ZEE जानकारी: जानें चीन में फैले Corona वायरस का इलाज इतना मुश्किल क्यों है?

आप इस खबर को सिर्फ कुछ देशों में फैली महामारी मत समझिएगा क्योंकि Corona वायरस के संदिग्ध मरीज भारत में भी पाए गए हैं. इसलिए आज हम आपको इस वायरस का सामना करने के लिए ज़रूरी जानकारी दें रहे हैं. 

ZEE जानकारी: जानें चीन में फैले Corona वायरस का इलाज इतना मुश्किल क्यों है?

अब आपको आज की सबसे बड़ी इंटनेशनल खबर बताते हैं. दुनिया में एक नई महामारी फैल रही है और इससे China सहित 8 देशों में करीब 900 लोग पीड़ित हैं और 26 लोगों की मौत हो चुकी है. और दुनिया में फैली इस महामारी की वजह है. Corona वायरस, इस वायरस को रोकने के लिए चीन ने अपने 14 शहरों को Lockdown कर दिया है यानी इन शहरों में यातायात पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी गई है. और इन शहरों में Corona वायरस से पीड़ित लोगों को आम लोगों से अलग Isolation Wards में रखा जा रहा है.

लेकिन क्या भारत में ऐसा करना संभव है? क्या हम किसी बीमारी से बचने के लिए अपने दो या तीन शहरों को बंद कर सकते हैं? क्या भारत में कुछ करोड़ लोगों को Lockdown करके रखा जा सकता है? अगर इस सवाल का जवाब नहीं है तो ये हमारे लिए चिंता का विषय है . क्योंकि Corona वायरस चीन के बाद भारत में भी पहुंच सकता है.

आप इस खबर को सिर्फ कुछ देशों में फैली महामारी मत समझिएगा क्योंकि Corona वायरस के संदिग्ध मरीज भारत में भी पाए गए हैं. इसलिए आज हम आपको इस वायरस का सामना करने के लिए ज़रूरी जानकारी दें रहे हैं. Corona वायरस के बारे में पूरी जानकारी देने के लिए हम आपको चीन के वुहान शहर ले चलते हैं. वुहान में ही पहली बार इस वायरस का पता चला था और अब ये वायरस चीन से 12 हजार किलोमीटर दूर अमेरिका तक पहुंच गया है.

दिसंबर 2019 में वुहान शहर के Sea Food Market से Corona वायरस फैलना शुरू हुआ. ये वायरस यहीं पर किसी जानवर के शरीर से इंसानों तक पहुंचा था. वैज्ञानिकों के मुताबिक जानवरों से इंसानों में फैलने से इस वायरस में कुछ ऐसे बदलाव आ गए हैं जिसकी वजह ये वायरस अपने स्वरूप को लगातार बदल रहा है और तेज गति से अपने जैसे और वायरस बना रहा है इसलिए इसका इलाज ढूंढ पाना मुश्किल हो रहा है.

आशंका ये भी है कि अबतक चीन में 10 हजार लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं. वैज्ञानिकों के मुताबिक Corona वायरस से पीड़ित एक व्यक्ति से ये बीमारी, कम से कम 2 और लोगों में फैल रही है. यानी अब इसके महामारी बनने का खतरा बढ़ गया है. इस वायरस से निपटने के लिए चीन की सरकार ने वुहान सहित 14 शहरों को Lockdown कर दिया है. यहां की सड़कों पर बैरिकेड लगा दिए गए हैं, ट्रेनें Cancel कर दी गई हैं और Airports भी बंद कर दिए गए हैं. यानी इन 14 शहरों में किसी भी व्यक्ति को आने या जाने की इजाजत नहीं हैं. इन शहरों में 4 करोड़ से ज्यादा लोग रहते हैं जो इस वक्त कर्फ्यू जैसे हालात में रह रहे हैं.

