close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

तीसरे मोर्चे की आस में भटके थे चंद्रबाबू नायडू, नहीं बचा पाए खुद की ही सत्ता!

राज्य में 2014 के विपरीत सभी दलों ने अपने दम पर चुनाव लड़ा है. पिछली बार तेदेपा और भाजपा ने मिलकर चुनाव लड़ा था.

तीसरे मोर्चे की आस में भटके थे चंद्रबाबू नायडू, नहीं बचा पाए खुद की ही सत्ता!
पांच साल पहले प्रचंड बहुमत के सत्ता में आने वाली टीडीपी के लिए अपने सिंहासन को बचाए रखने की बड़ी चुनौती थी.
Play

नई दिल्ली : आंध्रप्रदेश में लोकसभा और विधानसभा चुनावों की मतगणना के शुरुआती रुझानों में चंद्र बाबू नायडू की पार्टी टीडीपी को बड़ा झटका लगने के संकेत हैं. 11 बजे तक जो रुझान सामने आए हैं, उसमें टीडीपी 25 लोकसभा सीटों में से सिर्फ एक पर ही बढ़त बना पाई है. 

टीडीपी का क्या है विधानसभा में हाल
वहीं, बात राज्य के विधानसभा चुनावों के परिणाम की करें तो वह महज 25 सीटों पर ही बढ़त बना पाई है. निर्वाचन आयोग के अनुसार, सत्तारूढ़ तेलुगू देशम पार्टी केवल एक सीट पर आगे है. यानि की राज्य की सत्ता की आगे की तस्वीर में एक बार फिर कांग्रेस और बीजेपी कोसों दूर है. 

क्या कहता है 2014 का समीकरण
राज्य में 2014 के विपरीत सभी दलों ने अपने दम पर चुनाव लड़ा है. पिछली बार तेदेपा और भाजपा ने मिलकर चुनाव लड़ा था.

नायडू-जगन आमने-सामने
पांच साल पहले प्रचंड बहुमत के सत्ता में आने वाली टीडीपी के लिए अपने सिंहासन को बचाए रखने की बड़ी चुनौती थी. हालांकि विशेष राज्य की मांग को लेकर मुख्य मंत्री चंद्रबाबू नायडू बीजेपी से नाता तोड़कर एनडीए से अलग हो चुके थे. इतना ही नहीं नायडू इन दिनों नरेंद्र मोदी के खिलाफ सख्त रुख अख्तियार किए हुए थे. वहीं, वाईएसआर कांग्रेस के अध्यक्ष जगन मोहन रेड्डी आंध्र प्रदेश की सियासत में खुद को साबित करने के लिए हर संभव कोशिश में जुटे हुए थे, उनकी यह कोशिश परिणामों में देखी जा सकती है. जगन मोहन रेड्डी ने टीडीपी के खिलाफ माहौल बनाने और जनता का विश्वास जीतने के लिए पूरे प्रदेश का दौरा किया था. जगन सूबे में सत्ताविरोधी लहर का राजनीतिक फायदा उठाना चाहते हैं.

क्यों निशाने पर आए चंद्रबाबू नायडू
आंध्र प्रदेश में टीडीपी की हार को चंद्रबाबू नायडू से इसलिए जोड़ा जा रहा है, क्योंकि वह बीजेपी के विपक्ष में एकमात्र ऐसे नेता थे, जिन्होंने तीसरे मोर्चे की कवायद सबसे ज्यादा की थी. लोकसभा चुनावों में मतदान की प्रक्रिया के दौरान नायडू प्रचार कम और पूरे विपक्ष को एक मुट्ठी में करने की कोशिश करते हुए नजर आए.