विदेश में नौकरी के लिए Teachers को हासिल करनी होगी यह योग्यता, साकार होगा शिक्षण का सपना

शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर हर देश के अपने कुछ नियम-कायदे और मानक हैं. अगर आप विदेश में शिक्षण जगत में करियर (Career) बनाने का सपना देख रहे हैं तो जानिए इस क्षेत्र से जुड़ी सभी जरूरी बातें. 

विदेश में नौकरी के लिए Teachers को हासिल करनी होगी यह योग्यता, साकार होगा शिक्षण का सपना
साकार होगा विदेश में पढ़ाने का सपना

नई दिल्ली:  देश में ऐसे बहुत से लोग हैं, जो विदेश जाने और वहीं बसने का सपना देखते हैं. शिक्षण यानी टीचिंग (Teaching) में करियर बनाने के इच्छुक लोगों के लिए अब यह सपना साकार हो सकता है. कई देशों में योग्य और प्रशिक्षित शिक्षकों (Teachers) की मांग बढ़ती जा रही है. दुनियाभर के स्कूल प्रतिभाशाली और प्रभावशाली शिक्षकों को अच्छी सैलरी देने के लिए तैयार हैं. विदेशों में शिक्षण की अच्छी नौकरी ढूंढना थोड़ा मुश्किल जरूर हो सकता है लेकिन अगर योजना और प्रयास सही दिशा में लगाए जाएं तो मंजिल हासिल की जा सकती है. 

यह भी पढ़ें- Online Internship: बदल रहे हैं प्रशिक्षण के तरीके, घर बैठे बनें विदेशी कंपनी का हिस्सा

शिक्षकों की नियुक्ति को लेकर हर देश के अपने कुछ नियम-कायदे और मानक हैं. इन्हीं मानकों (Standards) और कौशल (Skills) के आधार पर शिक्षकों की वहां नियुक्ति होती है.  इन कौशल और मानकों को शिक्षण योग्यता (Teaching Requirements) कहा जाता है और अक्सर अलग-अलग देशों के लिए काफी विशिष्ट भी होते हैं. किसी प्रसिद्ध अंतर्राष्ट्रीय स्कूल (International School) में जॉब हासिल करने के लिए उम्मीदवार को खुद के लिए निर्धारित किए गए मानकों से कहीं ज्यादा ऊपर उठना होगा, जिससे कि वह प्रतिस्पर्धा में पीछे न रह जाए. अगर आप विदेश में शिक्षण जगत में करियर (Career) बनाने का सपना देख रहे हैं तो कॉग्निटिव साइंटिस्ट ऋषभ खन्ना (Cognitive Scientist Rishabh Khanna) से जानिए इस क्षेत्र से जुड़ी सभी जरूरी बातें. 

विदेश में पढ़ाने के लिए जरूरी योग्यता और कौशल
विदेश में शिक्षण कार्य करने के लिए कुछ वैश्विक जरूरतें (Universal Requirements) निर्धारित की गई हैं. इसके लिए उम्मीदवारों के पास ये योग्यताएं होनी चाहिए-
1. स्नातक की डिग्री (Bachelor's Degree) - किसी भी ऐसे विषय में, जिसमें उम्मीदवार छात्रों को पढ़ाना चाहते हैं
2. जानी-मानी शिक्षण योग्यता (Teaching Qualification) - बी.एड .(B.Ed.), पीजीसीटीएल (PgCTL), शिक्षण में अंतर्राष्ट्रीय डिप्लोमा (International Diploma in Teaching)
3. अंग्रेजी में दक्षता - IELTS का स्कोर 6 बैंड से अधिक होना चाहिए

यह भी पढ़ें- इन Grooming Tips के जरिए पहली नौकरी में जमाएं अपना शानदार Impression

उम्मीदवार के लिए सिर्फ ये योग्यताएं हासिल करना ही काफी नहीं है, उम्मीदवार को 21 वीं सदी के अंतर्राष्ट्रीय छात्रों (International Students) को पढ़ाने के लिए आवश्यक कौशल के अनुरूप भी होना चाहिए. विदेश में पढ़ाने के लिए उम्मीदवार का अंतर्राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त शिक्षण से योग्यता हासिल कर लेना बेहतर रहेगा. इससे उसे 21 वीं सदी के लिए आवश्यक कौशल को समझने और व्यवहार में उतारने में मदद मिलेगी और साथ ही अंतर्राष्ट्रीय शिक्षण अवसर भी हासिल होंगे. 

