Friendship day 2021: ऐसे ही नहीं बनते हैं Best Friend, इन आदतों से करनी पड़ती है तौबा

दोस्‍ती (Friendship) का रिश्‍ता सबसे खास होता है लेकिन पूरी जिंदगी साथ निभाने वाले दोस्‍त (Friend) ऐसे ही नहीं मिलते हैं. इसके लिए खुद में भी कुछ बदलाव करने पड़ते हैं और दोस्‍त में भी कुछ खासियतें ढूंढनी जरूरी होती हैं. 

Friendship day 2021: ऐसे ही नहीं बनते हैं Best Friend, इन आदतों से करनी पड़ती है तौबा
(फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: जिंदगी का हर रिश्‍ता (Relationship) बहुत खूबसूरत होता है लेकिन दोस्‍ती के रिश्‍ते की बात ही अलग होती है. ना तो यह खून से जुड़ा होता है और ना ही इसे रस्‍मो-रिवाज के आधार पर जोड़ा जाता है. फिर भी यह रिश्‍ता सबसे ज्‍यादा भरोसेमंद और हर पल साथ देने वाला होता है. दोस्‍ती (Friendship) के इसी रिश्‍ते को सेलिब्रेट करने का मौका होता है फ्रेंडशिप डे (Friendship day 2021). हर साल अगस्‍त के पहले रविवार को मनाए जाने वाले इस दिन को लेकर दोस्‍त कई तैयारियां करते हैं. इस बार फ्रेंडशिप डे 1 अगस्‍त को है. 

ये हैं पक्‍की दोस्‍ती के जरूरी नियम 

हालांकि हर कोई दोस्‍तों के मामलों में खुशकिस्‍मत नहीं होता है. इसके पीछे कई कारण जिम्‍मेदार होते हैं. आज हम दोस्‍ती के उन उसूलों या नियमों (Rules) की बात करेंगे जिनकी दम पर ही पूरी जिंदगी दोस्‍ती टिकी रहती है. साथ ही ये नियम आपको एक बहुत अच्‍छा दोस्‍त पाने और बनने में बहुत काम आएंगे. 

कभी न देखें फायदा-नुकसान: कहते हैं कि दोस्‍ती में थैंक्‍यू और सॉरी नहीं कहा जाता है लेकिन इससे भी ज्‍यादा जरूरी बात यह है दोस्‍ती में कभी फायदा-नुकसान न देखें. यह रिश्‍ता तो अच्‍छे साथ, अपनेपन और एक-दूसरे के लिए अच्‍छे-बुरे वक्‍त में खड़े होने का होता है. 

जैसे हैं वैसे रहें: दोस्‍ती की नींव का सबसे अहम पत्‍थर होता है ईमानदारी. हमेशा दोस्‍त के लिए ईमानदार-वफादार रहें. कभी भी उससे दिखावा न करें और ना ही दिखावा करने वालों को अपना दोस्‍त बनाएं. 

गलत बात पर विरोध करें: दोस्‍त से प्‍यार करने, उसका साथ देने का मतलब यह नहीं है कि उसकी गलत बातों को प्रोत्‍साहित करें. एक अच्‍छा दोस्‍त हमेशा अच्‍छी सलाह देता है. 

यह भी पढ़ें: वजन घटाने के लिए कहीं आप भी तो नहीं करते ये काम, लिवर पर पड़ेगा बुरा असर

तानाशाही नहीं चलेगी: दोस्‍ती में कभी भी अपने दोस्‍त पर मनमानी करने, उसे नीचा दिखाने की कोशिश न करें और ना अपने साथ ऐसा होने दें. दोस्‍ती का रिश्‍ता बराबरी का होता है, इसमें कोई छोटा-बड़ा नहीं होता है. ना ही इसमें ईगो के लिए कोई जगह होती है. चाहे दोनों के स्‍टेटस में कितना ही अंतर क्‍यों न हो. 

अपमान न करें: दोस्‍त के साथ ईमानदार रहें, उसे उसकी गलती का अहसास कराएं लेकिन कभी भी उसका अपमान न करें. यदि कभी कुछ कहा-सुनी हो भी जाए तो बैठकर बातचीत से मामला सुलझा लें. अपने दोस्‍त की भावनाएं समझने की कोशिश करें. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.