close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मिशन गठबंधन पर नायडू, केजरीवाल से की मुलाकात, आज मायावती से मिलेंगे

गैर-बीजेपी गठबंधन बनाने के लिए क्षेत्रीय दलों को एकजुट करने में जुटे टीडीपी अध्यक्ष नायडू इससे पहले दिन में सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी से भी मिले थे.

मिशन गठबंधन पर नायडू, केजरीवाल से की मुलाकात, आज मायावती से मिलेंगे
(फोटो साभार- @AamAadmiParty)

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 के परिणाम की घोषणा होने से कुछ दिन पहले आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चन्द्रबाबू नायडू ने शुक्रवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल से मुलाकात की. आम आदमी पार्टी ने इसे ‘शिष्टाचार भेंट’ बताया.

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और आप के वरिष्ठ नेता संजय सिंह भी इस दौरान मौजूद थे. सूत्रों के अनुसार, नायडू और केजरीवाल के बीच चुनाव परिणाम के बाद के हालात, उस वक्त दोनों पार्टियों (टीडीपी और आप) की भूमिका आदि पर चर्चा हुई. हालांकि आप का कहना है कि नायडू ने केजरीवाल से ‘शिष्टाचार भेंट’ की.

नायडू ने की येचुरी से भी मुलाकात
गैर-बीजेपी गठबंधन बनाने के लिए क्षेत्रीय दलों को एकजुट करने में जुटे टीडीपी अध्यक्ष नायडू इससे पहले दिन में सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी से भी मिले थे. सूत्रों ने बताया कि नायडू शनिवार को दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और लखनऊ में बसपा सुप्रीमो मायावती से मिलने वाले हैं.

बता दें नायडू और केजरीवाल मोदी सरकार पर काफी आक्रामक आलोचना कर रहे हैं.  चंद्रबाबू नायडू ने बुधवार को बीजेपी पर पश्चिम बंगाल में हिंसा फैलाने का आरोप लगाया था. नायडू ने इसके साथ ही यह भी आरोप लगाया कि भाजपा वहां राज्य सरकार को अस्थिर करने का प्रयास कर रही है.  नायडू ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर आरोप लगाया कि उन्होंने मंगलवार को अपने रोडशो के दौरान ‘गुंडों’की मदद से हिंसा भड़काई. 

तेदेपा प्रमुख नायडू ने एक ट्वीट में कहा, 'भाजपा और उसके कार्यकर्ताओं द्वारा कल कोलकाता में की गई हिंसा की कड़ी निंदा करता हूं. पश्चिम बंगाल राज्य सरकार को सीबीआई, ईडी (प्रवर्तन निदेशालय), और आईटी (आयकर विभाग) द्वारा अस्थिर करने का हताशापूर्ण प्रयास करने के बाद वे अब सीधे हिंसा का सहारा ले रहे हैं जो कि उनका असली रंग दिखाता है.' 

नायडू ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘श्री ईश्वरचंद्र विद्यासागर जैसे महान सुधारक की प्रतिमा को तोड़ना भाजपा द्वारा अपनाये जाने वाला छद्म राष्ट्रवाद को दिखाता है. यह घटना सभी पार्टियों द्वारा अमित शाह नीत भाजपा की विध्वंसकारी रणनीति के खिलाफ एकजुट होकर खड़े होने की जरुरत को रेखांकित करती है.’’ 

उन्होंने तेलुगू में किये गए एक अन्य ट्वीट में आरोप लगाया कि शाह ने पश्चिम बंगाल में अपनी रैली में गुंडों की मदद से जानबूझकर हिंसा उत्पन्न की. उन्होंने एक अन्य ट्वीट में दावा किया कि भगवा दल की पश्चिम बंगाल में कोई ताकत नहीं है.