Zee Jankari: ऑस्ट्रेलिया के बड़े अखबारों ने अपना फ्रंट पेज खाली क्यों छोड़ा?

ऑस्ट्रेलिया में पिछले कई दिनों से मीडिया की आज़ादी को लेकर बहस छिड़ी हुई है. ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने पिछले 20 वर्षों में 60 से ज़्यादा ऐसे कानून बनाए हैं. जिससे मीडिया के लिए जानकारियां जुटाना बेहद मुश्किल हो गया है.लेकिन सोमवार की सुबह ऑस्ट्रेलिया के अखबारों ने...इस तरह के कानूनों का विरोध करने के लिए जो तरीका अपनाया...

Zee Jankari: ऑस्ट्रेलिया के बड़े अखबारों ने अपना फ्रंट पेज खाली क्यों छोड़ा?

DNA में अब हम मीडिया की आज़ादी से जुड़ा एक विश्लेषण करेंगे. ऑस्ट्रेलिया में पिछले कई दिनों से मीडिया की आज़ादी को लेकर बहस छिड़ी हुई है. ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने पिछले 20 वर्षों में 60 से ज़्यादा ऐसे कानून बनाए हैं. जिससे मीडिया के लिए जानकारियां जुटाना बेहद मुश्किल हो गया है.लेकिन सोमवार की सुबह ऑस्ट्रेलिया के अखबारों ने...इस तरह के कानूनों का विरोध करने के लिए जो तरीका अपनाया...वो हैरान कर देने वाला था . सोमवार को ऑस्ट्रेलिया के सभी अखबारों ने अपने पहले पन्ने पर जो भी शब्द लिखे थे...उन सभी को काली स्याही से रंग दिया. यानी अपना पहला पेज.

पूरा काला कर दिया. इसके अलावा अखबारों ने पहले पन्ने पर एक लाल मुहर लगा दी...जिस पर लिखा था - Secret . अखबारों ने पहले पेज पर ये भी लिखा है...कि 'जब सरकार आपसे सच दूर रखती हो, तो वे क्या कवर करेंगे?' अखबारों की इस मुहिम को Right To Know नाम दिया गया है.

यानी जानने का अधिकार . इस अभियान को लेकर सभी अखबारों का कहना है...कि ये Campaign पत्रकारों के लिए नहीं है...बल्कि ऑस्ट्रेलिया के लोकतंत्र के लिए है . दुनिया में ऐसा पहली बार हुआ है...जब एक देश के सभी अखबारों ने एक साथ Black Out किया हो. ऑस्ट्रेलिया की सरकार सिर्फ प्रेस पर पाबंदियां ही नहीं लगा रही है.

बल्कि नए कानूनों के तहत पत्रकारों पर कार्रवाई भी कर रही है. 15 अक्टूबर को ऑस्ट्रेलिया की पुलिस ने एक पत्रकार Annika Smethurst (एनिका स्मिथ्रस्ट) के घर छापा मारा था . एनिका पर एक ऐसी जानकारी छापने का आरोप था...जिसे सरकार Official Secret Act के तहत गोपनीय जानकारी मानती है.

इस पूरे मामले पर Sydney से Indian Association of Australia के Vice President...कुशाग्र ने Zee News के लिए एक रिपोर्ट तैयार की है . इस रिपोर्ट से आप आसान भाषा में ये समझ पाएंगे...कि इस अभियान के पीछे आखिर क्या वजह है.