close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

2014 के तरह इस बार भी हरियाणा के तीन सासंदो को नई सरकार के मंत्रिमंडल में मिली जगह

राव इंद्रजीत ने राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के रूप में शपथ ली. वहीं गुर्जर और कटारिया ने राज्य मंत्री के रूप में पद एवं गोपनीयता की शपथ ली. 

2014 के तरह इस बार भी हरियाणा के तीन सासंदो को नई सरकार के मंत्रिमंडल में मिली जगह
हरियाणा की सभी 10 लोकसभा सीटों पर बीजेपी ने जीत हासिल की है.

नई दिल्ली: नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने प्रधानमंत्री के तौर पर गुरुवार (30 मई) को दूसरी बार शपथ ली. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (RamNath Kovind) ने पीएम मोदी (PM Modi) को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. शपथ ग्रहण के बाद पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा कि मंत्रियों की नई टीम युवा ऊर्जा एवं प्रशासनिक अनुभव' का मेल है और हम साथ मिलकर भारत की प्रगति के लिए काम करेंगे. साल 2014 की तरह 2019 में तैयार हुए मोदी मंत्रिमंडल में एक बार फिर हरियाणा के तीन सांसद मंत्री बनेंगे. 

 

हरियाणा के तीन नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नीत नई राजग सरकार में मंत्री के रूप में शपथ ली. इसमें राव इंद्रजीत सिंह, कृष्ण पाल गुर्जर और रतन लाल कटारिया शामिल है. हाल में हुए लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने हरियाणा की सभी 10 लोकसभा सीटों पर जीत हासिल की थी. राव इंद्रजीत ने राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के रूप में शपथ ली. वहीं गुर्जर और कटारिया ने राज्य मंत्री के रूप में पद एवं गोपनीयता की शपथ ली. मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में भी हरियाणा से तीन मंत्री थे.

आपको बता दें कि नई सरकार के मंत्रिमंडल में सबसे ज्यादा संख्या में उत्तर प्रदेश के नेताओं को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई. मंत्रिमंडल में इस राज्य से 10 सांसदों को शामिल किया गया है. इन 10 नेताओं में से वाराणसी के सांसद नरेंद्र मोदी भी शामिल हैं. इसके बाद महाराष्ट्र के सात और बिहार के छह प्रतिनिधियों को नए मंत्रिमंडल में जगह मिली है. नई मोदी सरकार (Modi Government) में गुजरात, राजस्थान और हरियाणा से तीन-तीन प्रतिनिधियों को मंत्री बनाया गया है. 

लाइव टीवी देखें

इस बार पश्चिम बंगाल, ओडिशा, मध्य प्रदेश में दो-दो प्रतिनिधियों को मंत्रिमंडल में जगह मिली है. कर्नाटक से चार चेहरों को शामिल किया गया है. नई मंत्रिपरिषद में लगभग सभी राज्यों के प्रतिनिधि शामिल हैं. हालांकि, इसमें आंध्र प्रदेश और पूर्वोत्तर राज्य नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, सिक्किम और त्रिपुरा के किसी भी प्रतिनिधि को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया है.