close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टिकट को लेकर लालू यादव के गणित में शत्रुघ्न सिन्हा हुए पास, कीर्ति आजाद हो गए फेल

कांग्रेस ज्वाइन करने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा को टिकट मिल गया है लेकिन कीर्ति आजाद की टिकट को लेकर उम्मीदें खत्म हो गई है.

टिकट को लेकर लालू यादव के गणित में शत्रुघ्न सिन्हा हुए पास, कीर्ति आजाद हो गए फेल
शत्रुघ्न सिन्हा और कीर्ति आजाद दोनों ने कांग्रेस ज्वाइन किया है. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः बीजेपी पार्टी से बगावत के बाद दो बड़े स्टार नेता कीर्ति आजाद और शत्रुघ्न सिन्हा अब कांग्रेस में हैं. दोनों नेताओं ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया है. कीर्ति आजाद ने फरवरी माह में ही कांग्रेस में शामिल हो गए थे. जबकि शत्रुघ्न सिन्हा ने शनिवार को ही कांग्रेस ज्वाइन किया है. पार्टी में शामिल होते ही उन्हें पटना साहिब से टिकट भी दे दिया गया है. वहीं, कीर्ति आजाद की टिकट दरभंगा से काट दी गई. और अब तो बिहार में उन्हें टिकट मिलने की उम्मीद ही समाप्त हो गई है.

कीर्ति आजाद जो लगातार दरभंगा सीट से चुनाव लड़ने का दावा कर रहे थे. लेकिन दरभंगा सीट आरजेडी के खाते में जाने से उनकी उम्मीदों पर पानी फिर गया. वहीं, अब बिहार में उनके लिए कोई सीट नहीं है जिससे उन्हें टिकट मिल सके. ऐसे में शत्रुघ्न सिन्हा कीर्ति आजाद से आगे निकले जिन्हें पार्टी ज्वाइन करते ही तरजीह मिली और पटना साहिब का टिकट भी उन्हें दे दिया गया.

टिकट के गणित में पास हुए शत्रुघ्न सिन्हा
कीर्ति आजाद को टिकट न मिलना और शत्रुघ्न सिन्हा का टिकट पाने में सफल होना लालू के गुणा गणित का खेल माना जा रहा है. जिसमें सिन्हा पास होते दिखे तो आजाद इसमें फेल हो गए. शत्रुघ्न सिन्हा कांग्रेस ज्वाइन करने के फैसले के अंत तक लालू यादव से सलाह मशविरा करते नजर आए. सिन्हा ने खुद ही कहा कि उन्हें लालू यादव की सलाह के बाद ही कांग्रेस ज्वाइन किया है.

लालू यादव से कीर्ति आजाद की बात नहीं बनी
हालांकि कीर्ति आजाद ने भी लालू यादव के पास हाजरी लगाई थी लेकिन उनकी दरभंगा से लड़ने की जिद को लालू यादव ने अनसुना कर दिया. और महागठबंधन में टिकट के गणित में लालू यादव ने कीर्ति आजाद का पत्ता काट दिया. हालात ऐसे हो गए की अब तो बिहार में ही उनके लिए कोई टिकट नहीं बची. हालांकि झारखंड के धनबाद से उन्हें टिकट मिलने की आश है. लेकिन जिस दावे के साथ वह कांग्रेस में शामिल हुए थे उन्हें पार्टी पूरी नहीं कर पाई.

शत्रुघ्न सिन्हा ने कांग्रेस ज्वाइन करने से पहले पूरा मंथन किया. साथ ही लालू यादव से भी पूरा सलाह लिया. हालांकि माना जा रहा था कि वह आरजेडी में शामिल हो सकते हैं. लेकिन पटना साहिब सीट को लेकर शायद उन्होंने कांग्रेस से हाथ मिलाना पड़ा. इसलिए उन्होंने कहा भी था की लालू यादव की सलाह से ही वह कांग्रेस में शामिल हुए हैं.