close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE जानकारी: भारत के पराक्रम से थर-थर कांप उठा है पाकिस्तान

कश्मीर पर बौखलाए पाकिस्तान ने पिछले 24 घंटे में चार बड़े कदम उठाए हैं.

ZEE जानकारी: भारत के पराक्रम से थर-थर कांप उठा है पाकिस्तान

भारत के पराक्रम से पाकिस्तान पूरी तरह डर गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मुस्लिम देशों से जिस तरह समर्थन मिला है, उससे पाकिस्तान और भी घबराया हुआ है. ऐसे में हमने तय किया है कि आज DNA की शुरुआत कश्मीर पर पाकिस्तान के खौफ, चीन से गठबंधन की साजिश और परमाणु धमकी वाले मनोविज्ञान के विश्लेषण से करेंगे.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को लगातार पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा का समर्थन मिल रहा है. और इमरान ख़ान भी पाकिस्तानी सेना के एजेंडे को आगे बढ़ा रहे हैं. पाकिस्तान ने कश्मीर को अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा बनाने के लिए अबतक अमेरिका, संयुक्त राष्ट्र और OIC यानी Organization Of Islamic Cooperation में पूरा जोर लगा चुका है, लेकिन वो नाकाम रहा है. अब कश्मीर पर बौखलाए पाकिस्तान ने पिछले 24 घंटे में चार बड़े कदम उठाए हैं. ये चारों बातें आज आपको जाननी चाहिए. 

पहली बात- कश्मीर पर पाकिस्तान और चीन के बीच बड़ी रणनीति बनी है. पाकिस्तान और चीन ने रक्षा सहयोग के लिए आपस में समझौता किया है. चीन अब पाकिस्तान की सेना को मजबूत करने के लिए मदद करेगा. इसी सिलसिले में पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा चीन के सेंट्रल मिलिट्री कमीशन के वाइस चेयरमैन जनरल शू किलियांग से मिले. 

दूसरी बात- पाकिस्तान ने बॉर्डर पर स्पेशल फोर्स को भी तैनात किया है. स्पेशल फोर्स पाकिस्तानी सेना के Elite Commandos हैं जिसे आप BORDER ACTION TEAM या BAT के नाम से भी जानते हैं. तीसरी बात- बॉर्डर पर पाकिस्तान की तरफ से मीडियम रेंज ARTILLERY की भी तैनाती की गई है. चौथी बात- बॉर्डर पर आतंकी संगठनों की हरकतें भी तेज गई हैं. आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद इसे लीड कर रहा है और समुद्र के रास्ते भारत पर हमले की साजिश रच रहा है.

नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने भी कहा है कि आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने हमले के लिए अंडरवाटर विंग बनाया है और इन्हें प्रशिक्षण दिया जा रहा है. 

इस बीच पाकिस्तान में विपक्ष की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो ने आज बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि अबतक पाकिस्तान श्रीनगर जीतने की बात करता था. लेकिन अब पाकिस्तान के लिए PoK में मुजफ्फराबाद को बचाना भी मुश्किल है. 

इस बयान के जरिए इमरान खान का सच से सामना हुआ है. और हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि बिलावल भुट्टो, प्रधानमंत्री इमरान खान को कठपुतली मानते हैं. भारत भी दुनिया के ताकतवर देशों को ये बात पहले ही बता चुका है, कि इमरान खान Elected नहीं Selected पीएम हैं. और कश्मीर, पाकिस्तानी सेना की साजिश वाले एजेंडे में सबसे ऊपर है. कश्मीर पर सेना के दबाव में ही इमरान खान भी लगातार बयानबाजी कर रहे हैं. बिलावल भुट्टो ने भी Press Conference के दौरान कहा कि पाकिस्तान में Selected और Selectors में मिलीभगत है. बिलावल भुट्टो ने भले ही पाकिस्तान में अपना पॉलिटिकल करियर बनाने के लिए ये बयान दिया हो. 

लेकिन, बिलावल भुट्टो की बात को आप इस तरह से भी समझ सकते हैं कि इमरान खान ने कुछ दिनों पहले ही आर्मी चीफ बाजवा का कार्यकाल तीन वर्षों के लिए बढ़ा दिया था. प्रधानमंत्री इमरान खान के अमेरिका दौरे पर बाजवा भी साथ थे.

