समलैंगिकता कोई बीमारी नहीं है, इसके इलाज की कोई जरूरत नहीं : जेन्स स्पान

जर्मनी के मंत्री स्वास्थ्य जेन्स स्पान ने कहा कि वह उम्मीद करते हैं  कि साल के मध्य तक इस तरह के उपचारों पर प्रतिबंध लगाने वाले जर्मन कानून को अपना लिया जाएगा.

समलैंगिकता कोई बीमारी नहीं है, इसके इलाज की कोई जरूरत नहीं : जेन्स स्पान
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अगर मतदान हुआ तो अपने सहयोगियों से समर्थन मिलने की उम्मीद कर रहे हैं. (फोटो साभारः ट्विटर)

बर्लिनः जर्मनी के मंत्री स्वास्थ्य जेन्स स्पान ने कहा कि वह लैंगिक-रुझान बदलने का दावा करने वाले इलाज पर प्रतिबंध लगाने की मांग करेंगे. स्पान ने कहा, ‘‘समलैंगिकता कोई बीमारी नहीं है, इसलिए इसके इलाज की कोई जरूरत नहीं है.’’ जेन्स स्पान स्वयं एक समलैंगिक हैं. स्पान ने वाम झुकाव वाले अखबार ‘डाई ताजेसजेईतुंग’ से कहा कि वह उम्मीद करते हैं कि साल के मध्य तक इस तरह के उपचारों पर प्रतिबंध लगाने वाले जर्मन कानून को अपना लिया जाएगा.

छत्तीसगढ़ बजट: 24 घंटे स्वास्थ्य सेवाओं के लिए यूनिवर्सल हेल्थ केयर की अवधारणा पर बनेगी योजना

लैंगिक-रुझान को बदलने का इलाज अमेरिका में जड़े जमा रहा है और इसका उपयोग समलैंगिक या ट्रांसजेंडर किशोरों के माता-पिता उनकी इच्छा के खिलाफ कर रहे हैं. कुछ तकनीकों में ‘टेस्टोस्टेरोन’ की बड़ी खुराक के इंजेक्शन शामिल हैं, जबकि अन्य लोगों को करंट के झटके दिए जाते हैं.

नए लेबल लगाकर बाजार में बेची जा रही हैं एक्सपायरी दवाई, दिल्ली HC ने कहा- 'एक्शन ले केंद्र सरकार'

स्पान ने कहा, ‘‘मैं इन उपचारों में विश्वास नहीं करता, मुख्य रूप से अपनी समलैंगिकता के कारण.’’ स्पान चांसलर एंजेला मर्केल के रूढ़िवादी सीडीयू पार्टी के दक्षिणपंथी का प्रतिनिधित्व भी करते हैं. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि अगर मतदान हुआ तो अपने सहयोगियों से समर्थन मिलने की उम्मीद कर रहे हैं.