Coronavirus से रिकवर होने के बाद इन लक्षणों को इग्नोर न करें, हो सकती है गंभीर बीमारी

कोरोना वायरस संक्रमण को मात देने के बाद भी कुछ लक्षणों पर नजर रखने की जरूरत है वरना आप हृदय रोग और किडनी के रोग जैसी गंभीर बीमारियां को शिकार हो सकते हैं. ऐसे में क्या करना चाहिए, यहां जानें.

Coronavirus से रिकवर होने के बाद इन लक्षणों को इग्नोर न करें, हो सकती है गंभीर बीमारी
कोरोना से रिकवर होने के बाद बीमारी का खतरा

नई दिल्ली: भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus Infection) से संक्रमित होने वालों की संख्या भले ही रोजाना लाखों में हो लेकिन उसी करीब-करीब उसी अनुपात में रोजाना मरीज ठीक भी हो रहे हैं जिस वजह से भारत में इस कोविड-19 का रिकवरी रेट (Recovery rate) अब भी बेहतर है. वैसे तो संक्रमण से रिकवर होने के बाद अधिकतर लोग स्वस्थ जीवन जीते हैं लेकिन बहुत से मामलों में यह भी देखने में आ रहा है कि कोविड-19 इंफेक्शन में निगेटिव टेस्ट होने के बाद भी कई लोगों में लंबे समय तक कुछ लक्षण (Long term symptoms) बने रहते हैं.

रिकवर होने के बाद भी गंभीर बीमारी का खतरा

कोरोना वायरस संक्रमण और शरीर की कमजोर इम्यूनिटी (Weak Immunity) की वजह से कुछ लोगों में लंबे समय तक रहने वाली ऐसी बीमारियां भी हो रही हैं जिसके लिए बहुत अधिक केयर की जरूरत है. उदाहरण के लिए कई मरीजों में कोविड-19 संक्रमण से उबरने के बाद डायबिटीज, हार्ट डिजीज औक किडनी से जुड़ी गंभीर बीमारियां भी हो रही हैं. लिहाजा कोरोना से रिकवर (Coronavirus recovery) होने के बाद भी आपको कुछ जरूरी संकेतों और लक्षणों पर नजर रखनी चाहिए वरना आप गंभीर बीमारी की चपेट में आ सकते हैं.

ये भी पढ़ें- इंफेक्शन के इतने महीने बाद तक शरीर में बनी रहती है एंटीबॉडीज

1. डायबिटीज- जिन लोगों को पहले से डायबिटीज (Diabetes) है उन्हें अगर कोविड-19 हो जाए तो उनमें गंभीर संक्रमण होने का खतरा रहता है, ये तो हम सभी जानते हैं. लेकिन हैरानी की बात ये है कि ऐसे कई लोग हैं जिन्हें पहले डायबिटीज की बीमारी नहीं थी लेकिन कोरोना संक्रमण से उबरने के बाद उन्हें डायबिटीज हो रहा है (Getting diabetes after recovery) क्योंकि यह वायरस पैन्क्रियाज को भी नुकसान पहुंचाता है जिससे इंसुलिन का उत्पादन (Insulin) प्रभावित होता है. कोरोना वायरस की वजह से शरीर में टाइप 1 और टाइप 2 दोनों तरह का डायबिटीज हो सकता है. ऐसे में इन लक्षणों की अनदेखी न करें:
-बहुत अधिक प्यास लगना और बार-बार भूख लगना
-धुंधला दिखाई देना
-संवेदनशील त्वचा या घाव का बहुत धीरे-धीरे भरना
-हर वक्त थकान और कमजोरी महसूस होना
-किसी चीज को खाने की बहुत अधिक क्रेविंग होना
-हाथ या पैर में झनझनाहट महसूस होना

ये भी पढ़ें- बच्चों को कोविड-19 संक्रमण से बचाने के लिए ऐसे बनाएं सुरक्षा कवच

VIDEO

2. हृदय रोग- कोविड-19 के बाद कई मरीजों में हार्ट अटैक और ब्लड क्लॉट (Heart attack and blood clot) की दिक्कतें भी देखने को मिल रही हैं. इसके अलावा युवाओं में भी अनियमित हार्ट बीट, हार्ट में इन्फ्लेमेशन (Inflammation) और हृदय से जुड़ी कई दूसरी समस्याएं नजर आ रही हैं. हार्ट हेल्थ से जुड़े इन लक्षणों को बिल्कुल इग्नोर न करें:
-सीने में किसी तरह का दर्द या असहजता महसूस होना
-बाजू या हाथ में दर्द या दबाव महसूस होना
-बहुत अधिक पसीना निकलना
-सांस फूलना
-अनियंत्रित ब्लड प्रेशर
-अनियमित हार्ट बीट या स्ट्रेस का बढ़ना

ये भी पढ़ें- रात को नींद नहीं आती तो गोली खाने की बजाय इन तरीकों को अपनाएं

3. किडनी की बीमारी- जिन लोगों में कोरोना वायरस का गंभीर संक्रमण होता है उनमें किडनी डैमेज (Kidney damage) की दिक्कतें भी देखने को मिल रही हैं. शरीर में प्रोटीन की उच्च मात्रा, खून का असामान्य होना, साइटोकीन स्टॉर्म (Cytokine storm) और ऑक्सीजन का लेवल ऊपर नीचे होने की वजह से भी किडनी को नुकसान पहुंचता है. लिहाजा किडनी से जुड़े इन लक्षणों की भी अनदेखी न करें:
-पैर या टखने (ऐंकल) में दर्द और सूजन
-बार-बार पेशाब आना
-पेशाब के रंग में बदलाव होना
-अचानक बहुत अधिक वजन कम होना
-भूख न लगना, पाचन सही तरीके से न होना
-ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर का लेवल बढ़ना

लाइफस्टाइल से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें. 

देखें LIVE TV -
 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.