close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Zee Jaankari: PoK में मानवाधिकार उल्लंघन पर इमरान खान क्यों हैं चुप

पोखरण के बाद अब आपको पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर का हाल बताते हैं. आज PoK के मुजफ्फराबाद से पाकिस्तानी सेना के अत्याचार की तस्वीरें आईं हैं.

Zee Jaankari: PoK में मानवाधिकार उल्लंघन पर इमरान खान क्यों हैं चुप

पोखरण के बाद अब आपको पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर का हाल बताते हैं. आज PoK के मुजफ्फराबाद से पाकिस्तानी सेना के अत्याचार की तस्वीरें आईं हैं. मुजफ्फराबाद में शांति से आज़ादी की मांग कर रहे हज़ारों लोगों पर. पाकिस्तान के सुरक्षाबलों ने लाठीचार्ज किया है. PoK के निर्दोष लोगों को पीटा गया. और शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रही महिलाओं को भी नहीं बख्शा गया . प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले भी दागे गए. बेरहमी से हुई पिटाई के कारण 2 प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई है. और 100 से ज़्यादा लोग घायल हो गए.

आज आप मुजफ्फराबाद के इन पीड़ितों का दर्द और उनकी मांगें सुनिए. तब आप ठीक से समझ पाएंगे कि. पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को आज़ाद कराना कितना ज़रूरी हो गया है. अब हम आपको PoK की जनता पर हुए इस जुल्म की एक और वजह बताते हैं. पाकिस्तान की सरकार और वहां की सेना को गुस्सा सिर्फ इस बात से नहीं आया कि मुजफ्फराबाद में हजारों लोगों ने सड़क पर उतरकर इमरान सरकार के खिलाफ नारेबाजी की...

बल्कि चिढ़ इस बात से ज्यादा थी कि ये सब तब हुआ, जब पाकिस्तान की सेना कुछ विदेशी राजनयिकों को लेकर PoK पहुंची थी. पीओके में दो दिन पहले भारत की सेना ने आतंकी अड्डे तबाह किए थे, वो जगह दिखाने ले गई थी. लेकिन इसी दौरान यहां के लोगों ने विदेशी मेहमानों के सामने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर का सच.

दुनिया को बताना शुरू कर दिया . ये लोग पाकिस्तान की ज़्यादतियों के खिलाफ आवाज़ें उठाने लगे... और इस चक्कर में पाकिस्तान सरकार का भारत के खिलाफ झूठे प्रचार का दांव उल्टा पड़ गया. इसके बाद पाकिस्तान के सुरक्षाबलों ने निर्दोष लोगों पर लाठियां चला दीं. अब इमरान खान से ये सवाल पूछा जाना चाहिए कि PoK में मानवाधिकार उल्लंघन पर वो चुप क्यों हैं.

पाकिस्तान की सेना की बर्बरता पर उन्होंने आंखें क्यों बंद कर रखी हैं? पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में अत्याचार का लंबा इतिहास है... और वर्तमान में इसकी गूंज कराची और लाहौर में भी सुनाई दे रही है . आपको अब लाहौर से आई एक तस्वीर दिखाते हैं... लाहौर में PoK के प्रधानमंत्री राजा फारुक हैदर ख़ान.

भारत के जम्मू-कश्मीर से जुड़े एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे . यहां उन्होंने भारत पर जम्मू-कश्मीर में मानवाधिकार के उल्लंघन का झूठा आरोप लगाया . लेकिन इसी दौरान कार्यक्रम में मौजूद मुजफ्फराबाद के एक मानवाधिकार कार्यकर्ता ने PoK का सच बता दिया .