेयक पास करने की बात करने के जिसकी मुझे कोई जरूरत नहीं है.'

गौरतलब है कि अफजल गुरु को 9 फरवरी 2013 को दिल्ली की तिहाड़ जेल में फांसी की सजा दे गई थी.

टेरर फंडिंग : NIA ने गिलानी के बेटे को पूछताछ के लिए दिल्‍ली बुलाया

आपको बता दें कि टेरर फंडिंग के मामले में एनआईए ने 30 मई को अलगाववादी नेताओं के खिलाफ (हुर्रियत सदस्यों समेत) दर्ज किया है. इन नेताओं पर कई हिजबुल मुजाहिद्दीन, लश्कर ए तैयबा, दुख्तार-ए-मिल्लत जैसे आतंकी संगठनों को आर्थिक मदद पहुंचाने का आरोप है. जांच एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक कश्मीर के अलगाववादी नेता आतंक को बढ़ावा देने के लिए हवाला के जरिए पैसा लेकर घाटी में अशांति फैलाने का काम करते है.