close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE जानकारी: J&K पहुंचे NSA अजित डोभाल, कश्मीरियों संग किया लंच

अजीत डोवल जम्मू-कश्मीर के शोपियां ज़िले में पहुंचे...उन्होंने आम लोगों के बीच पहुंचकर उनसे बातचीत की...उनसे मौजूदा हालात के बारे में जाना..

ZEE जानकारी: J&K पहुंचे NSA अजित डोभाल, कश्मीरियों संग किया लंच

आर्टिकल 370 अब इतिहास बन चुका है और अब बारी है जम्मू-कश्मीर की जनता के साथ ऐसा रिश्ता क़ायम करने की...जिसमें अलगाववादियों और कश्मीर के मौजूदा राजनेताओं की कोई जगह ना हो. ये संबंध सीधा कश्मीर की आम जनता और भारत के बीच होने चाहिये...और पहले से और मज़बूत होने चाहिये.

इसकी शुरुआत आज राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवल ने कर दी है. आज अजीत डोवल जम्मू-कश्मीर के शोपियां ज़िले में पहुंचे...उन्होंने आम लोगों के बीच पहुंचकर उनसे बातचीत की...उनसे मौजूदा हालात के बारे में जाना...और फिर उनके साथ सड़क के किनारे बैठकर चाय पी...और खाना भी खाया. 

आप याद कीजिये...इससे पहले आपने फ़ारूक़ अब्दुल्ला...उमर अब्दुल्ला...और महबूबा मुफ़्ती की ऐसी तस्वीरें कब देखी थीं...जब वो आम कश्मीरी के बीच गये हों. आपको ऐसी कोई तस्वीरें ध्यान नहीं आएंगी...क्योंकि कभी ऐसा हुआ ही नहीं.

शोपियां दक्षिण कश्मीर का वो ज़िला है...जो आतंकवाद से सबसे ज़्यादा प्रभावित रहा है. हम इसे कश्मीर में आतंकवाद का ग्राउंड ज़ीरो भी कह सकते हैं. वर्ष 2016 में हिज़बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद शोपियां में काफ़ी हिंसा हुई थी. सुरक्षाबलों पर पथराव यहां आये दिन ख़बर बनती थी. लेकिन आज यहां सब कुछ सुकून से चल रहा है...हालांकि आतंकियों का मारा जाना आज भी जारी है. 2 अगस्त को यहां हुए सेना के एक ऑपरेशन में 2 आतंकवादी मारे गये थे.

और आज जब यहां NSA अजीत डोवल लोगों के बीच पहुंचे...तो उनके और आम कश्मीरी लोगों के बीच कोई दूरी नज़र नहीं आई. इससे पता चलता है कि कश्मीर में सब कुछ ठीक है. आर्टिकल 370 हटाये जाने के बाद विपक्ष और कश्मीर के नेता आरोप लगा रहे हैं कि सरकार ने कश्मीर के साथ धोखा किया है. लेकिन ये तस्वीरें साबित करती हैं कि कैसे सरकार कश्मीर की जनता से सीधे जुड़ने की कोशिश कर रही है. ऐसी कोशिश पहले कभी किसी नेता ने नहीं की है. वो बुलेटप्रूफ गाड़ी में घूमते हैं...भारी सुरक्षा से घिरे बंगलों में रहते हैं...और इसी वजह से वो आज तक कश्मीर की नब्ज़ को ना ही समझ पाये...ना ही बाक़ी भारत को समझने दिया.

आज NSA अजित डोवल ने कश्मीर के लोगों के बीच पहुंचकर ये संदेश दिया है कि भारत सरकार हमेशा उनके साथ है. ये संदेश दिया कि कश्मीर में सबकुछ ठीकठाक है . और सबसे अच्छी बात ये है कि... ऐसा संदेश देने के लिए खुद भारत के NSA मोर्चे पर सबसे आगे खड़े हैं .

उन्होंने इस दौरे पर अधिकारियों को आदेश दिये हैं कि कश्मीर की आम जनता को कोई दिक़्क़त नहीं होनी चाहिये.
खाने पीने जैसे सभी ज़रूरी सामान की सप्लाई उनकी प्राथमिकता होनी चाहिये.

इस वक़्त सरकार का ध्यान पूरी तरह आम कश्मीरी जनता पर है. क्योंकि ये लोगों का ही सहयोग है...जिन्होंने कश्मीर के नेताओं और अलगाववादियों की ब्लैकमेलिंग वाली राजनीति को आईना दिखा दिया है.

अनुच्छेद 370 हटाये जाने को लेकर वो आज भी धमकियां दे रहे हैं. लेकिन ज़मीनी सच ये है कि कश्मीर के ज्यादातर लोग भारत के साथ रहना चाहते हैं...उन्हें भारत में ही अपने बच्चों का भविष्य नज़र आता है. 

अजित डोवल शोपिया में मौजूद सुरक्षाबलों से भी मिले और उनका हौसला बढ़ाया. दरअसल ये अजित डोवल के काम करने का तरीक़ा है, जिससे बहुत से लोग अनजान हैं. 

NSA अजित डोवल शोपियां में आम लोगों के बीच कई घंटों तक रहे. इस मुलाक़ात के बाद उन्होंने कश्मीर की ग्राउंड रिपोर्ट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को दी है.

उन्होंने बताया है कि कश्मीर के आम लोग इस बात से ख़ुश हैं कि सुरक्षा के हालात बेहतर होने पर गृह मंत्री अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर को फिर से राज्य बनाने की बात कही है. लोग अपने रोज़मर्रा के काम में व्यस्त हैं और अभी जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य हैं, सभी जगह शांति है.

उन्होंने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि शोपियां जैसे आतंकवाद प्रभावित ज़िले में भी स्थानीय लोग केंद्र सरकार के फ़ैसले के साथ हैं. और उन्हें सरकार की तरफ़ से उठाये गये क़दमों पर भरोसा है. लोग इस बात का ऐहसास करते हैं कि कश्मीर के स्थानीय नेताओं ने स्वार्थ से भरे फ़ैसले लिये और आम लोगों को अहमियत नहीं दी.

Article 370 के रूप में 70 वर्षों से जो दूरी दिल्ली और श्रीनगर के बीच बनी हुई थी, उसे सरकार ने एक झटके में ख़त्म कर दिया है. इसे लेकर जो रणनीति सरकार ने बनाई...उसमें प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवल की भी बड़ी भूमिका रही है.

अजीत डोवल की कश्मीर के लोगों से मिलने की तस्वीरें नए भारत की तस्वीर है . ये कश्मीर का भी नया दौर है . ये वही तस्वीरे हैं जिन्हें देखने की इच्छा सुषमा स्वराज ने जताई थी . जिनके बारे में सुषमा स्वराज ने अपने आखिरी ट्वीट में लिखा था...कि उन्हें इसी दिन की प्रतीक्षा थी .