अब तो शोध में भी साबित हो गया: शराब अंग्रेजी सीखने में मददगार

एक गिलास बीयर या वाइन पीने के बाद लोग विदेशी भाषाओं को बोलने में ज्यादा सहज हो जाते हैं.

अब तो शोध में भी साबित हो गया: शराब अंग्रेजी सीखने में मददगार
प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: अब तक आप मजाक में कहते होंगे कि शराब पीने के बाद लोग अंग्रेजी बोलने लगते हैं. लेकिन अब ये बात सच साबित हो गई है. वैज्ञानिकों ने एक शोध में पाया है कि एक गिलास बीयर या वाइन पीने के बाद लोग विदेशी भाषाओं को बोलने में ज्यादा सहज हो जाते हैं. एक बार झिझक खत्म होने के बाद ही लोग विदेशी भाषाओं पर ज्यादा सही बात करने लगते हैं. यानि अगर आप भी शराब के दो जाम छलका कर अंग्रेजी बोलते हैं तो ये बिलकुल सही है.

केवल भारत ही नहीं पूरे दुनिया में शराब विदेशी भाषा सिखने में मददगार
साइकोफार्माकोलॉजी पत्रिका में अपने छपे एक शोध के अनुसार मदिरापान के बाद पूरी दुनिया में लोग विदेशी भाषाओं को बोलने में सहज हो जाते हैं. सबसे अच्छी बात ये है कि दिमागी तौर पर जो झिझक होती है उसे शराब के दो जाम खत्म कर देती है. ब्रिटिश और डच वैज्ञानिकों ने अपनी खोज में पाया है कि शराब के नशे में लोग अपनी बेइज्जती होने के डर से बाहर आ जाते हैं. दरअसल यही एक वजह है कि लोग अपने लोकल भाषा के अलावा दूसरी भाषा बोलने में झिझक का एक कारण है.

शराब की वजह से विदेशी भाषा सीख जाते हैं लोग
इस शोध के लिए मास्ट्रिच यूनिवर्सिटी मे लगभग 50 लोगों को शामिल किया गया. ये सभी जर्मनी भाषा बोलने थे जो डच सीखना चाहते थे. परीक्षा के दौरान आधे लोगों को पानी पिलाया गया और बात करने को कहा गया. जबकि आधे परिक्षार्थियों को सवाल-जवाब के दौरान शराब पिलाई गई. जिन लोगों ने शराब पीकर डच बोलने की कोशिश की वे सभी पास हो गए. पानी पीने वाले और शराब पीने के बाद परीक्षा देने वाले लोगों में कॉन्फिडेंट नजर आए.