close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE जानकारीः आंधी-तूफान की भविष्यवाणी 'हवा' में उड़ गई?

पश्चिम बंगाल के राजनीतिक तूफान वाले मौसम के बाद देश के मौसम की बात करते हैं. क्योंकि, आज ये समझना ज़रुरी है, कि हमारे देश का मौसम विभाग, बारिश, तूफान, मॉनसून और सूखे को लेकर सटीक भविष्यवाणियां क्यों नहीं कर पाता? 

 ZEE जानकारीः आंधी-तूफान की भविष्यवाणी 'हवा' में उड़ गई?

पश्चिम बंगाल के राजनीतिक तूफान वाले मौसम के बाद देश के मौसम की बात करते हैं. क्योंकि, आज ये समझना ज़रुरी है, कि हमारे देश का मौसम विभाग, बारिश, तूफान, मॉनसून और सूखे को लेकर सटीक भविष्यवाणियां क्यों नहीं कर पाता? मौसम विभाग ने कुछ दिन पहले ये चेतावनी जारी की थी कि उत्तर भारत में तूफान आने वाला है. इसलिए हमने उस दिन तैयारी की थी कि हम आपको तूफान का DNA टेस्ट दिखाएंगे. लेकिन तूफान उतनी तीव्रता के साथ नहीं आया, जिसकी आशंका थी . इसके बाद मौसम विभाग ने पिछले हफ्ते शुक्रवार को एक चेतावनी जारी की थी.

जिसमें ये कहा गया था, कि रविवार और सोमवार को दिल्ली और NCR में तेज़ हवा के साथ बारिश हो सकती है. ये भविष्यवाणी की गई थी, कि हवा की रफ्तार 50 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी. लेकिन ये पूर्वानुमान गलत साबित हुआ. कल शाम को जब आंधी आई, तो हवा की रफ्तार 50 के बजाए 100 किलोमीटर प्रति घंटा से भी ज़्यादा थी.

और इस रफ्तार के लिए हमारा सिस्टम तैयार नहीं था. इसलिए कई जगहों पर दुर्घटनाएं हुईं और तेज़ हवाओं और बिजली गिरने ती वजह से 70 से ज़्यादा लोग मारे गये. मारे गए लोगों में से 42 उत्तर प्रदेश के हैं, 14 पश्चिम बंगाल के, 12 आंध्र प्रदेश के, दो दिल्ली के और एक उत्तराखंड के हैं. और ये आंकड़ा बढ़ भी सकता है. आज एक बार फिर मौसम विभाग ने अगले दो दिनों की भविष्यवाणी की है . जिसमें कहा गया है, कि जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिज़ोरम, त्रिपुरा, केरला, और कर्नाटक में बारिश हो सकती है और तेज़ हवाएं चल सकती हैं.

अगले दो दिनों को लेकर मौसम विभाग का ये कहना है, कि देश के कुछ हिस्सों में 50 से 70 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं. और पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी भी हो सकती है. इसके अलावा राजस्थान सहित कुछ हिस्सों में धूल भरी आंधी का भी अनुमान लगाया गया है .  

हालांकि ये भविष्यवाणियां सही होंगी या नहीं ? कहा नहीं जा सकता. 8 मई 2018 को मौसम विभाग की तरफ से ये चेतावनी दी गई थी, कि दिल्ली NCR सहित देश के कुछ हिस्सों में तेज़ हवाओं के साथ भारी बारिश की आशंका है. इसके बाद जगह-जगह स्कूल बंद कर दिए गए. लोगों को सलाह देते हुए एडवाइज़री जारी कर दी गई . ये कहा गया कि बहुत ज़रूरी काम न हो तो लोग घर से बाहर न निकलें. लेकिन आंधी-तूफान की भविष्यवाणी उन्हीं दावों के साथ 'हवा' में उड़ गईं. उस दिन तूफान आया ज़रुर था. लेकिन, हवा की रफ्तार काफी कम थी. यानी मौसम विभाग जब ये कहता है, कि तूफान आएगा, तो आता नहीं.

और जब वो ये कहता है, कि हवा की रफ्तार कम होगी, उस दिन हवा मौसम विभाग के सारे दावों की पोल खोल देती है. और तूफान दोगुनी रफ्तार से आता है. भारतीय मौसम विभाग की स्थापना आज से 143 वर्ष पहले, सन 1875 में की गई थी. तब से लेकर अब तक भारत में मौसम की जितनी भी भविष्यवाणियां की गईं, उनमें से ज़्यादातर ग़लत ही साबित हुईं हैं.

