रामलीला मैदान में रैली से पहले केजरीवाल ने पीएम मोदी से पूछे 3 सवाल

केजरीवाल ने कहा, ‘‘दिल्ली की भोलीभाली जनता ने बीजेपी को सातों सीट जिता दीं लेकिन पांच साल बीतने के बाद भी दिल्ली पूर्ण राज्य नहीं बन सकी. मोदी जी अब दिल्ली की जनता को इसकी वजह तो बता दें.’’ 

रामलीला मैदान में रैली से पहले केजरीवाल ने पीएम मोदी से पूछे 3 सवाल
फोटो सौजन्य: ट्विटर

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) में आज पीएम नरेंद्र मोदी अपनी पहली चुनावी रैली को संबोधित करने वाले हैं. पीएम मोदी की रैली से पहले दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी और केंद्र की मोदी सरकार से तीन सवाल पूछे हैं. केजरीवाल ने मोदी से दिल्ली में सीलिंग, पूर्ण राज्य का दर्जा और पाकिस्तान के साथ उनके रिश्तों को लेकर ये सवाल पूछते हुए अनुरोध किया कि रामलीला मैदान में आयोजित रैली में प्रधानमंत्री इन सवालों के जवाब दें. इसके साथ ही केजरीवाल ने पीएम मोदी से दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाने को लेकर उनके पुराने वादे को भी याद दिलाया.

केजरीवाल ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी की आज दिल्ली में रैली है. हमारा उनसे निवेदन है कि इस रैली में मोदी जी हमारे तीन सवालों का दिल्ली की जनता को जवाब जरूर देंगे.’’

उन्होंने कहा कि पहला सवाल यह है कि दिल्ली में इतने लंबे समय से सीलिंग क्यों करायी जा रही है, जिसके कारण दिल्ली का उद्योग जगत तबाह हो गया. दूसरा सवाल पूर्ण राज्य को लेकर है, जिसके लिये मोदी ने 2014 में रामलीला मैदान में ही वादा किया था कि केन्द्र में बीजेपी की सरकार बनने पर दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिया जायेगा. 

केजरीवाल ने कहा, ‘‘दिल्ली की भोलीभाली जनता ने बीजेपी को सातों सीट जिता दीं लेकिन पांच साल बीतने के बाद भी दिल्ली पूर्ण राज्य नहीं बन सकी. मोदी जी अब दिल्ली की जनता को इसकी वजह तो बता दें.’’ 

केजरीवाल ने प्रधानमंत्री से तीसरा सवाल पाकिस्तान के साथ उनके रिश्तों को लेकर पूछा. उन्होंने कहा, कि पाकिस्तान के किसी प्रधानमंत्री ने पहली बार भारत में किसी व्यक्ति विशेष के प्रधानमंत्री चुने जाने की जरूरत पर बल दिया है. केजरीवाल ने कहा कि मोदी को यह बताना चाहिये कि पाकिस्तान के साथ उनके क्या रिश्ते हैं? 

उल्लेखनीय है कि हाल ही में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत में लोकसभा चुनाव के बाद दोबारा मोदी सरकार के गठन की जरूरत पर बल देते हुये कहा था कि ऐसा होने पर भारत और पाकिस्तान के बीच शांति प्रक्रिया बहाल हो सकेगी. 

(इनपुट एजेंसी भाषा से भी)