close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Zee Jaankari: दुनिया के 208 देशों में भारतीयों की मौजूदगी का DNA टेस्ट

आज हम सबसे पहले दुनिया के 208 देशों में भारत का नाम रोशन करने वाले. पौने दो करोड़ भारतीयों के सांस्कृतिक राष्ट्रवाद का विश्लेषण करेंगे.

Zee Jaankari: दुनिया के 208 देशों में भारतीयों की मौजूदगी का DNA टेस्ट

आज हम सबसे पहले दुनिया के 208 देशों में भारत का नाम रोशन करने वाले. पौने दो करोड़ भारतीयों के सांस्कृतिक राष्ट्रवाद का विश्लेषण करेंगे. संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट के मुताबिक प्रवासियों की संख्या के मामले में भारत दुनिया में पहले नंबर पर है. विश्व के अलग-अलग देशों में करीब 1 करोड़ 75 लाख प्रवासी भारतीय रहते हैं . जो इसे दुनिया का सबसे बड़ा प्रवासी समुदाय बनाते हैं. संयुक्त राष्ट्र के जनसंख्या विभाग ने ' International Migrant Stock 2019' नाम से एक रिपोर्ट जारी की है. इस रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया में कुल 27 करोड़ प्रवासी हैं. इनमें भारतीयों की हिस्सेदारी 6.4 प्रतिशत है.

वर्ष 2015 की तुलना में प्रवासी भारतीयों की संख्या में 10 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. सबसे ज्यादा प्रवासी भारतीय UAE में रहते हैं..जहां इनकी संख्या 34 लाख से ज्यादा है. दूसरे नंबर पर अमेरिका है..जहां करीब 26 लाख भारतीय रहते हैं और तीसरे नंबर पर सऊदी अरब है जहां भारतीयों की जनसंख्या 24 लाख के आसपास है. हालांकि विदेश मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक पूरी दुनिया में करीब 3 करोड़ भारतीय रहते हैं. इनमें NRI यानी... Non Resident Indians और PIO यानी Persons of Indian Origin भी शामिल हैं. आज हम आपको इन दोनों के बीच का अंतर भी समझाएंगे.

और ये भी बताएंगे कि विदेश मंत्रालय और संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ो में इतना अंतर क्यों है. लेकिन सबसे पहले. हम अपनी मातृभूमि से हज़ारों मील दूर बसे इन भारतीयो की सांस्कृतिक और कूटनीतिक ताकत का विश्लेषण करेंगे. 22 सितंबर को अमेरिका के Houston में प्रधानमंत्री मोदी 50 हज़ार भारतीयों को संबोधित करेंगे. इस कार्यक्रम को Howdy Modi नाम दिया गया है.

Texas में How Do You Do को संक्षेप में Howdy कहा जाता है. हिंदी में इसका अर्थ हैं कि. आप कैसे हैं. इस कार्यक्रम का आयोजन Houston के मशहूर NRG स्टेडियम में किया जाएगा. इस भव्य आयोजन की विशेषता ये होगी कि इसमें अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप भी हिस्सा लेंगे. अमेरिका को दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश माना जाता है.

लेकिन प्रवासी भारतीय दुनिया का सबसे शक्तिशाली जन समुदाय हैं और इन सबकी पहचान भारतीयता के साथ जुड़ी है. इसलिए इस ताकत को नज़र अंदाज़ करना. अब अमेरिका के लिए भी संभव नहीं है. भारत के विदेश मंत्रालय के मुताबिक सिर्फ अमेरिका के राष्ट्रपति ही नहीं बल्कि अमेरिका की Republican और Democratic पार्टी के सांसद भी.

इस कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे और इन सांसदों की प्रधानमंत्री मोदी के साथ अलग से बातचीत भी होगी. अमेरिका में भारतीयों को सबसे प्रभावशाली वर्ग माना जाता है. इसलिए अमेरिका की दोनों मुख्य पार्टियां भारतीयों को लुभाने का कोई मौका नहीं छोड़ रहीं हैं. अमेरिका में भारतीय समुदाय के लोगों को एक बड़ा वोट बैंक माना जाता हैं. ऐसा सिर्फ भारतीयों की संख्या की वजह से नहीं.

बल्कि अमेरिका की राजनीति और अर्थव्यवस्था पर उनके प्रभाव की वजह से भी है. अमेरिका की संसद में इस समय भारतीय मूल के 5 सांसद हैं. अमेरिका के कुल वैज्ञानिकों में भारतीयों की संख्या 12 प्रतिशत है. जबकि अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी NASA में 36 प्रतिशत भारतीय हैं. इसी तरह अमेरिका के कुल डॉक्टरों में भारतीय मूल के डॉक्टरों की संख्या 38 प्रतिशत है.

