close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कर्नाटक के बागी विधायकों की याचिका पर फैसला सुरक्षित, SC कल सुनाएगा फैसला

अब सुप्रीम कोर्ट कल तय करेगा कि पहले विधायकों के इस्तीफे पर फैसला होगा या स्पीकर अयोग्यता की कार्रवाई को आगे बढ़ा सकते हैं.

कर्नाटक के बागी विधायकों की याचिका पर फैसला सुरक्षित, SC कल सुनाएगा फैसला

नई दिल्‍ली: कर्नाटक संकट को लेकर बागी विधायकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना आदेश सुरक्षित रखा. बुधवार सुबह 10:30 बजे सुप्रीम कोर्ट आदेश सुनाएगा. अब सुप्रीम कोर्ट कल तय करेगा कि पहले विधायकों के इस्तीफे पर फैसला होगा या स्पीकर अयोग्यता की कार्रवाई को आगे बढ़ा सकते हैं. गुरुवार को होने वाले कांग्रेस-जेडीएस सरकार के बहुमत परीक्षण पर आदेश का सीधा असर पड़ेगा.

इससे पहले मंगलवार को जब कार्यवाही शुरू हुई तो बागी विधायकों की तरफ से पेश वरिष्‍ठ वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि विधायकों को इस्तीफा देने का मौलिक अधिकार है इसे नहीं रोका जा सकता. संवैधानिक व्यवस्था के मुताबिक इस्तीफा तुरंत स्वीकार करना होगा. जब तक इसपर फैसला नहीं होता तक तक उन्हें सदन में पेशी से छूट दिया जाय.

इस पर विधानसभा स्पीकर की तरफ से दलील दी गई कि अयोग्यता और इस्तीफा पर फैसला का अधिकार स्पीकर का है. जब तक स्पीकर अपना फैसला नहीं दे देता तब तक सुप्रीम कोर्ट उसमें दखल नहीं दे सकता.

 

कर्नाटक के सियासी संकट के बीच 16 बागी विधायकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को सबसे पहले बागी विधायकों की ओर से सबसे पहले वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने अपना पक्ष रखा. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने मुकुल रोहतगी से पूछा कि अब तक क्या कुछ डेवलपमेंट है. रोहतगी ने कोर्ट को बताया कि 10 विधायकों के इस्तीफे पर स्पीकर को फैसला लेना है जो कि अभी पेंडिंग है, 10 विधायक पहले ही स्पीकर के सामने पेश हो चुके हैं.

मुकुल रोहतगी ने कहा कि स्पीकर के सामने विधायकों को अयोग्य करार दिये जाने की मांग का लंबित होना,उन्हें इस्तीफे पर फैसला लेने से नहीं रोकता, ये दोनों अलग अलग मामले हैं. CJI के पूछने पर रोहतगी सिलसिलेवार तरीके से पहले दिन से बदलते घटनाक्रम की जानकरी कोर्ट को दे रहे है. मुकुल रोहतगी ने कहा कि अगर स्पीकर इन विधायकों के इस्तीफे पर फैसला करते हैं तो राज्य की सरकार अल्पमत में आ जायेगी, 18 तारीख़ को विश्वासमत है.

कर्नाटक: कांग्रेस के निलंबित विधायक रोशन बेग को SIT ने हिरासत में लिया

बागी विधायकों का पक्ष
इसके साथ ही वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि विधायक ये नहीं कह रहे कि अयोग्य करार दिए जाने की कार्यवाही खारिज की जाए वो चलती रहे, लेकिन अब वो विधायक नहीं रहना चाहते. वो जनता के बीच जाना चाहते हैं, ये उनका अधिकार है. स्पीकर बेवजह बाधा डाल रहे है. अगर कोर्ट पहुंचे विधायकों की संख्या हटा दी जाए, तो ये सरकार अल्पमत में है.

रोहतगी ने कहा कि अयोग्य ठहराने की कोई ठोस वजह नहीं है, इसीलिए अभी तक फैसला लटका हुआ है. बागी विधायकों के वकील रोहतगी ने कहा कि मैं अगर विधायक नहीं बने रहना चाहता हूं तो मुझे इस पद पर बने रहने के लिए कोई बाध्य नहीं कर सकता. मेरा इस्तीफा स्वीकार होना ही चाहिए. मैं पब्लिक में वापस जाना चाहता हूं. ये मेरा अधिकार है और मेरा अधिकार प्रभावित नहीं किया जा सकता.

इसके साथ ही रोहतगी ने ये भी कहा कि स्पीकर के पास विधायकों की अयोग्यता का केस स्पष्ट नहीं है. यही कारण है कि 2 फरवरी से अयोग्यता मामले पर अर्जी अभी तक लंबित है. जबकि विधायकों की अयोग्यता की दूसरी अर्जी 10 जुलाई को दायर की गई. मुकुल रोहतगी ने कहा कि विधायक स्पीकर के सामने मीडिया के सामने अपनी राय जाहिर कर चुके हैं कि वो अपनी मर्जी से इस्तीफा दे रहे हैं. फिर स्पीकर किस बात की जांच चाहते हैं. अगर विधायक असेंबली नहीं अटेंड करना चाहता, तो क्या उन्हें इसके लिए मजबूर किया जा सकता है.

