मतदाता जागरुकता के लिए डॉक्टर की पहल, वोट देने के बाद करा सकते हैं मुफ्त इलाज

पटना के एक डॉक्टर ने पटनावासियों के लिए विशेष ऑफर दिया है. उनका कहना है कि जो भी वोटरअपने वोट डालने सिंबल दिखाएगा डाक्टर साहब उसका मुफ्त इलाज करेंगे.

मतदाता जागरुकता के लिए डॉक्टर की पहल, वोट देने के बाद करा सकते हैं मुफ्त इलाज
डॉक्टर ने मतदाताओं के मुफ्त इलाज का फैसला किया है.

पटनाः लोकतंत्र के महापर्व को सफल बनाने में चुनाव आयोग से लेकर जिला प्रशासन भी लगी हुई है. लेकिन इस मुहीम में अब डाक्टर भी शामिल हो चुके हैं. पटना के एक डॉक्टर ने पटनावासियों के लिए विशेष ऑफर दिया है. उनका कहना है कि जो भी वोटरअपने वोट डालने सिंबल दिखाएगा डाक्टर साहब उसका मुफ्त इलाज करेंगे.

पटना में अपनी छोटी सी क्लीनिक चलानेवाले डाक्टर पुरुषोत्म ने बड़ा फैसला लिया है. डॉ पुरुषोत्तम का क्लीनिक छोटा जरुर है लेकिन उन्होंने लोकतंत्र के महापर्व को सफल बनाने के लिए बड़े दिल का परिचय दिया है. 

दरअसल, डॉक्टर पुरुषोत्तम पेशे से सर्जन हैं और उन्होंने फैसला लिया है कि जो भी मरीज वोटिंग के बाद अपने वोट का सिंबल दिखाएगा, वो उसका मुफ्त इलाज करेंगे. डाक्टर पुरुषोत्तम कहते हैं कि पटना जैसे शहर के मतदाताओं को वोट देने के लिए जागरुक करना बेहद जरुरी है. क्योंकि, बीते चुनाव में शहरी मतदाताओं में वोटिंग को लेकर दिलचस्पी काफी कम देखने को मिली. अगर मेरी छोटी सी कोशिश से मतदाता जागरुक होते हैं तो मेरे लिए इससे अच्छी कोई बात नहीं हो सकती.

क्लिनिक में इलाज कराने आनेवाले मरीज वोटर एक डॉक्टर की पहल को काफी सराहनीय मानते हैं. दानापुर में रहनेवाले मरीज विनय कुमार की माने तो दूसरे डॉक्टरों को भी इस तरह की मुहीम चलानी चाहिए. ताकि वोटर ज्यादा से ज्यादा संख्या में जागरुक हो सकें.

दरअसल, पटना में वोटिंग प्रतिशत बढ़ाने के लिए चुनाव आयोग और जिला प्रशासन की ओर से बड़े पैमाने पर तैयारियां की गई है. कई जगहों पर वोटरों को जागरुक करने के लिए मधुबनी पेंटिंग का सहारा लिया जा रहा है. तो कई जगहों पर सेल्फी जोन बनाए गये हैं. ऐसे में लोकतंत्र के महापर्व को सफल बनाने के लिए निजी तौर पर किए जा रहे प्रयास काफी सराहनीय हैं.

आपको बता दें कि वोटिंग के मामले में पटना निवासी राज्य के दूसरे जिलों से काफी पीछे रहे हैं. पटना साहिब लोकसभा सीट की बात करें तो यहां 21 लाख 36 हजार 800 मतदाता हैं. 2014 लोकसभा चुनाव के वक्त यहां कुल मतदान का प्रतिशत 45.36 रहा. जबकि साल 2009 में हुए चुनाव के दौरान पटना साहिब लोकसभा का मतदान प्रतिशत महज 33.64 फीसदी रहा था.