ZEE जानकारी: महाराष्ट्र की सियासत में 2 लोगों को सबसे बड़ा फायदा

महाराष्ट्र में पिछले एक महीने में हुई राजनीतिक उठापठक का सियासी फ़ायदा दो लोगों को हुआ.एक तो उद्धव ठाकरे को जो 56 सीट जीतकर भी महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने. और दूसरा सबसे बड़ा फायदा शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले को हुआ.

ZEE जानकारी: महाराष्ट्र की सियासत में 2 लोगों को सबसे बड़ा फायदा

महाराष्ट्र में पिछले एक महीने में हुई राजनीतिक उठापठक का सियासी फ़ायदा दो लोगों को हुआ.एक तो उद्धव ठाकरे को जो 56 सीट जीतकर भी महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बने. और दूसरा सबसे बड़ा फायदा शरद पवार की बेटी
सुप्रिया सुले को हुआ .अजित पवार ने NCP छोड़कर बीजपी का हाथ क्या थामा . शरद पवार ने 78 घंटों के अंदर ही अपनी बेटी सुप्रिया सुले को NCP में नंबर 2 के रूप में स्थापित कर दिया .इन 78 घंटों में हुए हर राजनीतिक घटनाक्रम में सुप्रिया सुले शरद पवार के बाद नंबर 2 की भूमिका में नज़र आईं .

वैसे शरद पवार अपनी बेटी सुप्रिया सुले को महाराष्ट्र की राजनीति में और पार्टी में अपना उत्तराधिकारी तो बनाना चाहते थे लेकिन अजित पवार के राजनीतिक कद की वजह से वो ऐसा कर नहीं पा रहे थे . शरद पवार और अजित पवार के बीच मनमुटाव की खबरें अक्सर सुनने को मिलती थी .

लेकिन इस बार अजित पवार ने बीजपी के साथ जाकर अपने ही पांव पर कुल्हाड़ी मार ली . और इसी बहाने शरद पवार को अपनी बेटी के राह के सबसे बड़े राजनीतिक कांटे को निकालने का मौका मिल गया .

कुल मिलाकर...शरद पवार ने राजनीतिक कांटे को निकाल दिया तो अब उद्धव ठाकरे कांटो भरे ताज के साथ मुख्यमंत्री बन गए हैं . और गठबंधन के इस बोझ के साथ...वो कितने दिनों तक सरकार चला पाएंगे..ये देखना होगा .