close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

यंग राइटर के रूप में ओमेयर तारिक बनाई पहचान, पहले ही नॉवेल ने दिलाई सफलता

तारिक ने लेखक की दुनिया में काफी पहले ही कदम रख दिया था. 2 जुलाई, 2015 को तारिक ने अपने फ्रेंड मोहित कुमार के साथ मिलकर द स्क्रिबल्ड स्टोरीज की शुरुआत की.

यंग राइटर के रूप में ओमेयर तारिक बनाई पहचान, पहले ही नॉवेल ने दिलाई सफलता
ओमेयर तारिक (फोटो साभार- Instagram)

नई दिल्ली: विचारों को शब्दों में बयां कर पाना आसान काम नहीं हैं. इसके लिए बहुत क्रिएटिव और ढेर सारे आत्ममंथन की जरूरत होती है, लेकिन आज की इंटरनेट की दुनिया अपने आप में एक भरापूरा संसार है. इस प्लेटफॉर्म में दुनिया भर के लाखों लोगों को अपना टैलेंट दिखाने का मौका मिलता है. यहां पर आप अपने विचार, कहानियां और कविताएं सब को बेझिझक लिख सकते हैं. इसी फील्ड में काम कर रहे यंग राइटर ओमेयर तारिक इन दिनों चर्चा में हैं. 22 साल के ओमेयर ने अपनी पहली ही नॉवेल से खबरों में जगह बना ली है. 

10 मई 2017 को ओमेयर ने अपने पहले नॉवेल 'स्ट्रेंजर' के साथ प्रकाशन की दुनिया में कदम रखा. ओमेयर ने अपने काम को पूरे परफेक्शन के साथ पूरा करने के लिए कलकत्ता विश्वविद्यालय से अंग्रेजी ऑनर्स किया. बता दें कि तारिक ने लेखक की दुनिया में काफी पहले ही कदम रख दिया था. 2 जुलाई, 2015 को तारिक ने अपने फ्रेंड मोहित कुमार के साथ मिलकर द स्क्रिबल्ड स्टोरीज की शुरुआत की.

किताबों के जरिए मुद्दों को सामने रखना चाहते हैं चेतन भगत, इंटरव्यू में कही बड़ी बात

 
 
 
 

 
 
 
 
 
 
 
 
 

// some days (TW: depression) jumping brings joy to children, i thought it’d work for me, too. it almost did, but i had to come down. i remember that one afternoon, my secret betrayed me and i spoke out loud i’m in depression. mom was quick to reply: pray to god. it’s in your head. she was right. depression is inside my head, exhausting me; in my bones, weakening me; in my words, in another broken poetry. i wish i had a way to tell her you’re right and wrong, both, ammi. but her worried face stops me, after all it’s not paining if its not visible. the woman who stays up late because i skip my dinner would not be able to sleep at all, knowing her son often thinks about killing himself. one day, when i told dad that i want to see a therapist, that god is doing a poor job and is leaving my prayers unattended. he was lost with his words. perhaps, my old man wanted to support me but in his days, depression was only a word used by foreigners, and because he was happy with his life. and depression was just like sadness, to all the ones born before us. when i ask people if they’ve committed suicide the responses baffle and interest me. mostly made poor attempts and lived the ones who survived, they don’t speak of it. so i thought to myself what’s better death or simply living? the answer isn’t hard. simply living. dying wasn’t an option. it was appealing but this was my life, my moments and i decide when my time is up. so i am living with depression, with something that’s inside my head or just sadness. some day, jumping will bring joy to adults. jump. smile. captured myself mid-air, so i know my happiness stayed. somewhere. some what. on some day. and perhaps, some day, i hope i will be meaning it.

A post shared by Omair Tarique (@omair.tarique) on

 तारिक और कुमार के बेबी प्रोजेक्ट ने 4 मिलियन फॉलोअर्स के साथ सफलता का नया मुकाम रच दिया. अपने काम के बारे में बात करते हुए तारिक का कहना है कि अगर आप जिन लोगों के साथ काम करते उनसे आप सम्मान के सिवा कुछ नहीं मांग सकते. तारिक की पूरी टीम उनके लेखक के काम में उनकी जी जान से मदद करती है. बाइस साल की छोटी सी उम्र में सफलता तारिक को वो सफलता हासिल हुई है जिसके लिए कई लोग पूरी जिंदगी मेहनत करते रह जाते हैं. 22 के लड़के ने महसूस किया कि लोगों पर शब्दों का प्रभाव खूब पड़ता है और इसे ही अपनी ताकत बनाकर तारिक आज अपनी पहचान बना रहे हैं. तारिक की किताब अमेजन और दूसरी कई साइट्स पर मौजूद है.