close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Zee Jaankari: दुनिया में सबसे आगे हिंदुस्तानी

अमेरिका में साढ़े तीन करोड़ से ज्यादा लोग प्रतिदिन योग का अभ्यास करते हैं. अमेरिका में योग का बाज़ार...सवा लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का है. यानी Yog.. दुनिया में भारत का सबसे बड़ा Brand बन चुका है. 

Zee Jaankari: दुनिया में सबसे आगे हिंदुस्तानी

अमेरिका में साढ़े तीन करोड़ से ज्यादा लोग प्रतिदिन योग का अभ्यास करते हैं. अमेरिका में योग का बाज़ार...सवा लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का है. यानी Yog.. दुनिया में भारत का सबसे बड़ा Brand बन चुका है. विदेशों में बसे प्रवासी...अपने देश में जो पैसे भेजते हैं. उसे Remittances कहा जाता है. और प्रवासी भारतीय Remittance भेजने के मामले में भी दुनिया में पहले पायदान पर है. पिछले वर्ष भारतीयों ने अपने देश में साढ़े पांच लाख करोड़ रुपये भेजे थे. ये भारत की GDP का 2.7 प्रतिशत है . अमेरिका और सऊदी अरब जैसे देश जब कूटनीति के मामलों में भारत के साथ खड़े होते हैं, तो इसके पीछे भी विदेशों में बसे करोड़ों भारतीयों का अहम रोल होता है.

कश्मीर के मसले पर...सऊदी अरब और UAE ने पाकिस्तान की जगह भारत का साथ दिया..जबकि ये दोनों मुस्लिम देश हैं . लेकिन इन देशों में 60 लाख भारतीय रहते हैं और इन भारतीयों की ताकत को अब पूरी दुनिया सलाम कर रही है. अब आपको बताते हैं कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी किए गए आंकड़ों...और भारत के विदेश मंत्रालय के आंकड़ों में इतना बड़ा अंतर क्यों है .

United Nations के आंकड़े उन भारतीयों की संख्या पर आधारित हैं. जो भारत से जाकर..विदेशों में बस गए, या फिर वहां अस्थाई तौर पर काम कर रहे हैं. जबकि विदेश मंत्रालय के आंकड़ों में Non Resident indians और Persons of Indian Origin को भी शामिल किया गया है . NRI वो लोग कहलाते हैं जो भारतीय हैं लेकिन लंबे समय से विदेश में रह रहे हैं .

जबकि Persons of Indian Origin उन्हें कहा जाता है जिन्होंने अब किसी दूसरे देश की नागरिकता ले ली है . या फिर कोई ऐसा व्यक्ति जिसका जन्म विदेश में हुआ है..लेकिन उसके माता-पिता भारतीय मूल के हैं . पूरे विश्व में जहां भारतीय अपनी ताकत और प्रतिभा दिखा रहे हैं, वहीं भारत के राष्ट्रगान का सम्मान भी अब विदेशों में हो रहा है. ऐसी ही एक तस्वीर आज अमेरिका से आई है. Washington में भारत और अमेरिका की सेनाओं के संयुक्त युद्धाभ्यास के समापन में अमेरिकी सेना ने भारतीय सैनिकों के लिए हमारे राष्ट्रगान की धुन बजायी . आज आपको भी ये Video देखना चाहिए...

इससे पहले सोमवार को भी अमेरिकी सैनिक. भारतीय सैनिकों के साथ असम रेजीमेंट के सैनिक शहीद बदलू राम की याद में बने गाने पर थिरकते नजर आए थे. ये Video भारत और अमेरिका की सेना के बीच बन रहे नये रिश्तों का संकेत है. आपसी विश्वास का एक नया माहौल अब दोनों देशों के बीच बन रहा है. 

हमने आपको दिखाया कि कैसे अमेरिका जैसे शक्तिशाली देश में भारतीयों को जबरदस्त सम्मान मिलता है. इस सम्मान का कारण सिर्फ उनका आर्थिक और राजनीतिक प्रभाव नहीं है . बल्कि अमेरिका में भारतीय समुदाय को सबसे अनुशासित, संस्कारी और कानूनों का पालन करने वाला माना जाता है.

अमेरिका में होने वाले कुल अपराधों में से एशियाई मूल के लोग सिर्फ 0.7 प्रतिशत अपराध करते हैं और इसमें भी भारतीयों की हिस्सेदारी ना के बराबर है . यानि जब भारतीय विदेश जाते हैं, तो वहां के हर कानून का सम्मान करते हैं,अपनी जिम्मेदारियों को समझते हैं . लेकिन हमारे देश में जब कोई नया कानून लाया जाता है तो उसका विरोध शुरू हो जाता है. लोगों को जान से ज्यादा चालान की चिंता सताने लगती है. और कानून का विरोध करने के चक्कर में लोग कानूनों का ही उल्लंघन करने लगते हैं .