close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE जानकारी: अपनी सेहत को लेकर हो जाएं जागरूक

ये एक अजीब विरोधाभास है कि हमारे शास्त्रों में एक स्वस्थ शरीर को पहला सुख कहा गया है लेकिन हमारे देश के लोग इस सिद्धांत को पूरी तरह भूल चुके हैं .

ZEE जानकारी: अपनी सेहत को लेकर हो जाएं जागरूक

हमारा अगला विश्लेषण हर हिंदुस्तानी के स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है . आप में से ऐसे बहुत से लोग होंगे जो अपनी सेहत को लेकर कई तरह के Plan बनाते होगें . इस बात की कसमें खाते होंगे कि कल से Morning Walk, योग या Gym जाना शुरू करेंगे लेकिन आपका ये कल कभी नहीं आता . आपकी इस लापरवाह और आलस से भरी सोच की वजह से भारत...बीमार लोगों का देश बनता जा रहा है . 

ये एक अजीब विरोधाभास है कि हमारे शास्त्रों में एक स्वस्थ शरीर को पहला सुख कहा गया है लेकिन हमारे देश के लोग इस सिद्धांत को पूरी तरह भूल चुके हैं . 
इस बात को ध्यान में रखकर आज देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी Fit India Movement की शुरूआत की है . इस मुहिम का मकसद देश के हर नागरिक को स्वस्थ बनाना है . आज से 77 साल पहले 1942 में महात्मा गांधी ने Quit India Movement की शुरूआत की थी . इस आंदोलन की वजह से अंग्रेज़ों को भारत छोड़कर जाना पड़ा था . ठीक इसी तरह शरीर से बीमारियों को भगाने के लिए Fit India Movement की शुरुआत की गई है . आज राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री ने देश के लोगों को सेहत के प्रति जागरुक करने के लिए कई ज़रूरी बातें कहीं . इनमें से कई बातें आपके ऊपर भी लागू हो सकती हैं .

अब आपको इस बात को कहने की वजह बताते हैं . 

एक स्वस्थ जीवन के लिए रोजाना कम से कम 7 हज़ार कदम पैदल चलना चाहिए, ऐसा करके आप मोटापे, डायबिटीज़ और दिल की बीमारियों से बच सकते हैं. लेकिन भारत में ऐसा ..हर रोज़ करने वाले लोग बहुत कम हैं . भारत में लोग औसतन एक दिन में 4 हज़ार 297 कदम चलते हैं . 

Indian Council of Medical Research की एक रिपोर्ट के मुताबिक देश के करीब 54 प्रतिशत लोग शारीरिक श्रम से दूर भागते हैं . इनमें पुरुषों की संख्या करीब 42 प्रतिशत और महिलाओं की संख्या 58 प्रतिशत है . यानी पुरूषों के मुकाबले महिलाएं ज़्यादा आराम पसंद हैं इसलिए उनमें मोटापा और बढ़ते वज़न की समस्या ज़्यादा देखी गई है . 

एक सर्वे के मुताबिक भारत में करीब साढ़े 13 करोड़ लोग मोटापे का शिकार हैं . इनमें करीब 31 प्रतिशत महिलाएं और करीब27 प्रतिशत पुरूष... मोटापे से पीड़ित हैं . 

दिल्ली जैसे महानगर में हर 10 में से 3 महिलाएं मोटापे का शिकार है . जबकि पुरूषों में ये संख्या 3 से कम है . 

मुंबई में भी मोटापे के मामले में महिलाओं की संख्या करीब 36 प्रतिशत और पुरूषों की संख्या 35 प्रतिशत हैं . 

आमतौर पर बढ़ते वजन और मोटापे को अमीरों की बीमारी माना जाता है लेकिन ये समस्या अब मध्यमवर्गीय परिवारों तक पहुंच चुकी है . 

Workout और शारीरिक श्रम ना करने की वजह से भारत में डायबिटीज़ और हाइपरटेंशन के मरीज़ो की संख्या बहुत तेज़ी से बढ़ी है . 

World Health Organization के मुताबिक भारत में डायबिटीज़ के मरीज़ों की संख्या 11 करोड़ और हाइपरटेंशन के मरीज़ों की संख्या 20 करोड़ से ऊपर पहुंच चुकी है. 

अब आप खुद सोचिए कि जिस देश के लोग इतने Unfit बीमार होंगे.. वो देश आगे कैसे बढ़ेगा 

क्या आपने कभी ये विचार किया है कि फिट रहने की आपकी सारी कोशिशें..... फेल क्यों हो जाती है? इसका सीधा और सरल जवाब है....आपकी कमज़ोर इच्छाशक्ति....इच्छाशक्ति की कमी की वजह से शरीर को फिट रखने वाली लड़ाई में आप... हर बार हार जाते हैं. इस बात को समझने के लिए आज आप China से बहुत कुछ सीख सकते हैं . China की सरकार ने अपने यहां 2016 में Healthy China मिशन की शुरूआत की है . इस मिशन का मकसद वर्ष 2030 तक China को सेहतमंद बनाना है . अच्छी बात ये है कि वहां के लोग इस दिशा में बहुत आगे निकल चुके हैं . आज हमने आपकी सेहत को ध्यान में रखते हुए एक रिपोर्ट बनाई हैं इसमें आपको मजबूत इच्छाशक्ति के साथ फिट रहने के कई टिप्स मिलेंगे.