close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार : ललन सिंह के पक्ष में हवा बनाने पहुंचे नित्यानंद राय, गायब रहे स्थानीय BJP विधायक

मुंगेर लोकसभा क्षेत्र कई महीनों से काफी चर्चा में है. मोकामा विधायक अनंत सिंह के मुंगेर से चुनाव लड़ने के एलान के बाद से ही यह सीट चर्चा में है. 

बिहार : ललन सिंह के पक्ष में हवा बनाने पहुंचे नित्यानंद राय, गायब रहे स्थानीय BJP विधायक
लखीसराय में एनडीए का कार्यकर्ता सम्मेलन.

लखीसराय : राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के सम्मेलन से गायब रहे स्थानीय विधायक और बिहार सरकार में मंत्री विजय सिन्हा की गैरमौजूदगी से चर्चाओं का बाजार गर्म है. एनडीए के लखीसराय जिला कार्यकर्ता सम्मेलन में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, मुंगेर सीट से जेडीयू प्रत्याशी और बिहार सरकार में मंत्री ललन सिंह मौजूद थे. इस बारे में जब विजय सिन्हा से सम्पर्क किया गया तो उन्होंने बताया कि उनका पहले से कार्यक्रम तय था, जिसके कारण वह शामिल नहीं हो सके. ज्ञात हो कि इस कार्यक्रम में ललन सिंह के पक्ष में गोलबंदी के लिए बीजेपी अध्यक्ष नित्यानंद राय लखीसराय पहुंचे थे.

मुंगेर लोकसभा क्षेत्र कई महीनों से काफी चर्चा में है. मोकामा विधायक अनंत सिंह के मुंगेर से चुनाव लड़ने के एलान के बाद से ही यह सीट चर्चा में है. वहीं, जेडीयू ने जल संसाधन मंत्री ललन सिंह को चुनावी मैदान में उतारा है.

ललन सिंह के पक्ष में हवा बनाने के लिए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष नित्य़ानंद राय लखीसराय पहुंचे थे. नित्यानंद के साथ-साथ स्थानीय प्रत्याशी ललन सिंह के अलावे एनडीए गठबंधन के कई नेता मौजूद थे. सम्मेलन में एनडीए नेताओं ने अपने कार्यकर्ताओं को अपने प्रत्याशी को जिताने के लिए पूरी ताकत से जुटने का आह्वान किया. 

सम्मेलन मे मौजूद लोग अपने विधायक को ढूंढ़ते रहे. एनडीए का कार्यकर्ता सम्मेलन लखीसराय के केआरके कॉलेज में आयोजित किया गया था. लखीसराय के स्थानीय बीजेपी विधायक विजय कुमार सिन्हा हैं, जो बिहार सरकार में मंत्री भी हैं. जो कि इस सम्मेलन से दूर थे.

उनकी गैरमौजूदगी में यह चर्चा थी कि कहीं वे नाराज तो नहीं? क्योंकि मंत्री विजय सिन्हा भी चुनाव लड़ने के इच्छुक थे. अपनी इच्छा भी उन्होंने मीडिया के माध्यम से जाहिर की थी. पार्टी के स्थानीय नेता भी यह चर्चा करते दिखे कि कहीं विजय सिन्हा को टिकट नहीं मिलने का दर्द तो नहीं?