कांग्रेस के गढ़ नांदेड़ में BJP ने कसी कमर, चव्हाण-चिखलीकर के बीच है चुनावी रण

यहां से कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण मैदान में हैं. नांदेड़ मराठवाड़ा क्षेत्र में स्थित है और यह उन दो सीटों में से एक है जिस पर कांग्रेस ने 2014 जीत हासिल की थी.

कांग्रेस के गढ़ नांदेड़ में BJP ने कसी कमर, चव्हाण-चिखलीकर के बीच है चुनावी रण
नांदेड़ हमेशा से कांग्रेस पार्टी का गढ़ रहा है.

नांदेड़ (महाराष्ट्र): कांग्रेस का गढ़ समझे जाने वाली नांदेड़ लोकसभा सीट पर भाजपा ने बाजी पलटने की तैयारी में है. यहां से कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण मैदान में हैं. नांदेड़ मराठवाड़ा क्षेत्र में स्थित है और यह उन दो सीटों में से एक है जिस पर कांग्रेस ने 2014 जीत हासिल की थी. तब इस राज्य की कुल 48 सीटों में से केवल दो सीटें ही कांग्रेस जीत सकी थी. 

चव्हाण-चिखलीकर हैं आमने-सामने
चव्हाण नांदेड़ के मौजूदा सांसद हैं और उनका मुकाबला भाजपा के प्रताप चिखलीकर से है, जो अभी लातूर जिले के लोहा से विधायक हैं. दोनों ही मराठा समुदाय से आते हैं और मतदाताओं को लुभाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं.

सभी दलों का हिस्सा रहे हैं चिखलीकर
चिखलीकर ने कहा कि भाग्यवश या दुर्भाग्यवश, मैं सभी प्रमुख दलों का हिस्सा रहा हूं. वह कांग्रेस, शिवसेना और राकांपा में रह चुके हैं. चिखलीकर ने चव्हाण पर निर्वाचन क्षेत्र के विकास के लिए काम ना करने का आरोप लगाते हुए कहा कि केन्द्रीय मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी ने नांदेड़ में आधारभूत संरचना का काम शुरू किया. वहीं मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व वाली वर्तमान राज्य सरकार ने 45 करोड़ रुपये की जल भंडारण योजना को भी मंजूरी दी है.

 

क्या है राजनीतिक इतिहास
चव्हाण ने 1987 में पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ा और जीत भी हासिल की. हांलाकि 1989 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा. नांदेड़ हमेशा से कांग्रेस पार्टी का गढ़ रहा है लेकिन 1989 और फिर 2004 में पार्टी को यहां से हार का सामना करना पड़ा था.

14 उम्मीदवार आजमा रहे हैं किस्मत
लोकसभा चुनाव के लिए यहां 17,19,247 मतदाता हैं और 14 उम्मीदवार चुनाव में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. यहां 18 अप्रैल को दूसरे चरण में मतदान होगा. महाराष्ट्र की 48 सीटों पर चार चरणों में 11,18,23, और 29 अप्रैल को मतदान होगा.