प्रैक्टिकल लर्निंग है जरूरी
किसी भी चीज के लिए योग्यता हासिल करना उतना मुश्किल नहीं है, जितना उसके साथ ही सही कौशल का होना भी. इसलिए आपको एक ऐसी योग्यता हासिल करने पर जोर डालना चाहिए, जिसमें उचित कौशल के विकास का प्रावधान भी हो. अंतर्राष्ट्रीय स्तर के शिक्षण का तरीका बिल्कुल अलग होता है और इस बात को हमेशा ध्यान में रखें. ये योग्यताएं आमतौर पर व्यावहारिक (Practical) और रचनात्मक (Creative) सीख पर आधारित होती हैं. 

सही योग्यता से मिलेगी विदेश में नौकरी
कुछ देश कुछ विशिष्ट कौशल के आधार पर शिक्षकों की नियुक्ति करते हैं. इसके लिए वे शिक्षण के मानकों से कुछ हटकर मूल्यांकन (Evaluation) करने से भी नहीं कतराते हैं. इसलिए विदेश में शिक्षण की तैयारी पूरी करने का मतलब है कि आप इंटरव्यू (Interview) और अपने शिक्षण कौशल (Teaching Skills) का प्रदर्शन करने के लिए भी तैयार हैं. आप अपने लिए कोई ऐसा प्रोग्राम चुनें, जिसमें अंतर्राष्ट्रीय जॉब इंटरव्यू को क्रैक कर वैश्विक शिक्षक (Universal Teacher) की नौकरी हासिल करने का चांस बढ़ता हो. इसके लिए आप ऐसी योग्यता ढूंढें, जिसके माध्यम से अंतर्राष्ट्रीय स्तर के इंटरव्यू अवसर हासिल करना मुमकिन हो. हालांकि, इंटरव्यू का अवसर हासिल कर लेना ही सब कुछ नहीं है.

यह भी पढ़ें- अधिक आवेदनों के कारण टली Railways में भर्ती, जल्द पूरी होगी प्रक्रिया

कैसी हो इंटरव्यू की तैयारी
अंतर्राष्ट्रीय स्तर के जॉब इंटरव्यू का अवसर हासिल कर पाना अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है. लेकिन यह मंजिल तक पहुंच पाने की एक सीढ़ी मात्र है. उम्मीदवार की किस्मत इंटरव्यू से ही तय होगी. ये जॉब इंटरव्यू काफी टेक्निकल (Technical) होते हैं और इनके लिए अच्छी-खासी तैयारी करनी पड़ती है. इन साक्षात्कारों में बच्चे की मनोदशा (Psychology), सीखने के सिद्धांतों से लेकर कई दूसरे विषयों के बारे में पूछा जा सकता है. शिक्षण कौशल के लिए तैयार रहने और इंटरव्यू में खुद को प्रेजेंट करने की तैयारी में अंतर है. उम्मीदवार को ऐसी योग्यता पर जोर देना चाहिए, जो उन्हें इंटरव्यू के लिए पूरी तरह से तैयार कर सके. अपना टीचिंग पोर्टफोलियो (Teaching Portfolio) भी जरूर तैयार करें. इस बात का ध्यान रखिएगा कि विदेश में शिक्षक की नौकरी करते हुए सफल होने में समय लग सकता है. 

आगे बढ़ने की हो योग्यता
सर्वश्रेष्ठ अंतर्राष्ट्रीय स्कूल ऐसे शिक्षकों की भर्ती करते हैं, जिनमें हमेशा आगे बढ़ने की ललक हो. वे हमेशा सीखने के लिए आतुर रहने वाले उम्मीदवारों को करियर (Career) के अच्छे मौके प्रदान करते रहते हैं. वे ऐसे उम्मीदवारों की तलाश करते हैं, जो अपनी प्रोफेशनल ग्रोथ (Professional Growth) में समय और ऊर्जा लगाते हैं. बतौर शिक्षक करियर में आगे बढ़ते रहने के लिए उम्मीदवारों को शिक्षा जगत में हो रहे विकास और शिक्षा शास्त्रों (Pedagogy) से खुद को अप टु डेट (Up To Date) रखना चाहिए. 

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता हासिल की हुई योग्यता के आधार पर विदेश में नौकरी का सपना साकार हो सकता है.

करियर से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें