• 542/542 लक्ष्य 272
  • बीजेपी+

    352बीजेपी+

  • कांग्रेस+

    87कांग्रेस+

  • अन्य

    103अन्य

विवादित बयान में बुरे फंसे उपेंद्र कुशवाहा, निर्दलीय उम्मीदवार ने दायर किया परिवाद

देवी सीता को लेकर दिए गए बयान को लेकर उपेंद्र कुशवाहा के खिलाफ सीतामढ़ी में परिवाद दायर किया गया है.

विवादित बयान में बुरे फंसे उपेंद्र कुशवाहा, निर्दलीय उम्मीदवार ने दायर किया परिवाद
सीतामढ़ी व्यवहार न्यायालय में उपेंद्र कुशवाहा के खिलाफ परिवाद दायर किया गया है. (फाइल फोटो)

सीतामढ़ीः आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा अपने बयानों के चलते मुसीबत में फंस गए हैं. लोकसभा चुनाव के दौरान नेता लगातार अपने भाषणों में विवादित बयान दे रहे हैं. वहीं, उपेंद्र कुशवाहा ने भी दरभंगा में सीता को लेकर विवादित बयान दिया था. जिसके बाद वह अब कानूनी पचरे में फंस गए हैं. सीतामढ़ी के निर्दलीय उम्मीदवार ने व्यवहार न्यायालय में परिवाद पत्र दायर किया है. इस मामले में सुनवाई की तारीख भी तय की गई है.

दरअसल, उपेंद्र कुशवाहा गुरुवार को दरभंगा में आरजेडी उम्मीदवार अब्दुल बारी सिद्दिकी के पक्ष में चुनाव प्रचार कर रहे थे. इस दौरान अपने संबोधन में उन्हें सीता का जिक्र किया और बीजेपी की तुलना रामायण के कलाकार से की थी.

कुशवाहा ने अपने संबोधन के दौरान उन्होंने कहा कि रामलीला के दौरान जिस सीता मैया को देखकर माताएं-बहनें सम्मान में सिर झुका लेती हैं, वही पर्दे के पीछे सिगरेट पी रही होती है. यही हाल बीजेपी का भी है, 'अंदर से कुछ और बाहर कुछ और'.

उन्होंने कहा, 'रामलीला आपने देखा है. रामलीला में मंच सजता है. पर्दा लगा रहता है. एक व्यक्ति माता सीता का रूप धारण कर आता है. माताएं-बहनें जो रामलीला देखती रहती है वो सीता माता को देखकर सिर झुका लेती है. लेकिन जब उसी सीता जी को पर्दे के पीछे जाकर देख लीजिए तो वह सिगरेट पीती रहती है. बस यही भारतीय जनता पार्टी का चेहरा है. अंदर सब कर्म-कुकर्म और बाहर ऐसा कि भगवान का रूप हैं.

उपेंद्र कुशवाहा के इस बयान के बाद बिहार में सियासत तेज हो गई. वहीं, सीतामढ़ी व्यवहार न्यायालय के अधिवक्ता और निर्दलीय उम्मीदवार ठाकुर चंदन सिंह ने कुशवाहा के खिलाफ परिवाद दायर किया है. उनका आरोप है कि कुशवाहा के बयान से धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचा है. उन्होंने सस्ती लोकप्रियता के लिए ऐसे बयानों का उपयोग किया है.

चंदन सिंह ने व्यवहार न्यायालय में परिवाद दायर किया है जिसे सुनवाई के लिए तारीख भी तय कर दी गई है. ऐसे में चुनाव के दौरान उपेंद्र कुशवाहा अपने बयानों के चलते मुश्किल में फंस गए हैं.