close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टीपू सुल्तान की जयंती को लेकर कर्नाटक में बवाल, BJP का प्रदर्शन, कई हिरासत में

कर्नाटक सरकार 2016 से टीपू सुल्तान की जयंती मना रही है. बीजेपी ने इस  बार भी कार्यक्रम को बाधित करने की धमकी दी है, जिसके बाद हुबली, धारवाड़ और शिवमोग्गा सहित कर्नाटक के कई शहरों में धारा-144 लागू कर दी गई है. 

टीपू सुल्तान की जयंती को लेकर कर्नाटक में बवाल, BJP का प्रदर्शन, कई हिरासत में
विरोध करते बीजेपी कार्यकर्ता. (फोटो-एएनआई)

नई दिल्ली: मैसूर के शासक टीपू सुल्‍तान की जयंती समारोह पर सियासी हंगामा जारी है, बीजेपी के कार्यकर्ता जगह-जगह विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. बीजेपी के विरोध के बाद भी कर्नाटक में टीपू सुल्तान की जयंती धूमधाम से मनाई जा रही है. कर्नाटक सरकार 2016 से टीपू सुल्तान की जयंती मना रही है और बीजेपी हर बार इसका विरोध करती आई है. इस बार भी बीजेपी ने इस कार्यक्रम को बाधित करने की धमकी दी है, जिसके बाद हुबली, धारवाड़ और शिवमोग्गा सहित कर्नाटक के कई शहरों में धारा-144 लागू कर दी गई है. आपको बता दें कि बीजेपी ने काफी समय पहले ही ये कहा था कि वो टीपू जयंती समारोह का विरोध व्यापक स्तर पर करेंगे.  

protest on tipu jayanti celebrations in karnataka live updates

बीजेपी ने शुक्रवार को भी जेडीएस और कांग्रेस सरकार से जश्न न मनाने की अपील की थी. कर्नाटक के कई इलाकों से जयंती समारोह के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है. वहीं, इस मौके पर कर्नाटक अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री बी जेड जमीर अहमद खान ने पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दारमैया से मुलाकात की. जानकारी के मुताबिक, स्वास्थ्य कारणों से चलते मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने इस समारोह से खुद को अलग कर लिया है. उनकी पार्टी जेडीएस (जनता दल सेकुलर) ने भी समारोह से दूरी बनाए रखी है. इस मौके पर मडिकेरी में लोगों ने टीपू जयंती समारोह के विरोध में शहर के श्री ओंकारेश्वर मंदिर में प्रार्थना की और विरोध प्रदर्शन आयोजित करने का फैसला किया है. 

protest on tipu jayanti celebrations in karnataka live updates

विरोध प्रदर्शन को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. विरोध में बीजेपी और कोडाना नेशनल काउंसिल समेत कुछ अन्य पार्टियों के द्वारा मेडिकरी बंद का आह्वान किया गया है. 

आपको बता दें कि 18वीं सदी के मैसूर के शासक टीपू सुल्तान को भारतीय मुस्लिम समाज अपना नायक मानता रहा है. उन्हें भारतीय राष्ट्रीय एकता के मिसाल के तौर पर पेश करता है. कांग्रेस ने भी टीपू जंयती मनाने के पीछे यही तर्क दिया है. बीजेपी इस आयोजन का शुरू से ही विरोध करती रही है. बीजेपी टीपू सुल्तान को कट्टर मुस्लिम शासक बताती है. बीजेपी और दक्षिणपंथी संगठनों का कहना है कि टीपू सुल्तान ने मंदिर तोड़े और बड़े पैमाने पर हिंदुओं का धर्मांतरण करवाया.

protest on tipu jayanti celebrations in karnataka live updates  

2015 में जैसे ही कांग्रेस ने इस जयंती को मनाने का ऐलान किया बीजेपी विरोध में कूद पड़ी और लगातार इसे कांग्रेस का तुष्टिकरण कहती रही है. मौजूदा राजनीति परिदृश्य में उस मुद्दे को उठाना बीजेपी की और बड़ी राजनीतिक मजबूरी हो गई है. साल 2017 में तमाम कोशिशों के बावजूद बीजेपी सत्ता में नहीं आ सकी. बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी जरूर बनी, लेकिन 2012 में गंवाई सत्ता को वापस नहीं पा सकी.