close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Zee जानकारी : नदी, नालों के सहारे भारतीय सीमा में घुसते हैं आतंकी

Zee जानकारी : नदी, नालों के सहारे भारतीय सीमा में घुसते हैं आतंकी

आपने अक्सर सुना होगा, कि भारत की सीमा में घुसपैठ के लिए आतंकवादी अक्सर नदी और नालों का इस्तेमाल करते हैं। जम्मू-कश्मीर की चिनाब नदी, तवी नदी, झेलम नदी और कठुआ और पंजाब के मध्य में रावी नदी पाकिस्तान को भारत से जोड़ती हैं। और इन्हीं नदियों को अपना रास्ता बनाकर आतंकवादी अक्सर घुसपैठ करते हैं। पंजाब में पाकिस्तान से सटे इलाकों में घुसपैठ करने के लिए आतंकवादी अक्सर रावी नदी का इस्तेमाल करते हैं।

- पंजाब में भारत और पाकिस्तान की सीमा क़रीब 553 किलोमीटर लम्बी है। पंजाब के 6 ज़िलों के 135 गांव ऐसे हैं, जो International Border के बहुत पास हैं।

- रावी नदी हिमाचल प्रदेश से निकलती है और पंजाब और जम्मू-कश्मीर से होते हुए पाकिस्तान के मुल्तान के क़रीब चेनाब नदी में जाकर मिल जाती है। इस नदी की कुल लम्बाई क़रीब 720 किलोमीटर है।

- पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले में शामिल आतंकवादियों ने भी, घुसपैठ के लिए रावी नदी का ही सहारा लिया था।

- नदी के सहारे घुसपैठ के लिए अक्सर आतंकवादियों को पाकिस्तानी सेना के कैंप में पानी में रहने और तैरने की विशेष ट्रेनिंग दी जाती है।

- इसके लिए ऐसे आतंकियों को चुना जाता है, जिनका पानी में रहने का Stamina काफी ज़्यादा होता है।

- ऐसे आतंकवादी ठंडे से ठंडे, गर्म से गर्म और गहरे से गहरे पानी में लंबे वक़्त तक तक अपनी सांसें रोक सकते हैं।