close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

8 हजार से ज्यादा वोटों से पीछे हैं डिंपल यादव, इत्र नगरी कन्नौज में महकेगा कमल!

जैसे-जैसे सुब्रत पाठक और डिंपल के बीच मतों का अंतर बढ़ रहा है, वैसे ही सपा के खेमें में हलचल बढ़ती जा रही है.

8 हजार से ज्यादा वोटों से पीछे हैं डिंपल यादव, इत्र नगरी कन्नौज में महकेगा कमल!
मायावती ने डिंपल को आशीर्वाद देकर अपने परिवार का सदस्य भी बताया था.

नई दिल्‍ली : लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha elections 2019) का मतदान सात चरण में पूरा होने के बाद आज (23 मई) लोकसभा चुनाव परिणाम 2019 (lok sabha elections results 2019) आ रहे हैं. उत्तर प्रदेश का कन्नौज लोकसभा सीट पर भी कांटे की टक्कर चल रहा है. कन्नौज में बीजेपी और गठबंधन प्रत्याशियों के बीच कड़ी टक्कर हैं. सुबह से आ रहे रुझानों में डिंपल यादव आगे चल रही थीं, लेकिन शाम होते सुब्रत पाठक ने रुझानों को बदल दिया. बीजेपी के सुब्रत पाठक के 8,798 से डिंपल यादव से आगे हैं.

मायावती ने डिंपल को दिया था आशीर्वाद
जैसे-जैसे सुब्रत पाठक और डिंपल के बीच मतों का अंतर बढ़ रहा है, वैसे ही सपा के खेमें में हलचल बढ़ती जा रही है. इस सीट पर अखिलेश यादव के साथ ही मायावती ने डिंपल के समर्थन में जनसभा और लोगों से पार्टी प्रत्याशी को जिताने की अपील की थी. साथ ही मायावती ने डिंपल को आशीर्वाद देकर अपने परिवार का सदस्य भी बताया था. 

डिंपल-अखिलेश की हुई थी लव मैरेज
डिंपल यादव पढ़ाई के दौरान अखिलेश यादव से मिली थीं. इसके बाद दोनों में प्‍यार हुआ. लेकिन अखिलेश यादव का परिवार दोनों की शादी के खिलाफ था. लेकिन अखिलेश की दादी और मुलायम सिंह यादव के हस्‍तक्षेप के बाद शादी हो गई. शादी के समय डिंपल 21 साल की थीं.

लाइव टीवी देखें

पहली बार फिरोजाबाद से लड़ा था चुनाव
2009 के लोकसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने दो सीटों से चुनाव लड़ा था. अखिलेश यादव को फिरोजाबाद और कन्नौज, दोनों से जीत मिली थी. बाद में अखिलेश यादव ने फिरोजाबाद सीट छोड़ दी थी और फिरोजाबाद से पत्नी डिंपल यादव को पहली बार चुनाव मैदान में उतारा था. लेकिन कांग्रेस नेता राजबब्बर ने डिंपल यादव को शिकस्‍त दी थी.

2012 उपचुनाव में किया था कन्नौज पर कब्जा
2012 में कन्‍नौज लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में डिंपल यादव को फिर मैदान में उतारा गया. इस बार वह यहां से निर्विरोध चुनी गईं. दरअसल उनके सामने खड़े हुए संयुक्‍त समाजवादी पार्टी के दशरथ सिंह शंखवार और निर्दलीय प्रत्‍याशी संजु कटियार ने अपना नामांकन वापस ले लिया था.