ZEE जानकारी: आखिर जनता कब तक रहेगी प्याज के आंसू

आज देश भर के बाजारों में प्याज की मात्रा कम है, क्योंकि डिमांड ज्यादा है और प्याज की सप्लाई कम हो रही है. इसलिए प्याज के दाम मदुरई में 180 रुपए किलो तक पहुंच गए हैं.

ZEE जानकारी: आखिर जनता कब तक रहेगी प्याज के आंसू

आपने कुछ युवाओं की कहानी देखी जो सफलता संभाल नहीं पा रहे हैं. अब नए भारत की तस्वीर देखिए जहां दुकानदार... प्याज खरीदने आई भीड़ नहीं संभाल पा रहे हैं. आंध्र प्रदेश के विजयनगरम में 25 रुपए किलो प्याज खरीदने के लिए हजारों की भीड़ इकट्ठा हो गई. यहां 4 लोगों ने मिलकर बाजार का गेट बंद करने की कोशिश की... इस Market का Manager..लोगों की भीड़ देखते हुए Gate खोलने से डर रहा था . लेकिन प्याज खरीदने के लिए पहुंचे लोगों की भीड़ के सामने इनकी ताकत कम पड़ गई . थोड़ी देर में ही लोगों ने गेट खोल दिया और इसके बाद वहां भगदड़ मच गई और लोग एक दूसरे को रौंदते हुए दुकानों की तरफ भागने लगे .

भीड़ के धक्के से वहां खड़े एक बुजुर्ग जमीन पर गिर गए... अगर लोगों ने उनको बचाया ना होता तो शायद भीड़ उन्हें कुचलकर आगे बढ़ जाती . ये तस्वीरें देखकर ऐसा लग रहा है मानो देश में अब प्याज के लिए दंगे भी हो सकते हैं. ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि देश के ज्यादातर शहरों में प्याज की कीमत सौ रुपए किलोग्राम से ज्यादा है... और इस बाजार में सिर्फ 25 रुपए किलो प्याज मिल रहा था . यानी देश में प्याज की कमी अब एक जानलेवा संकट बन सकती है.

आज देश भर के बाजारों में प्याज की मात्रा कम है, क्योंकि डिमांड ज्यादा है और प्याज की सप्लाई कम हो रही है. इसलिए प्याज के दाम मदुरई में 180 रुपए किलो तक पहुंच गए हैं... और दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में प्याज की कीमत कम से कम 120 रुपए या उससे ज्यादा है. हर जगह की मंडियों और बाजार में प्याज कम है लेकिन सोशल मीडिया में इसकी कोई कमी नहीं है.

आज पूरे दिन Twitter, Facebook और Instagram पर लोगों ने प्याज पर तरह तरह के Memes और Jokes शेयर करके अपना दुख कम करने की कोशिश की है. और इसकी वजह है संसद में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का प्याज पर दिया गया बयान . सबसे पहले ये बयान सुनिए और फिर सोचिए कि क्या देश में प्याज की कीमतों पर काबू पाने के लिए ऐसे वक्तव्य कारगर सिद्ध हो सकते हैं ?
 

फ्रांसीसी क्रांति के समय आंदोलन कर रहे लोगों को देख कर वहां की रानी ने महल के कर्मचारियों से वजह पूछी तो पता चला की वे रोटी की कमी से आंदोलित हैं. रानी ने जवाब दिया की अगर रोटी की कमी है तो लोग केक क्यों नहीं खाते. अनिभिग्यता में दिए गए बयान अक्सर उलटे पड़ जाते हैं. प्याज की बढ़ रही कीमतों को रोकने के लिए आज गृह मंत्री अमित शाह ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ मीटिंग की .

अगर बाजार में प्याज पर्याप्त मात्रा में हो तो इसके दाम कम हो सकते हैं . इसलिए 17 हजार टन से ज्यादा प्याज Turkey और Egypt से मंगवाया जा रहा है. ये प्याज 15 दिसंबर के बाद बाज़ार में पहुंच जाएगा . Turkey से ही 4 हजार टन प्याज की अगली खेप 15 जनवरी तक भारत पहुंच जाएगा . प्याज की कीमतों के बढ़ने की बड़ी वजह है.

प्याज उत्पादक प्रमुख राज्यों में ज्यादा बारिश से प्याज की फसल को हुआ नुकसान. जिसकी वजह से प्याज का उत्पादन पिछले वर्ष के मुकाबले 26 प्रतिशत कम हुआ है.प्याज की कीमतें जिस रफ्तार से बढ़ रही हैं.. हो सकता है आने वाले समय में सोने की तरह प्याज का भी Electronic Traded Fund यानी ETF लॉन्च हो जाए .

इसके अंतर्गत हर महीने आप एक बंधी हुई रकम इसमें डालें और ताकी अवधि पूरी होने के बाद आपको असली प्याज मिले वो भी बोनस के साथ.प्याज की कीमतों की डबल सेंचुरी देखकर अब आम आदमी प्याज पर सब्सिडी चाह रहा है... संभव है प्याज के दाम कम करके सरकार आपको ये सब्सिडी दे भी दे. भविष्य में हो सकता है बाजार में प्याज ही नहीं... चावल, गेहूं और फलों की कीमतें भी सैकड़ों रुपए प्रति किलो हो जाए... ऐसा इसलिए होगा क्योंकि हमारे देश की मिट्टी बीमार हो रही है .