close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चुनाव आयोग ने दिया निर्देश, नमो टीवी पर कोई राजनीतिक सामग्री न दिखे

कांग्रेस ने चुनाव आयोग के समक्ष चैनल के बारे में एक शिकायत दायर की थी जिसके बाद आयोग ने दिल्ली के सीईओ को इस मामले में एक रिपोर्ट दायर करने को कहा था.

चुनाव आयोग ने दिया निर्देश, नमो टीवी पर कोई राजनीतिक सामग्री न दिखे

नई दिल्‍ली: चुनाव आयोग ने बीजेपी को झटका दिया है. गुरुवार को दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी को निर्देश दिया कि नमो टीवी पर बिना पूर्व प्रमाणन के दिखाए जा रहे सभी राजनीतिक प्रचार कार्यक्रमों को तत्काल हटाया जाए. चुनाव आयोग ने कहा कि इस सिलसिले में ईसी के निर्देश के अनुसार स्थानीय मीडिया प्रमाणन समिति किसी राजनीतिक सामग्री को मंजूरी देने में सख्ती से नियमों का पालन करेगी. कांग्रेस ने चुनाव आयोग के समक्ष चैनल के बारे में एक शिकायत दायर की थी जिसके बाद आयोग ने दिल्ली के सीईओ को इस मामले में एक रिपोर्ट दायर करने को कहा था.

इससे पूर्व, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने चुनाव आयोग को बताया कि यह एक विज्ञापन मंच है जिसके लिए मंत्रालय से लाइसेंस लेने की आवश्यकता नहीं है. दिल्ली के सीईओ ने नमो टीवी के लोगो को मंजूरी दी थी.

लोकसभा चुनाव 2019 के प्रचार के साथ ही नमो टीवी को लेकर विवाद खड़ा हो गया था. इसे लेकर विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से शिकायत की थी. चुनाव के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी की सभी रैलियों का सीधा प्रसारण नमो टीवी पर हो रहा है.  इसके अलावा इस पर पीएम मोदी के रिकॉर्डेड इंटरव्यू और पुरानी रैलियों को भी दिखाया जा रहा था.

इससे पहले भी चुनाव आयोग ने नमो टीवी के प्रसारण पर भी रोक लगाने का आदेश दिया था. आयोग ने कहा था कि कोई भी सामग्री जो चुनाव में सभी दावेदारों को समान अवसर उपलब्ध कराने के सिद्धांत से मेल नहीं खाती हो, उसका प्रसारण नहीं किया जाना चाहिए.

नमो टीवी के खिलाफ सभी विपक्षी दल और खासकर आप और कांग्रेस ने चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराई थी. इसके बाद चुनाव आयोग ने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से इस मामले में जवाब मांगा था. मार्च के अंत में लॉन्च हुए नमो टीवी में पीएम की रैलियों और भाषणों के लिए समर्पित है.