close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चुनावनामा 2014: 3 दशक बाद किसी सियासी दल को मिला पूर्ण बहुमत, मोदी बने देश के 19वें प्रधानमंत्री

लोकसभा चुनाव 2019 अपने अंतिम पड़ाव पर है. 23 मई को नतीजे सामने आने के बाद यह साफ हो जाएगा कि अगले पांच साल देश की बागड़ोर किसके पास रहेगी. 

चुनावनामा 2014: 3 दशक बाद किसी सियासी दल को मिला पूर्ण बहुमत, मोदी बने देश के 19वें प्रधानमंत्री
लोकसभा चुनाव 2014 में 8271 उम्‍मीदवारों ने अपनी किस्‍मत आजमाई थी. जिसमें 7000 उम्‍मीदवारों की जमानत जब्‍त हुई थी. (फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव 2019 अपने अंतिम चरण में है. चंद दिनों के अंतराल में इस बात का फैसला हो जाएगा कि देश की सत्‍ता किसके हाथों में जाती है. फिलहाल, हर किसी के जुबां में यही चर्चा है कि इस बार किसी पार्टी को बहुमत मिलेगा या एक बार फिर देश को गठबंधन सरकार का सामना करना पड़ेगा. चुनावनामा में आज हम उस दौर की बात कर रहे हैं, जब देश को 3 दशकों तक गठबंधन सरकारों का सामना करना पड़ा था. 1984 के लोकसभा चुनाव में राजीव गांधी के नेतृत्‍व में कांग्रेस ने पूर्ण बहुमत हासिल कर अपनी सरकार बनाई थी. जिसके बाद देश में लगातार गठबंधन सरकारों का दौर रहा. राजीव गांधी के बाद 2014 में नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला. पूर्ण बहुमत होने के बावजूद बीजेपी ने  एनडीए के घटक दलों के साथ मिलकर अपनी सरकार बनाई और नरेंद्र मोदी ने देश के 19वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली.

आजादी के बाद कांग्रेस को मिली सबसे बड़ी हार
2014 का लोकसभा चुनाव, आजादी के बाद का पहला ऐसा चुनाव था, जिसमें कांग्रेस को इनती बुरी हार मिली हो. इस चुनाव में कांग्रेस ने कुल 464 सीटों पर अपने उम्‍मीदवार खड़े किए थे. जिसमें महज 44 उम्‍मीदवार चुनाव जीतकर संसद पहुंचने में कामयाब रहे. इस चुनाव न केवल 178 उम्‍मीदवारों की जमानत जब्‍त हुई, बल्कि 19 राज्‍यों में कांग्रेस अपना खाता भी नहीं खोल सकी. इन राज्‍यों में गोवा, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, जम्‍मू और कश्‍मीर, नागालैंड, उड़ीसा, राजस्‍थान, सिक्किम, त्रिपुरा, झारखंड, उत्‍तराखंड, अंडमान-निकाबोर, चंडीगढ़, दादर नगर हवेली, दिल्‍ली, दमन दीव, लक्ष्‍यदीव और पुदुचेरी शामिल है. चुनाव आयोग के आंकड़ों के अनुसार, 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने कर्नाटक में सर्वाधिक 9 सीटें जीतीं. इसके अलावा, आंध्र प्रदेश में 2, अरुणाचल प्रदेश में 1, असम में 3, बिहार में 2, हरियाणा में 1, केरल में 8, मध्‍य प्रदेश में 2, महाराष्‍ट्र में 2, मणिपुर में 2, मेघालय में 1, मिजोरम में 1, पंजाब में 3, उत्‍तर प्रदेश में 2, पश्चिम बंगाल में 4 और छत्‍तीसगढ़ में 1 सीट पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की. 

यह भी पढ़ें: चुनावनामा 2009: जब BJP ने 'आडवाणी' को बनाया PM पद का उम्‍मीदवार और मनमोहन सिंह के हाथ लगी बाजी

यह भी पढ़ें: चुनावनामा 2004: बेअसर रही इंडिया शाइनिंग की मुहिम, 8 साल बाद फिर सत्‍ता में लौटी कांग्रेस

