close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पश्चिम बंगाल चुनावी हिंसाः कांग्रेस ने चुनाव आयोग को बताया 'बिना दांत वाला शेर'

पश्चिम बंगाल में पिछले 6 चरणों के मतदान के दौरान हुई हिंसा को देखते हुए वहां चुनाव प्रचार एक दिन पहले ही समाप्त करने की घोषणा कर दी है. इसलिए बंगाल में 19 मई को होने वाले मतदान के लिए आज (गुरुवार) रात 10 बजे प्रचार समाप्त हो जाएगा. 

पश्चिम बंगाल चुनावी हिंसाः कांग्रेस ने चुनाव आयोग को बताया 'बिना दांत वाला शेर'
फाइल फोटो- PTI

नई दिल्लीः पश्चिम बंगाल में पिछले कुछ दिन से जारी चुनावी हिंसा को देखते हुए चुनाव आयोग द्वारा एक दिन पहले प्रचार खत्म करने फैसले पर अब टीएमसपी प्रमुख ममता बनर्जी के बाद कांग्रेस पार्टी ने सवाल उठाए हैं. कांग्रेस ने चुनाव आयोग के इस फैसले को देश के प्रजातंत्र पर एक काला धब्बा बताते हुए आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठाए हैं. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाल ने कहा, 'ऐसा लगता है कि चुनाव आचार संहिता अब मोदी जी की चुनाव प्रचार सहिंता बन गई है. चुनाव आयोग आज अपनी विश्वसनीयता खो चुका है.' 

सुरेजवाला ने कहा, 'जिसे प्रकार से कल (बुधवार) शाम को चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में 20 घंटे तक चुनाव प्रचार को रोक दिया है वो दर्शाता है कि ये अपने आप में देश के प्रजातंत्र पर एक काला धब्बा है. इस आदेश में संविधान के आर्टिकल 324 की परिपाटी और आर्टिकल 14 और 21 की परिपाटी और मान्यताओं को धूमिल किया है. ऐसा लगाता है कि ये पीएम मोदी के लिए पार्टिंग गिफ्ट है. ताकि वो आज शाम को होने वाली मथुरापुर और दमदम की अपनी चुनावी रैलियां कर सकें और उसके बाद आज रात 10 बजे से ये प्रतिबंध लग जाएगा.'

कांग्रेस नेता ने कहा, 'जिस प्रकार की गुंडागर्दी और हिंसा का नंगा नाच हुआ कोलकाता में जहां खुद अमित शाह उस रोड शो का नेतृ्तव कर रहे थे. उनको सजा देने के बजाय चुनाव आयोग आज ये कह रहा है कि वह शक्तिहीन है, वह मूक दर्शक है, वह देश के संविधान को करने में, वह निष्पक्ष और निर्भीक चुनाव करवाने में संपूर्ण रूप से असक्षम है.'

सुरजेवाला ने कहा, 'नमो टीवी के माध्यम से बीजेपी का प्रचार किया जा रहा है, कई शिकायतें आयोग के पास गई लेकिन कोई कार्रवाई आयोग ने नहीं की. चुनाव आयोग बिना दांत वाला शेर बनकर रह गया है?'

सुरजेवाला ने कहा, 'देशवासी आज चुनाव आय़ोग से कुछ सवाल पूछ रहे हैं. चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार पर प्रतिबंध लगाने वाले अपने आदेश को 24 बाद ही लागू क्यों किया? यानि आज रात 10 बजे से? क्या चुनाव आयोग मोदी जी के हितों को साध रहा है? क्या आज मोदी और शाह ने चुनाव की निर्भीकता और निष्पक्षता पर जबरन कब्जा कर लिया है?

कांग्रेस पार्टी ने दावा किया हमने पीएम मोदी और अमित शाह द्वारा की गई आचार संहिता उल्लंघन की 11 अलग अलग शिकायतें संपूर्ण सबूतों के साथ दी आयोग को दी थी लेकिन आयोग ने कोई कार्रवाई नहीं की.

यह भी पढ़ेंः PM पद की पेशकश कोई मुद्दा नहीं, किसी और को भी कर सकते हैं समर्थनः कांग्रेस

बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019)  के सातवें और अंतिम चरण में 19 मई को 8 राज्यों की 59 सीटों पर वोटिंग होनी है, इसी चरण में पश्चिम बंगाल की भी 9 सीटों पर मतदान होना है. लेकिन चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में पिछले 6 चरणों के मतदान के दौरान हुई हिंसा को देखते हुए वहां चुनाव प्रचार एक दिन पहले ही समाप्त करने की घोषणा कर दी है. इसलिए बंगाल में 19 मई को होने वाले मतदान के लिए आज (गुरुवार) रात 10 बजे प्रचार समाप्त हो जाएगा. 

बंगाल की जिन सीटों पर मतदान होना है उनमें दमदम, बारासात, बशीरहाट, जयनगर, मथुरापुर, डायमंड हार्बर, जाधवपुर, कोलकाता दक्षिण और कोलकाता पश्चिम लोकसभा क्षेत्र शामिल हैं. इन सभी सीटों पर चुनाव प्रचार आज रात 10 बजे समाप्त हो जाएगा.

आयोग ने मंगलवार को कोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के साथ हुयी हिंसक झड़प की शिकायतों पर संज्ञान लेते हुये यह कार्रवाई की है. कुमार ने स्पष्ट किया कि मंगलवार को हुयी हिंसक झड़प के दौरान समाज सुधारक ईश्वरचंद्र विद्यासागर की प्रतिमा तोड़े जाने के बाद राज्य में कानून व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति पर चुनाव आयोग ने गंभीर नाराजगी प्रकट करते हुये प्रचार अभियान को समय से पहले रोकने का फैसला किया है. 

(इनपुट एजेंसी भाषा से भी)