close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Dussehra 2019: पहली बार दिल्ली में रावण दहन में नहीं होगा पटाखों का इस्तेमाल

इस बार रामलीला मैदान में एक नया प्रयोग किया जा रहा है जिसमें रावण दहन को आतिशबाजी फ्री किया जा रहा है.

Dussehra 2019: पहली बार दिल्ली में रावण दहन में नहीं होगा पटाखों का इस्तेमाल
रामलीला मैदान दिल्ली. फोटो Ashwani Kumar Gupta

नई दिल्ली: दशहरा पर रावण दहन का मंजर देखने के लिए लोग बड़े उत्साह से इक्ट्ठे होते हैं. नवरात्र से ही रामलीला का आयोजन शुरू हो जाता है. नई दिल्ली में भी रामलीला मैदान में हर सान इस पर्व का आयोजन किया जाता है. इस बार रामलीला मैदान में एक नया प्रयोग किया जा रहा है जिसमें रावण दहन को आतिशबाजी फ्री किया जा रहा है. इस बार दशानन का अंत पटाखों से नहीं बल्कि 3D एनिमेशन के जरिए रावण, कुंभकरण और मेघनाद को जलाया जाएगा.

रावण दहन पर पहली बार रामलीला मैदान में स्क्रीन लगाई गई है. रावण के बराबर ऊंचाई की LED स्क्रीन पर रावण के पुतले के साथ सिंक किया गया है. जैसे ही पुतले में आग लगाई जाएगी उसी वक़्त स्क्रीन में भी बारी-बारी से रावण, कुंभकरण और मेघनाद की 3D animation भी जल उठेगा. पटाखों का इफेक्ट देने के लिए साउंड और विजुअल का प्रयोग किया जाएगा.

हम अपने अहंकार रूपी रावण का मर्यादा रूपी श्रीराम से संहार कर सकते हैं : राज्‍यसभा सांसद सुभाष चंद्रा

रामलीला कमेटी मेंबर्स ने कहा कि हम लोगों ने कुछ लोगों से बात की है कि अगर ग्रीन क्रैकर्स मिल जाएंगे तो उसका इस्तेमाल करेंगे. ग्रीन क्रैकर्स पर्यावरण बचाव के लिए बेहतर विकल्प हैं जिसका उपयोग दिल्ली की रामलीला में किया जा रहा है. बता दें कि ग्रीन क्रैकर्स पुराने पटाखों से चार गुना महंगे होते हैं. साथ ही इन पटाखों की आवाज भी कम होती है, इसलिए इस रामलीला में भी पुतले दहन के साथ-साथ साउंड इफेक्ट के जरिए पटाखों की जोरदार आवाज आएगी.