close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जब तक मेरे अंदर लहू है, राहुल भाई के साथ खड़ा रहूंगा : नवजोत सिंह सिद्धू

भाजपा ने पांच साल पहले हुए चुनाव में 40 सीटों पर जीत दर्ज की थी. ऐसे में कांग्रेस को करारा झटका लगा है.

जब तक मेरे अंदर लहू है, राहुल भाई के साथ खड़ा रहूंगा : नवजोत सिंह सिद्धू
नवजोत सिंह सिद्धू ने की राहुलल गांधी की तारीफ (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए मंगलवार (15 मई) को जारी मतगणना के रुझानों में भारतीय जनता पार्टी (BJP) जीत की ओर बढ़ रही है. हालांकि, चुनावों के परिणाम शाम तक आएंगे, लेकिन रुझानों से साफ हो गया है कि बीजेपी की जीत तय है. प्रदेश में सरकार बनाने के लिए जादुई आंकड़ा 112 का है. अपनी इस जीत का श्रेय भाजपा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया है. भाजपा ने कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हुए विकासात्मक कार्यों की जीत है, जिन्हें जनता ने समर्थन दिया. वहीं, दूसरी तरफ कांग्रेस ने अपनी हार स्वीकार कर ली है. 

भाजपा ने पांच साल पहले हुए चुनाव में 40 सीटों पर जीत दर्ज की थी. ऐसे में कांग्रेस को करारा झटका लगा है. भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बी.ए.येदियुरप्पा शिकारीपुरा सीट पर कांग्रेस के प्रतिद्वंद्वी से आगे चल रहे हैं. मुख्यमंत्री सिद्धारमैया चामुंडेश्वरी और बादामी दोनों सीटों पर पीछे चल रहे हैं. कांग्रेस की हार स्वीकार करते हुए राज्य के ऊर्जा मंत्री और कांग्रेस नेता डी.के.शिवकुमार ने कहा कि ये आंकड़े दर्शाते हैं कि पार्टी पांच साल तक सत्ता में रहने के बाद सत्ता से बेदखल होती दिख रही है.

कर्नाटक में कांग्रेस की हार के बीच नवजोत सिंह सिद्धू ने राहुल गांधी की तारीफ की है. नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा है, ''राहुल भाई एक बढ़ते हुए नेता हैं. 2019 में एक दूसरा ही खेल होगा. गठबंधन उनके साथ आ रहे हैं.'' 

नवजोत सिंह सिद्धू ने आगे कहा- ''सिद्दू उनके (राहुल गांधी) साथ खड़ा रहेगा, जब तक मेरे अंदर लहू है.''

गौरतलब है कि आज ही पूर्व क्रिकेटर और पंजाब के पर्यटन मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को बड़ी राहत मिली है. सर्वोच्च न्यायालय ने मंगलवार (15 मई) को सिद्धू पर लगे 30 साल पुराने गैर इरादतन हत्या के आरोपों से उन्हें बरी कर दिया है. सिद्धू को इसके लिए पहले तीन साल जेल की सजा सुनाई गई थी.

न्यायाधीश जे.चेलमेश्वर और न्यायाधीश संजय किशन कौल की पीठ ने सिद्धू को रोडरेज के दौरान गैर इरादतन हत्या के मामले में बरी कर दिया है लेकिन जानबूझकर चोट पहुंचाने के मामले में दोषी ठहराते हुए उन पर 1,000 रुपये का जुर्माना लगाया है. अदालत ने एक अन्य आरोपी उनके कजिन रुपिंदर सिंह सिद्धू को भी सभी आरोपों से बरी कर दिया है.