close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

MP: वायरल वीडियो पर खेल मंत्री को मिली 'क्लीन चिट', बीजेपी भड़की

जिला निर्वाचन कार्यालय ने मध्यप्रदेश के खेल और युवा कल्याण मंत्री जीतू पटवारी को "क्लीन चिट" दे दी है. इस बीच, बीजेपी ने इसे "पक्षपातपूर्ण कदम" बताते हुए चुनाव आयोग से मांग की है कि जिला निर्वाचन अधिकारी का तत्काल प्रभाव से तबादला किया जाये. 

MP: वायरल वीडियो पर खेल मंत्री को मिली 'क्लीन चिट', बीजेपी भड़की
पटवारी पर कथित चुनावी प्रलोभन दिये जाने की शिकायत की गई थी. (फाइल फोटो)

इंदौर: जिम के 25 लाख रुपये मूल्य के सामान के नाम पर कथित चुनावी प्रलोभन दिये जाने की शिकायत की जांच के बाद जिला निर्वाचन कार्यालय ने मध्यप्रदेश के खेल और युवा कल्याण मंत्री जीतू पटवारी को "क्लीन चिट" दे दी है. इस बीच, बीजेपी ने इसे "पक्षपातपूर्ण कदम" बताते हुए चुनाव आयोग से मांग की है कि जिला निर्वाचन अधिकारी का तत्काल प्रभाव से तबादला किया जाये. 

चुनावी बेला में सोशल मीडिया पर हाल ही में सामने आये एक वीडियो के आधार पर पटवारी के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत की गयी थी. इसमें वह एक कमरे में आयोजित बैठक में कुछ लोगों से मालवी बोली में कथित तौर पर यह कहते सुनायी पड़ रहे हैं कि इंदौर लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी पंकज संघवी को विजयी बनाये जाने पर वह उन्हें 25 लाख रुपये मूल्य का जिम का सामान प्रदान करेंगे. इस वीडियो में संघवी भी दिखायी दे रहे हैं. 

पटवारी को जारी किया गया था नोटिस
जिला निर्वाचन कार्यालय के एक आला अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि मामले में पटवारी को नोटिस जारी किया गया था. इसके जवाब के अध्ययन और वीडियो की जांच के बाद यह कार्यालय इस नतीजे पर पहुंचा है कि सूबे के खेल मंत्री के बयान से लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 123 (चुनावों के दौरान भ्रष्ट आचरण) का उल्लंघन नहीं होता है. लिहाजा मामले को नस्तीबद्ध (फाइल बंद करना) करने के लिये चुनाव आयोग को रिपोर्ट भेज दी गयी है. 

आरोप को किया खारिज
सूत्रों ने बताया कि जिला निर्वाचन कार्यालय के नोटिस पर पटवारी की ओर से भेजे गये जवाब में इस आरोप को सिरे से खारिज किया गया था कि उन्होंने 25 लाख रुपये मूल्य का जिम का सामान प्रदान करने की बात मतदाताओं को लुभाने के लिये की थी. 

खेल मंत्री ने दी थी दलील
सूत्रों ने बताया कि इस जवाब में मध्यप्रदेश के खेल मंत्री के बचाव में यह दलील भी दी गयी थी कि देश के विभिन्न हिस्सों में व्यायामशालाओं और अन्य क्रीड़ा परिसरों के बुनियादी ढांचे को आधुनिकतम बनाने के लिये "पर्याप्त धन मुहैया कराये जाने का वायदा" कांग्रेस के लोकसभा चुनावों के घोषणापत्र में पहले से है.

बीजेपी ने जताई आपत्ति
उधर, सूबे के प्रमुख विपक्षी दल बीजेपी ने पटवारी को जिला निर्वाचन कार्यालय द्वारा क्लीन चिट दिये जाने पर कड़ी आपत्ति जतायी है. प्रदेश बीजेपी प्रवक्ता उमेश शर्मा ने कहा, "जिला निर्वाचन कार्यालय बीजेपी नेताओं पर तो आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के मामले दर्ज करा रहा है लेकिन इस कार्यालय ने सूबे में सत्तारूढ़ कांग्रेस के दबाव में पक्षपातपूर्ण कदम उठाते हुए पटवारी को क्लीन चिट दे दी है. संबंधित वीडियो देखकर एक बच्चा भी समझ सकता है कि कमलनाथ सरकार के खेल मंत्री जिम के सामान के नाम पर लोगों को धन का खुला चुनावी प्रलोभन दे रहे हैं." 

तबादले की मांग की
उन्होंने कहा, "हमारी भारत निर्वाचन आयोग से मांग है कि इंदौर क्षेत्र में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव संपन्न कराने के लिये जिला निर्वाचन अधिकारी लोकेश कुमार जाटव का तत्काल प्रभाव से तबादला किया जाये." 

इंदौर लोकसभा क्षेत्र में 19 मई को मतदान होगा. इस क्षेत्र में मुख्य चुनावी मुकाबला कांग्रेस उम्मीदवार पंकज संघवी और बीजेपी प्रत्याशी शंकर लालवानी के बीच होना है, जहां करीब 23.5 लाख लोगों को मतदान का अधिकार हासिल है.