रोहतगी ने कहा कि अयोग्य करार दिए जाने की कार्यवाही शुरू क्यों की गई, सिर्फ इसलिए क्योंकि वो पार्टी के अनुशासित सिपाही की तरह काम नहीं कर रहे थे. पार्टी मीटिंग अटेंड नहीं कर रहे थे. हमारा कहने का मतलब ये नहीं कि इस कार्यवाही पर स्पीकर फैसला नहीं ले सकता. हमारी आपत्ति सिर्फ इस बात को लेकर है कि इसके चलते इस्तीफे को लेकर फैसला रोका नहीं जा सकता.

चीफ जस्टिस की टिप्‍पणी
इस पर चीफ जस्टिस ने बाग़ी विधायकों के वकील मुकुल रोहतगी की दलीलों पर टिप्पणी की. उन्‍होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट स्पीकर को नहीं कह सकता है कि वह विधायकों के इस्तीफ़े या अयोग्य ठहराने की कार्रवाई किस तरह करें, कोर्ट स्पीकर को इसके लिए रोक या बाधित नहीं कर सकती है. हमारे सामने सवाल महज इतना है कि क्या कोई ऐसी संवैधानिक बाध्यता है कि स्पीकर अयोग्य करार दिए जाने की मांग से पहले इस्तीफे पर फैसला लेंगे या दोनों पर एक साथ फैसला लेंगे.

वकील रोहतगी ने कहा कि संविधान का आर्टिकल 190 कहता है कि इस्तीफा मिलने के बाद स्पीकर को जल्द से जल्द उस पर फैसला लेना होगा, स्पीकर फैसले को टाल नही सकते. इसके साथ ही बागी विधायकों की दलील पूरी हुई. इसके साथ ही रोहतगी ने पिछले साल मई में सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले का हवाला दिया जिसमें कोर्ट ने कर्नाटक की BJP सरकार को बहुमत साबित करने के लिए एक दिन के अंदर फ्लोर टेस्ट कराने के लिए कहा था.

स्‍पीकर का पक्ष
विधानसभा स्‍पीकर की तरफ से पेश वरिष्‍ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि स्पीकर को जो इस्तीफा दिया गया है, वह वैध नहीं है. अभिषेक मनु सिंधवी ने कहा कि 15 में से 11 बागी विधायकों ने अपना इस्तीफा 11 जुलाई को स्पीकर को दिया. सभी विधायकों के खिलाफ अयोग्य करार दिए जाने की कार्यवाही उनके इस्तीफे से पहले ही शुरू हो चुकी थी. स्पीकर के सामने सभी विधायक 11 जुलाई को व्यक्तिगत रूप से पेश हुए. उससे पहले नहीं. 4 विधायक तो आज तक पेश नहीं हुए है.

इस पर चीफ जस्टिस ने सिंघवी से पूछा कि आखिर क्यों विधायकों के मिलने के लिए समय मांगने के बावजूद स्पीकर उनसे नहीं मिले और आखिरकार विधायकों को कोर्ट आना पड़ा? सिंघवी ने कहा कि ये ग़लत तथ्य है .स्पीकर ने हलफनामे में साफ किया कि विधायकों ने मिलने के लिए समय नहीं मांगा था.

स्पीकर के वकील सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि आप अपने पुराने आदेश वापस ले लीजिए. हम विधायकों के अयोग्यता और इस्तीफे पर कल फैसला लेंगे. दरअसल पिछले आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर को बागी विधायकों के इस्तीफे पर तत्काल फैसला लेने को कहा था.

CJI ने सिंघवी से कहा कि हमने किसी भी तरह से स्पीकर को रोका नहीं है. अगर इस्तीफा स्वैच्छिक और सही है तो इन पर निर्णय होना चाहिए. आपको किसने रोका, 6 जुलाई को इस्तीफे स्वीकार करने या रिजेक्ट करने से?

इस पर सिंघवी ने कहा कि अगर स्पीकर गलत कर रहे हैं तो कोर्ट दखल दे सकता है. हम आपके क्षेत्राधिकार पर सवाल नहीं उठा रहे हैं. यहां स्पीकर एक अनुभवी व्यक्ति है, जिसे निर्णय लेना है. चीफ जस्टिस ने कांग्रेस नेता और स्पीकर का पक्ष रख रहे वकील अभिषेक मनु सिंघवी को याद दिलाया कि पिछले साल हमने कर्नाटक में ही 24 घंटे के अंदर फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दिया, तब आपने कोर्ट के अधिकार क्षेत्र पर कोई ऐतराज नहीं किया, क्योंकि वो आपके पक्ष में था. लंच के बाद सुनवाई जारी रहेगी.

(इनपुट: महेश गुप्‍ता के साथ)