close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Zee Jankari: अवॉर्ड वापसी गैंग और 'Placard गैंग' ने कठुआ मामले को कर लिया था हाइजैक!

ये हमारे देश का दुर्भाग्य है कि कठुआ केस में ZEE NEWS को कोर्ट से मिली तारीफ जैसी अच्छी खबरों पर कभी मुहिम नहीं चलाई जाती है. इस तरह की घटनाओं को जानबूझकर दबा दिया जाता है. जबकि Celebrities द्वारा प्रायोजित देशविरोधी और समाजविरोधी एजेंडा तुरंत ख़बरों में आ जाता है.

Zee Jankari: अवॉर्ड वापसी गैंग और 'Placard गैंग' ने कठुआ मामले को कर लिया था हाइजैक!

विशाल जंगोत्रा को जम्मू-कश्मीर पुलिस की Special Investigation Team ने अपनी चार्जशीट में मुख्य आरोपी बनाया था. आज आपको विशाल जंगोत्रा के 3 दोस्तों की गवाहियां भी ध्यान से सुननी चाहिए. इन तीनों के नाम हैं नीरज शर्मा, सचिन शर्मा और साहिल शर्मा. कठुआ गैंगरेप और हत्या के मामले में इनकी गवाही बहुत महत्वपूर्ण थी. ये तीनों विशाल जंगोत्रा के साथ मुज़फ्फरनगर में पढ़ते थे और तीनों एक ही घर में किराए पर रहते थे. 2 मई 2018 को ZEE NEWS के संवाददाता राजू केरनी ने इनसे बातचीत की थी और तब इन तीनों लड़कों ने कश्मीर क्राइम ब्रांच पर टॉर्चर करने के गंभीर आरोप लगाए थे.

कठुआ केस का इस्तेमाल करके कुछ बुद्धिजीवी लोगों ने देश को ही मुजरिम बना दिया. देश भर में धरना प्रदर्शन और सोशल मीडिया पर नकारात्मक अभियान चलाकर एक एजेंडा चलाया गया था. आपने इससे पहले अफज़ल प्रेमी गैंग, अवॉर्ड वापसी गैंग और टुकड़े टुकड़े गैंग की देशविरोधी हरकतों के बारे में देखा और सुना होगा.

लेकिन कठुआ मामले को हाइजैक करके देश के सामाजिक सौहार्द को खराब करने का काम किया 'Placard गैंग' ने. भारत को बदनाम करने वाले काम में इनको बाकी देशविरोधी गैंग्स और विदेशी मीडिया का भी पूरा समर्थन मिला था. हमारी फिल्म इंडस्ट्री की कई अभिनेत्रियों ने इस 'Placard गैंग' को लीड किया. स्वरा भास्कर, करीना कपूर, हुमा कुरैशी और कोंकणा सेन जैसी अभिनेत्रियों ने Placard पर... "मैं हिंदुस्तान हूं... मैं शर्मिंदा हूं"..

जैसी बातें लिखकर सोशल मीडिया पर ट्रेंड कराने का काम किया. Placard की मदद से जानबूझकर ये बातें फैलाई गईं कि पीड़िता के साथ देवस्थान में गलत काम किया गया. जबकि 10 जून 2019 को पठानकोट स्पेशल कोर्ट के फैसले में देवस्थान का कोई जिक्र नहीं था. लेकिन 'Placard गैंग' ने जानबूझकर देवस्थान में बुरा काम किए जाने का भ्रम फैलाया.

इन Celebrities द्वारा चलाए गए एजेंडे की स्क्रिप्ट में पीड़िता और आरोपियों के धर्म की बात को विशेष तौर पर बताया गया. और पूरे मुद्दे में हिंदू मुस्लिम वाला एंगल डाला गया. Designer तरीके से विरोध प्रदर्शन करके इन Celebrities ने न्याय दिलाने का अभिनय किया.

ये हमारे देश का दुर्भाग्य है कि कठुआ केस में ZEE NEWS को कोर्ट से मिली तारीफ जैसी अच्छी खबरों पर कभी मुहिम नहीं चलाई जाती है. इस तरह की घटनाओं को जानबूझकर दबा दिया जाता है. जबकि Celebrities द्वारा प्रायोजित देशविरोधी और समाजविरोधी एजेंडा तुरंत ख़बरों में आ जाता है.