ZEE जानकारी: जानिए, PM मोदी ने अमेजन के संस्थापक को क्यों नहीं दिया मिलने का टाइम

अब बात दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति Jeff Bezos की. जो इन दिनों भारत दौरे पर हैं. इस दौरान उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर दाकर उन्हें श्रद्धांजलि भी थी.

ZEE जानकारी: जानिए, PM मोदी ने अमेजन के संस्थापक को क्यों नहीं दिया मिलने का टाइम

अब बात दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति Jeff Bezos की. जो इन दिनों भारत दौरे पर हैं. इस दौरान उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर दाकर उन्हें श्रद्धांजलि भी थी. लेकिन गांधी जी के देश भारत में जब लोग किसी की नीतियों से नाराज़ होते हैं तो वो उस व्यक्ति के खिलाफ असहयोग आंदोलन शुरू कर देते हैं और Jeff Bezos के साथ भी बिल्कुल ऐसा ही हो रहा है. दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी Amazon के CEO, Jeff Bezos तीन दिनों की भारत की यात्रा पर हैं. आज वो अपनी कंपनी से जुड़े एक कार्यक्रम में शामिल हुए. लेकिन, असली खबर ये नहीं है.

महत्वपूर्ण खबर ये है कि इस बार Jeff Bezos को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने मिलने का समय नहीं दिया. सूत्रों का कहना है कि Bezos ने प्रधानमंत्री और वाणिज्य मंत्री से समय मांगा था, लेकिन उन्हें समय नहीं मिला. ये वही Jeff Bezos हैं, जो वर्ष 2014 में भी भारत आए थे, और उस वक्त प्रधानमंत्री मोदी ने अपने आवास पर उनसे मुलाकात की थी. तो इस बार ऐसा क्या हुआ. इसकी 3 वजह बताई जा रही है.

पहली वजह ये है कि देश के कई शहरों में व्यापारी Amazon का ये कहते हुए विरोध कर रहे हैं कि उसकी discount policy की वजह से कारोबार का नुकसान हो रहा है. व्यापारियों के संगठन confederation of all india traders ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखी थी कि Jeff Bezos से मिलने से पहले, उनके मुद्दों पर ध्यान दें.

दूसरी वजह ये है कि CCI यानी competition commission of india ने Amazon के खिलाफ जांच शुरू कर दी है. आरोप है कि Amazon भारी-भरकम छूट देकर बाज़ार में अपना एकाधिकार स्थापित करने की कोशिश कर रही है.

Jeff Bezos को प्रधानमंत्री की तरफ से समय नहीं मिलने की तीसरी वजह ये है कि उनके अखबार Washington Post में लगातार भारत विरोधी खबरें छप रही हैं. इस अखबार में 16 मई 2019 को छपे एक लेख का शीर्षक था- You know India’s democracy is broken when millions wait for election results in fear. 23 मई को आम चुनाव के नतीजे आए थे, उससे ठीक एक सप्ताह पहले इस अखबार ने लिखा कि नतीजों का इंतजार कर रहे भारत के लोग डरे हुए हैं.

इसी तरह 17 अगस्त 2019 को यानी कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के 12 दिनो कें बाद इस अखबार ने लिखा कि Modi has stoked Kashmir’s anger and stained all India’s democracy यानी मोदी ने भारत के लोकतंत्र पर दाग लगा दिया है और कशमीर की नाराजगी बढ़ा दी है.

20 दिसंबर 2019 को Washington Post ने फिर एक बार भारत विरोधी लेख लिखा जिसका शीर्षक था - India marks a new low for a democracy यानी भारत का लोकतंत्र बद-तर स्थिति में पहुंच गया.अब आप समझ सकते हैं कि दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति के साथ भारत इस बार सख्ती क्यों दिखा रहा है.