close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Railway ग्रुप D Exam: रिजल्ट से हफ्तों पहले जान पाएंगे 'पास हुए या फेल'

अगर आपने भी रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड (RRB) की तरफ से साल की शुरुआत में घोषित की गई ग्रुप डी की करीब 62 हजार रिक्तियों के लिए आवेदन किया है तो यह खबर आपके काम की है. पिछले दिनों हुई ग्रुप डी की परीक्षा की आरआरबी की तरफ से जल्द ही आंसर की जारी होने वाली है.

Railway ग्रुप D Exam: रिजल्ट से हफ्तों पहले जान पाएंगे 'पास हुए या फेल'
परीक्षा का रिजल्ट जनवरी के अंतिम सप्ताह में आ सकता है. (File Pic)

नई दिल्ली : अगर आपने भी रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड (RRB) की तरफ से साल की शुरुआत में घोषित की गई ग्रुप डी की करीब 62 हजार रिक्तियों के लिए आवेदन किया है तो यह खबर आपके काम की है. पिछले दिनों हुई ग्रुप डी की परीक्षा की आरआरबी की तरफ से जल्द ही आंसर की जारी होने वाली है. उम्मीद की जा रही है कि जनवरी के पहले हफ्ते में ग्रुप डी की आंसर की जारी हो सकती है. रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड के वरिष्ठ अधिकारी ने जानकारी दी कि ग्रुप डी का परीक्षा परिणाम भी जनवरी में ही जारी किया जाएगा. आपको बता दें इंडियन रेलवे ने पिछले दिनों एक करोड़ से भी ज्यादा उम्मीदवारों की परीक्षा सफलतापूर्वक संपन्न कराई है.

जनवरी के अंतिम सप्ताह में आएगा रिजल्ट
अधिकारी ने कहा कि हम जनवरी के पहले हफ्ते में ग्रुप डी के प्रश्नपत्र की आंसर की जारी करने का प्लान कर रहे हैं. वहीं परीक्षा का परिणाम जनवरी के अंतिम सप्ताह में आने की उम्मीद है. आरआरबी की तरफ से आंसर की ऑफिशियल वेबसाइट पर जारी की जाएगी. इसके अलावा क्षेत्रीय आरआरबी की वेबसाइट पर भी आंसर की जारी की जाएगी. पिछले हफ्ते ही बोर्ड की तरफ से रिवाइज्ड असिस्टेंट लोको पायलट और टेक्निशियन का रिजल्ट जारी किया गया है.

1.89 करोड़ उम्मीदवारों ने कराया था रजिस्ट्रेशन
इंडियन रेलवे के अनुसार ग्रुप डी के 62907 पदों के लिए 1.89 करोड़ उम्मीदवारों ने रजिस्ट्रेशन कराया था. इतनी बड़ी संख्या में आवेदकों की परीक्षा लेने के लिए बोर्ड ने कंप्यूटर बेस्ट टेस्ट (CBT) का आयोजन किया था. देशभर में 400 से ज्यादा केंद्रों पर परीक्षा का आयोजन किया गया था. प्रत्येक दिन 3 से 4 लाख उम्मीदवारों ने परीक्षा में हिस्सा लिया था. 17 सितंबर 2018 से शुरू हुआ परीक्षा कार्यक्रम दिसंबर 2018 में संपन्न हुआ था.

परीक्षा में किसी भी प्रकार की धांधली को रोकने के लिए एग्जामिनेशन हॉल में सीसीटीवी कैमरा लगाए गए थे. इसके अलावा फ्लाइंग स्कवायड की भी सुविधा थी. उम्मीदवारों को परीक्षा केंद्र तक पहुंचने में मदद करने के लिए एडमिट कार्ड पर गूगल लिंक मैप दिया गया था.