close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE Jaankari: कहीं आप भी घंटों तक कुर्सी पर तो बैठे नहीं रहते, यदि हां तो हो जाएं सावधान

कहीं आप भी हर समय कुर्सी से चिपके तो नहीं रहते हैं? कहीं आप भी घंटों तक कुर्सी पर बैठे तो नहीं रहते हैं? हम आपसे ये सवाल इसलिए पूछ रहे हैं क्योंकि हमारा अगला विश्लेषण आपकी सेहत और कुर्सी पर बैठे रहने की आदत से जुड़ा है.

ZEE Jaankari: कहीं आप भी घंटों तक कुर्सी पर तो बैठे नहीं रहते, यदि हां तो हो जाएं सावधान

हमारे देश में कई नेताओं को कुर्सी से चिपके रहने की आदत है. कहीं आप भी हर समय कुर्सी से चिपके तो नहीं रहते हैं? कहीं आप भी घंटों तक कुर्सी पर बैठे तो नहीं रहते हैं? हम आपसे ये सवाल इसलिए पूछ रहे हैं क्योंकि हमारा अगला विश्लेषण आपकी सेहत और कुर्सी पर बैठे रहने की आदत से जुड़ा है. इस विश्लेषण को शुरू करने से पहले हम आपसे एक अनुरोध करना चाहेंगे. अगर आप इस समय बैठकर ये विश्लेषण देख रहे हैं तो आप खड़े हो जाइए क्योंकि आज हम आपको ये बताने वाले हैं कि कैसे आप कुर्सी पर लगातार बैठकर अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं. 

The British Medical Journal की एक Research के मुताबिक दिनभर में साढ़े 9 घंटे... या उससे ज्यादा वक्त बैठे रहने से असमय मौत का खतरा बढ़ जाता है .  ये रिसर्च Norway के Oslo में Norwegian(नॉर्वेजियन) स्कूल Of Sport Sciences में किया गया है.  इसके लिए 36 हजार 383 लोगों पर करीब 6 वर्षों तक Research किया गया था .  इसमें शामिल लोगों की औसत उम्र 62 साल थी .  इस Research के लिये Accelerometer नाम के उपकरण का उपयोग किया गया .  इस उपकरण से अध्ययन में शामिल लोगों की गतिविधि... और उसकी तीव्रता का पता लगाया जाता था .  इस अध्ययन के दौरान 2 हजार 149 यानि करीब 6 फीसदी लोगों की मौत हो गयी थी .  और ये लोग प्रतिदिन साढ़े 9 घंटे से ज्यादा वक्त कुर्सी पर बैठ रहते थे .  और ना के बराबर व्यायाम करते थे . 

जाने अनजाने में शायद आप भी ऐसा करते होंगे .  जब भी आप थक जाते हैं तो कुर्सी पर बैठकर आपको आराम मिलता है .  कुछ देर के लिए ऐसा करना सही है... इससे आपका शरीर अपनी खोई हुई शक्ति वापस पा लेता है .  लेकिन आजकल आपकी लाइफस्टाइल ऐसी हो गई है जिसमें ज्यादा देर तक बैठना आपकी मजबूरी बन गई है . 

ज्यादातर नौकरीपेशा लोग 24 घंटे में... 9 से 10 घंटे तक ऑफिस में बैठे रहते हैं... लेकिन हमारा शरीर इस तरह के काम के लिए नहीं बना है... ये लगातार चलने फिरने के लिए बना है .  हमारे शरीर में 360 Joints(सन्धियां) हैं और 700 Skeletal(स्कैलेटल) मांसपेशियां हैं... ये Joints और मांसपेशियां मिलकर... हमारे शरीर को चलने फिरने में मदद करती हैं .  आप जब चलते फिरते हैं तभी आपके शरीर में रक्त संचार सही तरीके से होता है .  हमारे Nervous System यानी स्नायु तंत्र को भी शरीर के गतिमान रहने का फायदा मिलता है .  कुर्सी पर बैठने के मुकाबले पैदल चलते वक्त आपके फेफड़े सही तरीके से काम करते हैं .  और आपके दिमाग को भी काम करने के लिए 100 फीसदी ऑक्सीजन मिलता है .  मतलब ये है कि आपके शरीर का हर हिस्सा पैदल चलने के लिए बना है... क्या आपने कभी सोचा कि, जब आप ऐसा नहीं करते तब क्या होता है ?

गलत तरीके से देर तक कुर्सी पर बैठे रहने पर आपकी पीठ और रीढ़ की हड्डी पर बुरा असर पड़ता है. आप अक्सर बैठकर किसी विषय पर सोचने समझने का काम करते हैं... अपने दिमाग का इस्तेमाल करते हैं... लेकिन बैठने का असर एकदम उल्टा होता है. ज्यादा देर तक बैठे रहने की वजह से आपके फेफड़े... रक्त में सही मात्रा में ऑक्सीजन नहीं पहुंचा पाते हैं .  आपके दिमाग में रक्त संचार भी धीमा हो जाता है .  और आपके मस्तिष्क को सही तरीके से काम करने और अलर्ट रहने के लिए इन दोनों की जरूरत होती है.  यानी बैठे रहने से आपकी एकाग्रता पर भी गलत असर पड़ता है. 

ज्यादा देर तक बैठे रहने से आपके शरीर की नसों में एक Enzyme(एन्जाइम) Lipoprotein(लाइपोप्रोटीन) Lipase(लाइपेस) का निर्माण बंद हो जाता है .  ये Enzyme आपकी नसों में मौजूद Fat यानी वसा को खत्म करता है .  लेकिन लगातार बैठे रहने पर ये प्रक्रिया शुरुआत में धीमी होती है... और फिर पूरी तरह रुक जाती है. कुर्सी पर लगातार बैठे रहने से पीठ और कमर दर्द जैसी दिक्कतें तो होती ही हैं... आपके शरीर का Metabolism Rate भी कम हो जाता है .  इसकी वजह से आगे चलकर डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, किडनी और दिल की बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है. Fitness Experts के मुताबिक सुबह में एक्सरसाइज करने के बाद यदि आप दिन भर कुर्सी पर बैठते हैं... तो आपकी सेहत पर व्यायाम करने का कोई फायदा नहीं होगा. सेहत को सुरक्षित रखने के लिए आप भी आज से 'कुर्सी छोड़ो अभियान' शुरु कीजिए... और अपनी जिंदगी पर मंडराते मौत के खतरे को कम कीजिए . 

अब आपको बताते हैं कि आप कुर्सी पर बैठे रहने की लत को कैसे छोड़ सकते हैं. आप चाहें तो अपने ऑफिस में ऐसी Standing Desk लगा सकते हैं जिसे कुर्सी पर बैठकर और खड़े होकर भी इस्तेमाल किया जा सकता है. Standing Desk का इस्तेमाल करने से आपको ऊर्जा की कमी महसूस नहीं होगी... और आपका Mood भी पहले के मुकाबले बेहतर रहेगा. Office में इसका इस्तेमाल करके आप तनाव और थकान दोनों... कम कर पाएंगे. Canada की University of Waterloo की एक रिसर्च के मुताबिक... एक घंटे में कम से कम 30 मिनट तक खड़े रहने से आपका स्वास्थ्य बेहतर हो सकता है . ऑफिस में बैठकर काम करनेवालों को पीठ और कमर दर्द की समस्या सबसे ज्यादा होती है लेकिन Standing Desk का इस्तेमाल करने से दर्द में 100 प्रतिशत सुधार देखा गया है. 

कुर्सी का अविष्कार करीब 4 हज़ार साल पहले Egypt में हुआ था. उस समय इसका इस्तेमाल सिर्फ राजा और उनके परिवार के लोग करते थे. जबकि राजा के सेवकों, गुलामों और दूसरे लोगों को ज़मीन पर ही बैठना पड़ता था लेकिन अब लोग कुर्सियों के गुलाम बन गए हैं. इसलिए अगर आपको सेहत का राजा बनना है तो कुर्सी की गुलामी छोड़कर अपने शरीर को सक्रिय बनाइए.