कर्नाटक चुनाव 2018 : सीएम सिद्धारमैया चामुंडेश्वरी से 33 हजार वोट से हारे, बादामी से जीते

सीएम सिद्धारमैया कर्नाटक में कांग्रेस का सबसे बड़ा चेहरा थे. उन्हें पार्टी ने चुनाव प्रचार के दौरान पूरी स्वतंत्रता दी थी.

कर्नाटक चुनाव 2018 : सीएम सिद्धारमैया चामुंडेश्वरी से 33 हजार वोट से हारे, बादामी से जीते

नई दिल्ली : कर्नाटक विधानसभा चुनावों में कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. कर्नाटक में उसके सबसे बड़े चेहरे सीएम सिद्धारमैया चामुंडेश्वरी से चुनाव हार गए हैं. उन्हें जनता दल सेक्युलर के जीटी देवेगौड़ा ने भारी अंतर से पराजित किया. हालांकि वह दूसरी सीट बादामी में श्रीरामुलु पर बढ़त बनाए हुए हैं. वह इन चुनावों में दो सीटों से भाग्य अाजमा रहे हैं.

चामुंडेश्वरी सीट पर जेडीएस उम्मीदवार ने उन्हें करीब 33622 हजार वोटों से पराजित किया. सिद्धारमैया को जहां 71364 वोट मिले, वहीं जीटी देवेगौड़ा को 104986 मिले. बादामी सीट पर वह भाजपा के श्रीरामलु से मामूली अंतर से जीते. रुझानों में बादामी सीट पर भी पहले सिद्धारमैया पीछे चल रहे थे.

भाजपा के सीएम चेहरे बीएस येद्दियुरप्पा अपनी परंपरागत सीट शिकारीपुरा से आगे चल रहे हैं. जेडीएस के कुमारस्वामी भी अपनी सीट रामनगर पर कांग्रेस प्रत्याशी 1552 सीटों से आगे चल रहे हैं. इससे पहले कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया चुनाव में राज्य की दो सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया था. बादामी के अलावा सिद्धारमैया ने 20 अप्रैल को मैसूर की चामुंडेश्वरी सीट से भी अपना नामांकन दाखिल किया था. सिद्धारमैया ने जिस बादामी सीट पर अपनी दावेदारी का ऐलान किया है, वहां भाजपा ने श्रीरामलु को उतारा है.

चामुंडेश्वरी के नामांकन के बाद बीजेपी नेताओं ने सिद्धारमैया पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए उनके हलफनामे पर सवाल उठाए थे. बीजेपी का आरोप है कि सिद्धारमैया के चुनावी हलफनामे में उनके सोशल मीडिया अकाउंट्स के संबंध में गलत जानकारी दी गई है. सिद्धारमैया ने चुनावी हलफनामे अपने पास ट्विटर और फेसबुक के अकाउंट ना होने का दावा किया है, जबकि ट्विटर पर उनके नाम से एक वेरिफाइड हैंडल मौजूद है जिसपर चुनाव से जुड़ी तमाम अपडेट्स शेयर की जा रही हैं.