ZEE जानकारी: अनमोल है जिंदगी, कोहरे में गाड़ी चलाते समय रखें इन बातों का ख्याल

कोहरा में कारण विजिबिलिटी काफी कम हो गई है, ऐसे में गाड़ी चलाते समय इन बातों का ख्याल रखना जरूरी है.  

ZEE जानकारी: अनमोल है जिंदगी, कोहरे में गाड़ी चलाते समय रखें इन बातों का ख्याल

चंडीगढ़: उत्तर भारत में ठंड के साथ साथ कोहरा भी बढ़ गया है. धुंध के कारण विजिबिलिटी काफी कम हो गयी है. यही कारण है कि हर रोज़ सड़कोंं पर दुर्घटनाएं हो रही है.  इन हादसों में अभी तक कई मौतें हो चुकी है. चंडीगढ़ के ट्रैफिक मार्शल बताते हैं कि कोहरे के बीच सड़क पर सुरक्षित सफर के लिए चालक का जागरूक होना ज़रूरी है. 

ट्रैफिक मार्शल सुरेश शर्मा ने ज़ी मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि ज्यादातर दुर्घटनाएं इसलिए होती है कि लोग कोहरा होने के बावजूद अपनी गाड़ी की रफ्तार धीरे नहीं करते. उन्होनें कहा ये ध्यान रखना ज़रूरी है जितनी आपकी गाड़ी की स्पीड है, उतनी ही दुर्घटना की संभावन बढ़ जाती है. ट्रैफिक मार्शल सुरेश ने बताया कोहरे में बचाव कैसे करें. 

-विजिबिलिटी बेहद खराब होने पर सड़क पर कलर की गाइडलाइन को फॉलो करें. 
-पैदल, साइकिल और दो पहिया पर चलने वाले संभव हो तो ब्लैक या डार्क कलर के कपड़े न पहनें.
-पैदल, साईकिल औऱ दो पहिया चलाने वाले रेडियम जैकेट पहनें.
-वाहनों पर खासतौर से साईकिल पर रेडियम टेप का इस्तेमाल करें जो लोग स्कूटर या बाईक पर जाते है वो हेलमेट पर भी रे़डियम टेप का इस्तेमाल करें.
-कोहरे में गाड़ी को सड़क पर पार्क न करें, अगर थोड़ी देर के लिए सड़क पर गाड़ी रोक रहे हैं तो दोनों इंडिकेटर ऑन रखें।
-कोहरे के दौरान लो-बीम हेड लाइट का इस्तेमाल करें, धुंध में हाई-बीम हेड लाइट कारगर नहीं होती है.
-कोहरे के कारण विजिबिलिटी कम हो जाती है तो ऐसी स्थिति में फॉग लाइट को उपयोग अवश्य करें या लाइट पर पीली पन्नी लगाएं।

ट्रैफिक मार्शल अशोक मनचंदा ने कहा कि कोहरे के कारण होने वाली दुर्घटनाओं में पैदल चलने वाले और साइकिल और बाइक पर सवार हादसों का शिकार बनते हैं. पैदल चलने वाले और दो पहिया वाहन पर सवार लोगों को रेडियम जैकेट पहननी चाहिए. रिफलेक्टर जैकेटों की कीमत 60 से 100 रुपये तक है जो हर किसी के बजट में है.  उन्होनें कहा दो पहिया वाहन चालक कोहरे में रिफलेक्टर और रेडियम टेप का इस्तेमाल करें ताकि विजिबिलटी कम होने के बावजूद भी दूर से वो दिखाई दें. मार्शल अशोक ने कहा कि हेलमेट पर भी रेडियम टेप लगानी चाहिए. 

अकसर देखा जाता है कि कोहरे के कारण शीशे धुंधले हो जाते है ऐसे में लोग शीशा साफ किए बिना ही ड्राइव करना शुरू कर देतें है. ट्रैफिक मार्शल सुखजीत कौर ने बताया कि अगर शीशे धुंधले है तो सबसे पहले उसे कॉटन के कपड़े से साफ करें या इसके लिए पेपर का इस्तेमाल करें. कौर ने बताया कि शीशे पर जमी धुंध को एसी ऑन करके हटाया जा सकता है. ये ध्यान भी ज़रूर रखें अगर आप गाड़ी में हीटर चला रहें है तो वेंटिलेशन के लिए शीशा थोड़ा सा खोलकर रखें. उन्होंने बताया कि आजकल की गाडियों में नए-नए फीचर्स आ रहें है. युवाओं को चाहिए वो इसके बारें में बड़ों को जागरूक करें. उन्होनें कहा ड्राइव करते हुए ट्रैफिक नियमों का पालन करना सबसे अहम है. 

उन्होनें बताया ओवरस्पीड ड्राइविंग, ड्रंक एंड ड्राइव, लॉउड म्यूजिक में ड्राइविंग, रेड लाइट जंप, रांग टर्न, रांग साइड-लेन में ड्राइविंग, सड़क किनारे रांग पार्किंग और बिदाउट हेलमेट ड्राइविंग जानलेवा हादसे का कारण बनती हैं. इसके साथ वाहनों की हेड लाइट, फॉग लाइट, इंडिकेटर, ब्रेक, टायर, विंडस्क्रीन वाइपर, बैटरी और कार हीटिंग सिस्टम मेंटेन रखें. 

ट्रैफिक मार्शल सुरेश शर्मा ने बताया कि सडकों पर कलर की गाइडलाइन बहुत सारी जगहों पर मिटी हुई है जिसको लेकर प्रशासन को कोहरा शुरू होने से पहले से कदम उठाने चाहिए. इसके साथ ही चालक के जागरूक होने से सड़क हादसों में कमी लाई जा सकती है.