वर्ष 2017 में India Meteorological Department ने बारिश को लेकर जितनी भी भविष्यवाणियां की थीं, उनमें से 44 फीसदी ग़लत साबित हुईं. हालांकि, अगर आप इसकी तुलना International Weather Agencies के आंकड़ों से करेंगे, तो हमारा मौसम विभाग कहीं नहीं ठहरता. London, Miami, New York और Dubai जैसे शहरों में मौसम विभाग की भविष्यवाणी पूरे साल भर में 80 से 85 फीसदी सही और सटीक साबित होती हैं.

अर्थव्यवस्था की रफ्तार में मॉनसून की भूमिका बेहद अहम होती है . 2014 और 2015 में अच्छी बारिश ना होने की वजह से देश के GDP को करीब 16 फीसदी का नुकसान हुआ था. बारिश का सही अंदाज़ा ना लगा पाने से हमारे किसान फसल की बुआई वक्त पर नहीं कर पाते. जिससे किसानों के साथ साथ देश की अर्थव्यवस्था को भी काफी नुकसान होता है. मॉनसून का सही अनुमान लगाए जाने से देश का कृषि उत्पादन 15 फीसदी तक बढ़ाया जा सकता है. लेकिन मौसम विभाग की भविष्यवाणी सटीक नहीं होती और हम ऐसी स्थितियों का फायदा नहीं उठा पाते .

मौसम विभाग की इन असफलताओं के बीच ये समझना भी जरूरी है कि ये अनुमान किस तरह लगाए जाते हैं और इनका मतलब क्या होता है? मौसम का पूर्व अनुमान लगाने के लिए मौसम विभाग अलग-अलग जगहों से Data को Collect करता है. फिर उन जानकारियों को System में Feed करके एक Algorithm की मदद से मौसम की भविष्यवाणी की जाती है. आसान भाषा में कहें, तो ये एक प्रकार से गणित के एक सवाल की तरह होता है. जिसमें अलग-अलग जगहों से इकट्ठा की गई जानकारियों को जोड़कर सवाल का हल निकाला जाता है. ग़लत आंकलन की एक बड़ी वजह ये है, कि हमारे पास मौसम की भविष्यवाणी करने वाले High-Tech Prediction Tools नहीं हैं .

भारत के मौसम विभाग के पास इस वक्त क़रीब 679 Automatic Weather Stations हैं .  इसके अलावा 550 Observatories, 43 Weather Balloons, 24 Radars और 3 सैटेलाइट्स हैं .  जिनसे जानकारियां हासिल की जाती हैं . लेकिन, भारत के फैलाव को देखते हुए, ये संख्या काफी कम है . जिसकी वजह से कई बार मौसम विभाग सटीक जानकारी नहीं दे पाता . एक समस्या ये भी है, कि हमारे पास मौसम वैज्ञानिकों की कमी है . समय के मुताबिक भारत में तकनीक का विकास तो हुआ है, लेकिन उस तकनीक को इस्तेमाल करने वाले Professionals और वैज्ञानिकों की संख्या नहीं बढ़ी.

जो लोग मौसम वैज्ञानिक बनते भी हैं, वो या तो विदेशों में काम करने चले जाते हैं या फिर Private Agencies को Join कर लेते हैं. जब मौसम विभाग ये कहता है कि उत्तर भारत में किसी साल सामान्य बारिश हुई .  तो उससे ये पता नहीं चलता कि किसी एक हिस्से में तो भारी बारिश की वजह से बाढ़ आ गई.

और दूसरे हिस्से में बारिश ना होने की वजह से लोग प्यासे मर रहे हैं . ये गड़बड़ी इसलिए होती है, क्योंकि फिलहाल मौसम विभाग ज़िले के आधार पर मौसम का अनुमान जारी करता है. और इन अनुमानों के लिए Input के तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले आंकड़े जिन केंद्रों में जमा होते हैं, उनके बीच कई बार 200 किलोमीटर से भी ज़्यादा की दूरी होती है. यानी मौसम का अनुमान जारी करने के लिए ज़रूरी तत्व, जैसे, धूल, एरोसोल और नमी से जुड़े आंकड़ों में बड़ा अंतर रह जाता है. और इसलिए मौसम विभाग के अनुमान में त्रुटियां देखने को मिलती हैं .