अमेरिका की कई बड़ी कंपनियों जैसे Google, Microsoft, Master Card, Adobe और Nokia के CEOs भारतीय मूल के हैं. भारत के विदेश मंत्रालय के मुताबिक अमेरिका में 44 लाख भारतीय रहते हैं . अमेरिका की एक बड़ी वैज्ञानिक संस्था के अनुसार वर्ष 2016 में सभी देशों के प्रवासियों ने अमेरिका की अर्थव्यवस्था में दो ट्रिलियन डॉलर्स यानी 140 लाख करोड़ रुपये का योगदान दिया था.

इस रिपोर्ट में भारतीयों को सबसे ज्यादा उद्यमशील माना गया था . यानी अमेरिका की आर्थिक तरक्की में भारतीयों का योगदान किसी भी और प्रवासी समूह की तुलना में सबसे ज्यादा है. लेकिन अमेरिका और दुनिया के दूसरे देशों में भारतीय..सिर्फ अपनी कार्यकुशलता की वजह से ही नहीं जाने जाते . बल्कि विदेशों में रहने वाले भारतीयों ने लगभग हर क्षेत्र में अपनी पहचान बनाई है. वर्ष 1989 में अमेरिका में Television पर एक बहुत मशहूर Animated Sitcom Series का प्रसारण शुरु हुआ था . जिसका नाम है Simpsons . इसमें अपू नाम का एक मशहूर भारतीय किरदार भी था.

उस वक्त शायद अमेरिकी Television पर ये एकमात्र भारतीय किरदार हुआ करता था. लेकिन Simpsons में अपू का चित्रण जिस तरह से किया गया उसे कई लोगों ने बाद में रंगभेदी माना . हालांकि इस कार्यक्रम से जुड़ा एक दिलचस्प तथ्य ये भी है कि 16 वर्ष पहले इसी Animated Series में..इस बात की भविष्यवाणी भी कर दी गई थी.

एक दिन Donald Trump अमेरिका के राष्ट्रपति बन जाएंगे. कहा जाता है कि अपू के किरदार की वजह से ही अमेरिकी नागरिकों के मन में भारतीयों के लिए पूर्वाग्रह पैदा हो गए थे . हालांकि अब स्थिति काफी हद तक बदल चुकी है . भारतीय विदेशों में जाकर अब सिर्फ टैक्सी नहीं चलाते...बल्कि वहां की बड़ी बड़ी कंपनियां चला रहे हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में बसे भारतीयों की औसत आय करीब 72 लाख रुपये है जबकि एक आम अमेरिकी औसतन 37 लाख रुपये कमाता है. भारतीय मूल के अभिनेता...अज़ीज़ अंसारी, हसन मिनहाज, कुनाल नय्यर, और मिंडी कालिंग आज हॉलीवुड के बड़े नाम हैं.

अमेरिका की बड़ी बड़ी कंपनियां चलाने वाले..सुंदर पिचाई, सत्या नडेला अजय पाल सिंह बंगा, श्यांनतनु नारायण और राजीव सूरी को पूरी दुनिया जानती है. अमेरिका में भारतीय संस्कृति को भी अब बहुत सम्मान मिलने लगा है . योग और आयुर्वेद के अलावा पारंपरिक भारतीय भोजन, पहनावे और बॉलीवुड की फिल्मों को भी अमेरिका में काफी पसंद किया जाता है. कहा जाता है कि अमेरिका में दुनिया भर की संस्कृतियों का संगम होता है . लेकिन इस संगम के सबसे बड़े... Global Brand Ambassadors प्रवासी भारतीय हैं.

22 सितंबर को जब प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप 50 हज़ार भारतीयों को संबोधित करेंगे..तब वो पल दुनिया भर में बसे 137 करोड़ भारतीयों के लिए गौरव का पल होगा . प्रधानमंत्री मोदी की अमेरिका यात्रा को लेकर...Zee News ने भी विशेष तैयारी की है. हमने इस यात्रा का संपूर्ण विश्लेषण आप तक पहुंचाने के लिए New york में एक Special Studio तैयार किया है . सोमवार को DNA में हमारी आपसे मुलाकात इसी Studio के माध्यम से होगी . तब हम आपके लिए न्यूयॉर्क से DNA का Special Edition लेकर आएंगे और अब हम आपको दिखाएंगे कि कैसे प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा से पहले ही अमेरिका..भारत के रंग में रंगने लगा है.