अब हम ये समझने की कोशिश करेंगे, कि पाकिस्तान बार बार भारत को परमाणु हमले की धमकी क्यों देता है? और दुनिया को अपने परमाणु हथियारों का डर क्यों दिखाता है ?

सोमवार को प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाकिस्तान को संबोधित किया. लेकिन उनके ऐजेंडा में पाकिस्तान नहीं भारत था. और दिमाग में परमाणु हथियार था. उन्होंने परमाणु हथियार के बहाने दुनिया को ब्लैकमेल करने वाला बयान दिया. इमरान खान ने कहा कि दोनों देशों के पास परमाणु हथियार है. और अगर युद्ध हुआ तो पूरी दुनिया को इसके परिणाम भुगतने होंगे. 

इमरान खान ये कहते हुए भूल गए कि दुनिया पाकिस्तान के परमाणु हथियारों का सच जानती हैं. दुनिया को ये भी पता है कि पाकिस्तान के परमाणु हथियार चोरी के सामान से बनाए गए हैं. मई 1998 में भारत के परमाणु परीक्षण के 10 दिनों के बाद पाकिस्तान ने चोरी के सामान को इकट्ठा करके बनाए गए परमाणु बम का परीक्षण किया.

पाकिस्तान के वैज्ञानिक और खुफिया एजेंसी ISI के जासूस रह चुके अब्दुल कादिर खान ने 1998 के बाद Netherlands से चुराई गई तकनीक को नॉर्थ कोरिया, लीबिया और इराक जैसे देशों को बेचना शुरू कर दिया.

अल कायदा और इस्लामिक स्टेट जैसे आतंकी संगठन भी कादिर खान के ज़रिए परमाणु बम बनाने की तकनीक हासिल करने की कोशिश करते रहे हैं. भारत की सेना दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी सेना है. भारत के पास 13 लाख 62 हज़ार से ज्यादा सक्रिय सैनिक हैं. और इनमें Paramilitary के सैनिकों की संख्या शामिल नहीं है. जबकि पाकिस्तान की सेना सिर्फ 6 लाख 37 हज़ार जवानों की है. 

वर्ष 2019 के Global Firepower Index में भारत की सेना को दुनिया की चौथी सबसे ताकतवर सेना बताया गया है. जबकि इस सूची में पाकिस्तान 15वें स्थान पर है.

तेज़ गति से आक्रमण करने के मामले में, दुनिया की कोई भी Missile, ब्रह्मोस की बराबरी नहीं कर सकती.

ब्रह्मोस एक Cruise मिसाइल है...जो बिना पायलट वाले किसी लड़ाकू विमान की तरह होती है. 

ठीक इसी तरह अग्नि-5....एक Inter-Continental Ballistic Missile है. जिसकी Range 5 हज़ार किलोमीटर से ज़्यादा है.

इसकी ताकत का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है..कि ये पूर्व दिशा में चीन और फिलीपींस और पश्चिम दिशा में इटली तक पहुंच सकती है.

भारत की सबसे ताकतवर मिसाइल की रेंज में पूरा पाकिस्तान, अफगानिस्तान, इराक, ईरान और क़रीब आधा यूरोप आता है.

पाकिस्तान के पास लंबी दूरी की मिसाइल के नाम पर शाहीन-2 है. जो ढाई हज़ार किलोमीटर तक ही वार कर सकती है.

अगर पाकिस्तान भारत पर परमाणु हमला करके, भारत के सभी परमाणु ठिकानों को नष्ट भी कर दें, तब भी भारत, पाकिस्तान पर परमाणु हमला कर सकता है.

क्योंकि भारत के पास Second Strike Capability है, यानी भारत समुद्र से भी परमाणु पनडुब्बी के ज़रिए मिसाइल Fire करके पाकिस्तान को बर्बाद कर सकता है.

भारत K-4 SLBM मिसाइल की सफल Testing कर चुका है. जो 3 हज़ार किलोमीटर तक वार कर सकती है.. और इसे किसी Submarine से भी Fire किया जा सकता है.

भारत... मिराज, सुखोई, MIG-29, Jaguar और तेजस विमानों से परमाणु हमले करने में भी सक्षम है.

जबकि दूसरी तरफ पाकिस्तान के Black Panther, Black Spider और F-16 विमानों में परमाणु हथियार लगाए जा सकते हैं.