आज वुहान शहर की सड़कें खाली हैं और मेट्रो का इस्तेमाल भी बहुत कम लोग कर रहे हैं. वुहान एक ऐतिहासिक शहर है. यहां बड़ी संख्या में Tourist आते हैं लेकिन इस वक्त इस शहर के 1 करोड़ से ज्यादा लोगों ने खुद को अपने घरों में ही बंद कर लिया है. अब कई ऐसे Videos सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे हैं जिससे Corona वायरस का डर और बढ़ रहा है. इन Videos में सड़कों पर चल रहे लोग अचानक जमीन पर गिर जाते हैं. और दावा किया जा रहा है कि ये वीडियो चीन के वुहान शहर के हैं.

अब चीन के अलग अलग शहरों के अस्पतालों में जांच करवाने के लिए हजारों लोगों की भीड़ पहुंच रही है. और वुहान में मरीजों के लिए 1000 बेड का एक नया अस्पताल बनाया जा रहा है जो सिर्फ 10 दिनों में बनकर तैयार हो जाएगा. यानी वायरस का मुकाबला करने के लिए अब चीन की सरकार तेजी से काम कर रही है. वहां पर Surgical Mask खरीदने के लिए दुकानों और अस्पतालों में लंबी लाइन लगी हुई है. कई जगहों पर मास्क की कालाबाजारी हो रही है और कुछ शहरों में अधिक डिमांड की वजह से मास्क का स्टॉक भी खत्म हो गया है.

कल चीन में Chinese New Year मनाया जाएगा और इस मौके पर चीन के करोड़ों लोग अपने परिवार से मिलने के लिए अपने घर जाते हैं. लेकिन Corona वायरस के डर से New Year Celebration को कैंसल कर दिया गया है. चीन की सरकार को डर है कि इस महामारी से कानून व्यवस्था की स्थिति खराब हो सकती है इसलिए वुहान की सड़कों पर अब सेना को तैनात कर दिया गया है.

चीन की राजधानी बीजिंग में The Great Wall of China का करीब 80 किलोमीटर का एक हिस्सा सहित कई और Tourist Spots को बंद कर दिया गया है. और ये सब हो रहा है Corona वायरस की वजह से. अब सबसे पहले आप समझिए कि ये वायरस क्या होता है? Corona नाम, इस वायरस के आकार की वजह से रखा गया है. Microscope से इस वायरस को देखने पर ये एक Crown यानी मुकुट जैसा दिखता है. इसलिए Crown के तर्ज पर इसका नाम Corona रखा गया था.

World Health Organisation ने Corona वायरस से हुए इस संक्रमण का नाम New Corona Virus रखा है. वर्ष 2003 में फैले SARS(सार्स) जैसे घातक संक्रमण से लेकर जुकाम जैसी मामूली बीमारी भी इसी Corona वायरस से होती है. SARS(सार्स) से उस समय 800 लोगों की मौत हो गई थी.

अब ये समझिए कि Corona वायरस का इलाज इतना मुश्किल क्यों है? ये वायरस पीड़ित व्यक्तियों के DNA को प्रभावित करके अपना स्वरूप लगातार बदलता रहता है. इसलिए इसका कोई सटीक इलाज ढूंढना वैज्ञानिकों के लिए अब भी एक बड़ी चुनौती है. इसी वजह से दशकों के प्रयास के बाद भी ज़ुकाम को पूरी तरह ठीक करने वाला इलाज अबतक नहीं मिल पाया है. लेकिन समस्या ये है कि ज़ुकाम से लोगों की मौत नहीं होती है लेकिन Corona वायरस लगातार लोगों की जान ले रहा है.

फिलहाल अमेरिका और China के वैज्ञानिक मिलकर इस नए Corona वायरस के लिए वैक्सीन तैयार करने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन ये काम इतना मुश्किल है कि अगले एक वर्ष तक इस वैक्सीन के बनने की संभावना कम है. इस वायरस के बारे में और जानकारी के लिए आपको वुहान शहर की एक रिपोर्ट दिखाते हैं. यही पर इस वायरस का पहली बार पता चला था... इसलिए इसके बारे में संपूर्ण जानकारी आपको वुहान शहर में ही मिलेगी.