close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कर्नाटक स्पीकर केआर. रमेश कुमार ने कहा, 'राज्य की व्यवस्था संकट में आ जाएगी अगर...'

कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष केआर. रमेश कुमार ने गुरुवार को कांग्रेस के दो विधायकों और एक निर्दलीय विधायक को अयोग्य करार दे दिया है. 

कर्नाटक स्पीकर केआर. रमेश कुमार ने कहा, 'राज्य की व्यवस्था संकट में आ जाएगी अगर...'
तीनों विधायकों पर दल-बदल कानून के तहत कार्रवाई की गई है...

बेंगलुरू: कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष केआर. रमेश कुमार ने गुरुवार को कांग्रेस के दो विधायकों रमेश जरकेहोली, उमेश कुंमतेहल्ली और एक निर्दलीय विधायक आर. शंकर को अयोग्य करार दे दिया है. तीनों विधायक मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल खत्म होने तक अयोग्य करार रहेंगे यानी तीनों विधायकों पर दल-बदल कानून के तहत कार्रवाई की गई है. स्पीकर ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान फाइनेंस बिल को लेकर गहरी चिंता जाहिर की. 

स्पीकर ने कहा, "31 जुलाई तक अगर फाइनेंस बिल पास नहीं हुआ तो कर्नाटक की व्यवस्था संकट में आ जाएगी." स्पीकर ने इसे संवैधानिक संकट करार दिया. 

कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार गिर गई है और वित्त विधेयक पास नहीं हुआ है. उधर, बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व सरकार गठन को जल्दबाजी करने के मूड में नहीं है. ऐसे में अगर 31 जुलाई से पहले नई सरकार नहीं बनती और वित्त विधेयक पास नहीं होता तो राज्य सरकार में कार्यरत कर्मचारियों को सैलरी के लिए लंबा इंतजार करना पड़ सकता है. जानकारों का कहना है कि 1 अगस्त से राज्य सरकार के अंतर्गत कोई कार्य नहीं हो पाएगा. राज्य सरकार के खजाने से नई राशि एक अगस्त से जारी होनी है लेकिन राज्य में कोई सरकार नहीं है. 

स्पीकर ने तीन विधायकों के अयोग्य करार दिए के कारण को स्पष्ट करते हुए कहा, "ये जटिल केस है, इसलिए मैं इसमें जल्‍दबाजी नहीं करना चाहता था. मेरे सामने 17 याचिकाएं आईं. इसमें 2 अयोग्‍यता संबंधी और अन्‍य इस्‍तीफे के बारे में थीं." 

स्‍पीकर ने बताया, जिन तीन विधायकों की सदस्‍यता गई है उनमें एक विधायक आर. शंकर हैं. उन्‍होंने विधानसभा चुनाव निर्दलीय के तौर पर लिया था. 25 जून को उन्‍होंने कांग्रेस में विलय कर लिया. इस बारे में सिद्धरमैया ने अपील की थी. इसलिए उन्‍हें कांग्रेस की सीट दी गई. 8 जुलाई को शंकर नागेश ने मंत्रीपद से इस्‍तीफा दिया. इसके बाद उन्‍होंने बीजेपी को समर्थन देने का दावा किया. सिद्धरमैया ने इस बारे में स्‍पीकर यानी मेरे सामने शिकायत दर्ज कराई.