बीजेपी ने इन छह राज्‍यों में किया था क्‍लीन स्‍वीप
लोकसभा चुनाव 2014 में बीजेपी ने कुल 428 उम्‍मीदवार चुनावी मैदान में उतारे थे, जिसमें 282 उम्‍मीदवार चुनाव जीतकर संसद पहुंचने में कामयाब रहे थे. इस चुनाव में पांच राज्‍य ऐसे भी थे, जहां बीजेपी ने क्‍लीन स्‍वीप किया था. इन राज्‍यों में गोवा, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, उत्‍तराखंड, दिल्‍ली और राजस्‍थान का नाम शामिल है. बीजेपी ने गोवा में 2, गुजरात में 26, हिमाचल प्रदेश में 4, उत्‍तराखंड में 5, दिल्‍ली में 7 और राजस्‍थान में 25 सीटों पर जीत दर्ज की थी. 2014 के लोकसभा चुनाव में संख्‍या के आधार पर बीजेपी को सबसे बड़ी जीत उत्‍तर प्रदेश से मिली थी. उत्‍तर प्रदेश में बीजेपी ने कुल 71 सीटों पर अपना परचम लहराया था. चुनाव आयोग के आंकड़ो के अनुसार, इस चुनाव में बीजेपी ने आंध्र प्रदेश से 3, अरुणाचल प्रदेश से 1, असम से 7, बिहार से 22, हरियाणा से 7, जम्‍मू और कश्‍मीर से 3, कर्नाटक से 17, मध्‍य प्रदेश से 27, महाराष्‍ट्र से 23, उ‍ड़ीसा से 1, पश्चिम बंगाल से 2, छत्‍तीसगढ़ से 10, झारखंड से 12, अंडमान से एक, चंडीगढ़ से एक, दादर नगर हवेली से 1 और दमन दीव से 1 सीट पर जीत हासिल की थी.  

यह भी पढ़ें: चुनावनामा 1999: अटल के नेतृत्‍व में सत्‍ता पर लौटी NDA, विदेशी मूल के मुद्दे पर टूटी कांग्रेस

यह भी पढ़ें: चुनावनामा 1998: जानिए, किस सांसद की क्रास वोटिंग के चलते 13 म‍हीने में गिर गई थी अटल सरकार

BSP के 447 प्रत्‍याशियों की जब्‍त हुई जमानत
संसद की दहलीज में बतौर सांसद कदम रखने के लिए लोकसभा चुनाव 2014 में 8271 उम्‍मीदवारों ने अपनी किस्‍मत आजमाई थी. जिसमें नेशनल स्‍टेटस रखने वाली 6 पार्टियों के 1591 उम्‍मीदवार शामिल थे. इस चुनाव में कुल 7000 उम्‍मीदवारों की जमानत जब्‍त हुई थी, जिसमें राष्‍ट्रीय दलों के 807 उम्‍मीदवार शामिल थे. चुनाव आयोग के आंकड़ों के अनुसार, लोकसभा चुनाव 2014 में बीएसपी ने कुल 503 उम्‍मीदवार चुनाव मैदान में उतारे थे, जिसमें  एक भी उम्‍मीदवार चुनाव नहीं जीत पाया था. इस चुनाव में बीएसपी के सर्वाधिक 447 उम्‍मीदवारों की जमानत जब्‍त हो गई थी. इसके अलावा, लोकसभा चुनाव 2014 में बीजेपी के 62, सीपीआई के 1, सीपीएम के 50, कांग्रेस के 178 और एनसीपी के 13 उम्‍मीदवारों की जमानत जब्‍त हुई थी. 

यह भी पढ़ें: चुनावनामा 1996: जब 16 साल संघर्ष के बाद मिली सत्‍ता 13 दिनों में चली गई...

यह भी पढ़ें: चुनावनामा 1991: मंडल-मंदिर और सहानुभूति की लहर के बीच कांग्रेस की हुई सत्‍ता में वापसी

इन तीन घोटालों ने खिलकाया कांग्रेस का जनाधार 
2004 से 2014के बीच हुए तीन बड़े घोटालों ने कांग्रेस के जनाधार में सबसे बड़ी चोट की. दरअसल, 2008 में सबसे पहले 2 जी स्‍पेक्‍ट्रम घोटाला सामने आया. जिसमें यूपीए सरकार में शामिल मंत्रियों पर कथित तौर पर निजी मोबाइल कंपनियों को फायदा पहुंचाने का आरोप लगा. सरकार पर आरोप था कि इन निजी कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए गलत तरीके से मोबाइल स्‍पेक्‍ट्रम का आवंटन हुआ, जिससे देश के राजस्‍व को करीब 1.76 लाख करोड़ का नुकसान हुआ. इसके बाद आया 2010 का कामनवेल्‍थ गेम्‍स घोटाला. दरअसल, 2010 में भारत ने कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स की मेजबानी की थी. जिसके आयोजन में व्‍यापक स्‍तर पर घोटाले के आरोप लगे थे. इसके अलावा, 2012 में हुए कोयला घोटाले की वजह से कांग्रेस के नेतृत्‍व वाली यूपीए सरकार को किरकिरी झेलनी पड़ी. कथित तौर पर 1.86 लाख करोड़ हुए इस घोटाले का खुलासा होने के बाद सितबंर 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने 214 खदानों के आवंटन को रद्द कर दिया था. इन घोटालों के बीच देश में अन्‍ना हजारे ने भष्‍ट्राचार के खिलाफ एक अभियान शुरू किया. जिसका सबसे बड़ा नुकसान सत्‍तारूढ़ कांग्रेस को हुआ.