close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रेलवे ने ग्रुप D के लिए बदली योग्यता की शर्तें, इन लोगों को होगा फायदा

रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड (RRB) की तरफ से ग्रुप डी में नौकरी पाने के लिए न्यूनतम योग्यता में बदलाव किया गया है. यह बदलाव ऐसी महिला उम्मीदवारों के लिए किया गया है जिनके पति रेलवे में नौकरी करने के दौरान उनकी मौत हो गई या किसी गंभीर बीमारी के कारण समय से पहले उन्हें रिटायरमेंट लेना पड़ा.

रेलवे ने ग्रुप D के लिए बदली योग्यता की शर्तें, इन लोगों को होगा फायदा

नई दिल्ली : रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड (RRB) की तरफ से ग्रुप डी में नौकरी पाने के लिए न्यूनतम योग्यता में बदलाव किया गया है. यह बदलाव ऐसी महिला उम्मीदवारों के लिए किया गया है जिनके पति रेलवे में नौकरी करने के दौरान उनकी मौत हो गई या किसी गंभीर बीमारी के कारण समय से पहले उन्हें रिटायरमेंट लेना पड़ा. मौजूदा नियमों के अनुसार लेवल-1 ग्रुप डी जॉब के लिए आवेदन करने वाली महिला अभ्यर्थियों के लिए मान्यता प्राप्त स्कूल शिक्षा बोर्ड से 10वीं उत्तीर्ण होना जरूरी है.

लेवल-1 जॉब को न्यूनतम योग्यता से हटाया
पिछले दिनों रेलवे में कई ऐसे मामले सामने आए जिसमें अनुकंपा के आधार पर आवेदन करने वाली महिला उम्मीदवारों के पास न्यूनतम योग्यता नहीं थी. ऐसे मामलों को देखते हुए रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड (RRB) ने नियमों में बदलाव करते हुए कर्मचारी की पत्नी या विधवा उम्मीदवारों के लिए लेवल-1 जॉब को न्यूनतम योग्यता के दायरे को हटा दिया है. यानी अनुकंपा के आधार पर नौकरी पाने वाली महिला उम्मीदवार के लिए कोई न्यूनतम एजुकेशन नहीं होगी.

अब नहीं होगी न्यूनतम योग्यता की शर्त
इस बारे में लंबे समय तक विचार करने के बाद बोर्ड की तरफ से मिनिमम क्वालिफिकेशन के नियम को वापस ले लिया गया है. रेलवे बोर्ड की तरफ से जारी किए गए एक पत्र में कहा गया कि यह मामला लंबे समय से विचाराधीन था. अब रेलवे बोर्ड की तरफ से इस पर फैसला कर लिया गया है. अनुकंपा के आधार पर नौकरी के लिए आवेदन करने वाली महिला उम्मीदवारों को लेवल-1 में नौकरी के लिए आवेदन करने के लिए न्यूनतम योग्यता की शर्तों को पूरा करने की जरूरत नहीं होगी.

बोर्ड ने यह भी कहा गया कि आरआरबी इस बात की जांच अवश्य करेगा कि संबंधित पदों पर न्यूनतम योग्यता के बगैर भी उम्मीदवार ट्रेनिंग के बाद ठीक से काम कर पा रहे हैं या नहीं. गौरतलब है कि रेलवे की तरफ से अनुकंपा के आधार पर नौकरियां ऐसे कर्मचारियों की पत्नियों या विधवाओं को दी जाती हैं, जिनकी सेवाकाल के दौरान मौत हो गई हो या किसी गंभीर बीमारी के कारण वह सेवानिवृत्त हो गए हों.