वैसे भारत जैसे लोकतंत्र में मौसम विभाग की आधी-अधूरी तैयारियों वाली भविष्यवाणी को लेकर कोई पूछताछ नहीं होती. लेकिन अगर ऐसी हालत North Korea जैसे देशों में होती, तो आप कल्पना भी नहीं कर सकते कि क्या होता ? वर्ष 2014 में North Korea के तानाशाह किम जोंग उन ने कुछ ऐसा किया था, कि पूछिए मत.

उस वक्त वहां पर मौसम की भविष्यवाणी करने वाले कर्मचारियों की सार्वजनिक रूप से आलोचना हुई थी. क्योंकि, उन्होंने मौसम से संबंधित ग़लत भविष्यवाणी की थी. इसके बाद किम जोंग उन, Pyongyang में मौजूद Hydro-Meteorological Service के Office पहुंच गए थे. और उन्होंने, वहां के कर्मचारियों को जमकर डांट-फटकार लगाई.

मौसम विभाग के कर्मचारियों को डांट लगाने वाली तस्वीरें वहां के सरकारी टेलीविज़न चैनल पर प्रसारित हो गई थीं . आम तौर पर जब भी तेज़ हवाएं चलती हैं, तूफान आता है या बारिश आती है .  तो लोग उसका आनंद लेने के लिए घर से बाहर निकल जाते हैं. लेकिन वो ये भूल जाते हैं, कि ऐसा करके वो बहुत बड़ी मुसीबत में फंस सकते हैं.

तूफ़ान आने की स्थिति में कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए
इसलिए आज आपको पता होना चाहिए, कि तूफ़ान आने की स्थिति में कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए. सबसे ज़रुरी बात ये है, कि स्थानीय मौसम के बारे में ताज़ा जानकारी रखें और प्रशासन की तरफ से दी गई चेतावनी पर ध्यान दें. बाहर का मौसम देख कर आप ख़ुद भी इसका अंदाजा लगा सकते हैं . घर के अंदर ही रहें, बरामदे में ना रहें.टीवी, फ्रिज़ या दूसरे बिजली के उपकरणों का इस्तेमाल बंद कर दें. Tin की छतों या Metal Roof वाली इमारतों से दूर रहें. पेड़ और खंबों के सहारे ना खड़े हों .  अगर आप कार के अंदर हैं तो अपनी गाड़ी वहीं पर रोक लें.

और टेलीफ़ोन और बिजली की लाइनों से दूर रहें. इसके अलावा तूफान के दौरान बिजली गिरने से भारत में हर साल दो हज़ार लोगों की मौत हो जाती है. इस तरह से हज़ारों लोगों की मौत का दुनिया में कोई दूसरा उदाहरण नहीं दिखता. बिजली गिरने से अमेरिका में हर साल औसतन 30 लोग की मौत होती है, जबकि ब्रिटेन में ये औसत तीन के आसपास है. यानी दुनिया के दूसरे हिस्सों में भी बिजली गिरती है, लेकिन सबसे ज़्यादा मौतें, भारत में होती हैं .  इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों में चेतावनी और पूर्वानुमान लगाने की व्यवस्था बेहतर है.

वहां लोगों को समय से पहले ये बताया जाता है कि किन इलाकों में मौसम ख़राब हो सकता है और बिजली गिर सकती है. लेकिन ऐसा सिस्टम भारत में नहीं है. इसलिए, यहां अपनी जान की हिफाज़त खुद ही करनी होगी. यहां आप ये भी नोट कर लीजिए, कि बिजली गिरने पर किन बातों का ख्याल रखना चाहिए. अगर किसी पर बिजली गिर जाए, तो फ़ौरन डॉक्टर की मदद लें.और याद रखें कि ऐसे लोगों को छूने से आपको कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा. बिजली गिरने के बाद तुरंत बाहर न निकलें. ज़्यादातर मौतें तूफ़ान गुज़र जाने के 30 मिनट बाद तक बिजली गिरने से होती हैं. छाते या मोबाइल फ़ोन का इस्तेमाल न करें. क्योंकि, धातु के ज़रिए बिजली आपको नुकसान पहुंचा सकती है .