राजस्थान की यह 2 सीट, BJP के लिए प्रतिष्ठा का विषय, जीत के लिए खुद उतरेंगे PM मोदी

राजस्थान में लोकसभा चुनाव 2019 के प्रचार के दौरान पीएम मोदी कई जनसभा करने जा रहे हैं. लेकिन इस बार के चुनाव में कांग्रेस के दो उम्मीदवारों को मात देने के लिए खुद पीएम मोदी मैदान में हैं. लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान पीएम की दो जनसभा जोधपुर और बाड़मेर में होने जा रही है. 

राजस्थान की यह 2 सीट, BJP के लिए प्रतिष्ठा का विषय, जीत के लिए खुद उतरेंगे PM मोदी
बीजेपी इन दो सीटों को काफी महत्वपूर्ण मान कर चल रही है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: राजस्थान में लोकसभा चुनाव 2019 के प्रचार के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी कई जनसभा करने जा रहे हैं. लेकिन इस बार के चुनाव में कांग्रेस के दो उम्मीदवारों को मात देने के लिए खुद पीएम मोदी मैदान में हैं. लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान पीएम की दो जनसभा जोधपुर और बाड़मेर में होने जा रही है. 

रविवार को राजस्थान में पीएम बाड़मेर मे चुनाव प्रचार करने जा रहे हैं. वहीं, सोमवार को जोधपुर में भी पीएम की जनसभा होगी. बताया जा रहा है कि जोधपुर और बाड़मेर की सीट पर बीजेपी ने कांग्रेस को मात देने के लिए खुद पीएम मोदी को मैदान में उतार दिया है.

आपको बता दें कि, पीएम जोधपुर से पहली बार लोकसभा चुनाव के लिए मैदान में उतरे सीएम अशोक गहलोत के बेटे वैभव और बाड़मेर में कांग्रेस प्रत्याशी और बीजेपी के दिग्गज नेताओं में जाने जाने वाले जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र के खिलाफ चुनाव प्रचार करने जा रहे है. 

बीजेपी के दिग्गज नेता कर रहे चुनाव प्रचार
बीजेपी इन दो सीटों को काफी महत्वपूर्ण मान कर चल रही है. जिस कारण अब तक राजस्थान बीजेपी के कई दिग्गज नेता इन दोनों सीटों पर लगातार चुनाव प्रचार कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि एक सप्ताह के अंदर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मदनलाल सैनी तीन बार बाड़मेर आ चुके हैं. 

बनाई गई खास रणनीति
माना जा रहा है कि इन दो हाई-प्रोफाइल उम्मीदवारों को मात देने के लिए बीजेपी ने यह रणनीति बनाई है. पीएम मोदी के अलावा बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भी चुनावी जीत के लिए रण में उतारा गया है. मीडिया से बातचीत में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष  सैनी ने इसका संकेत दिया था. 

कर्नल सोनाराम चौधरी हैं नाराज
बाड़मेर सीट से 2014 के चुनाव में जीत हासिल करने वाले कर्नल सोनाराम चौधरी का इस बार टिकट काट दिया गया है. जिस कारण उनके बगावती तेवर का खामियाजा बीजेपी को इस चुनाव में भुगतना पड़ सकता है. जहां पार्टी के बड़े नेता उन्हें मनाने का प्रयास कर रहे हैं. वहीं, बाड़मेर से चुनावी जीत को पक्की करने के लिए संघ और बीजेपी ने अपनी पूरी ताकत झोंक रखी है. मीडिया से बातचीत में सैनी ने इसका संकेत शनिवार को दे दिया था.