मर्दों की दोस्ती लंबे समय तक क्‍यों नहीं चलती? सामने आई ये वजह
X

मर्दों की दोस्ती लंबे समय तक क्‍यों नहीं चलती? सामने आई ये वजह

पुरुषों की दोस्ती लंबे समय तक बरकरार ना रहने के कई वैज्ञानिक कारण हैं. हाल ही में इस पर बेहद रोचक रिसर्च आई है. चलिए जानें, इन दिलचस्प कारणों के बारे में.

मर्दों की दोस्ती लंबे समय तक क्‍यों नहीं चलती? सामने आई ये वजह

नई दिल्ली : आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि महिलाओं के मुकाबले पुरुषों की दोस्ती लंबे समय तक नहीं चलती. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है ऐसा क्यों होता है? हाल ही में एक रिसर्च की गई जिसमें बेहद चौंकाने वाले खुलासे सामने आए हैं. चलिए जानते हैं क्या कहती है ये रिसर्च.

मर्दों को भावनाओं से ज्यादा अनुभवों पर यकीन है

समाजशास्त्री और 'बड्डी सिस्टम: अंडरस्टैंडिंग मेल फ्रेंडशिप' के लेखक डॉ जेफ्री ग्रीफ का कहना है कि पुरुषों की दोस्ती जहां कंधे से कंधा मिलाकर होती है वहीं महिलाओं की दोस्ती फेस टू फेस होती है. पुरुष जहां दोस्ती में साथ में गेम्स खेलना और स्पोर्ट्स देखना, म्यूजिक कॉन्सर्ट में साथ में जाना या एक साथ काम करना पसंद करते हैं, वहीं महिलाएं अपनी भावनाओं को बयां करके अपनी दोस्ती को आगे बढ़ाना पसंद करती हैं.

जैसे-जैसे सब बड़े होते जाते हैं, काम और घर की अधिक ज़िम्मेदारियों के कारण पुरुषों के पास दोस्तों के लिए समय नहीं होता, ऐसे में उनकी दोस्‍ती कमजोर पड़ने लगती है और वे अलग-थलग पड़ जाते हैं.

पुरुष अपनी परेशानियों को साझा करने से कतराते हैं

रिसर्च में पाया गया कि पुरुषों के पास यदि अपनी जिम्मेदारियों के चलते समय नहीं भी है, तो भी वे फोन पर भी कनेक्ट करने से कतराते हैं, क्योंकि ऐसा करने में उनकी कोई रूचि नहीं होती.

रिसर्च में 2,000 बच्चों और किशोरों को शामिल किया गया जिसमें पाया गया कि पुरुष अपनी समस्याओं के बारे में बात करने को 'अजीब' और 'समय की बर्बादी' मानते हैं. हालांकि ये रवैया पुरानी पीढ़ी के पुरुषों में अधिक देखने को मिलता है. 

काम और शादी को पहली प्राथमिकता देते हैं पुरुष

1980 में, बोस्टन के दो मनोचिकित्सकों ने अमेरिका में अकेलेपन और सामाजिक बहिष्कार के प्रभाव पर रिसर्च की थी. इस रिसर्च के नतीजों में पाया कि पुरुष अपने शादीशुदा जिंदगी और करियर पर ध्यान केंद्रित देने के लिए दोस्ती को पीछे छोड़ देते हैं.

डॉ श्वार्ट्ज ने द न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया कि अपने काम, करियर और परिवार-बच्चों के साथ पुरुष इतना ज्यादा इन्वॉल्व हो गए थे कि उन्होंने अपने दोस्तों को छोड़ना सही समझा. ऐसा इसीलिए क्योंकि सभी कुछ मैनेज करना पुरुषों के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी घरेलू नुस्खों और सामान्य जानकारियों पर आधारित है. इसे अपनाने से पहले चिकित्सीय सलाह जरूर लें. ZEE NEWS इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Trending news