राजस्थान: भयमुक्त मतदान के लिए डूंगरपुर में हो रहा है फ्लैग मार्च, 29 अप्रैल को है मतदान

आपको बता दें कि, इस चुनाव के दौरान प्रदेश की बांसवाडा डूंगरपुर लोकसभा सीट पर 29 अप्रैल को मतदान होना है.

राजस्थान: भयमुक्त मतदान के लिए डूंगरपुर में हो रहा है फ्लैग मार्च, 29 अप्रैल को है मतदान
एक हजार स्थायी वारंटियो की गिरफ्तारी हुई है. (फाइल फोटो)

डूंगरपुर: लोकसभा चुनाव 2019 को शांति पूर्ण तरीके समपन्न कराने के लिए डूंगरपुर में जिला पुलिस गंभीर व सतर्क नजर आ रही है. आमजन को भयमुक्त वातावरण में मतदान कराने के लिए जिले के सभी थाना क्षेत्रों में फ्लैग मार्च किया जा रहा है. इसके अलावा जिले के सीमावर्ती इलाकों में कड़ी निगरानी के साथ आदतन अपराधियों को पाबन्द किया जा रहा है. 

आपको बता दें कि, इस चुनाव के दौरान प्रदेश की बांसवाडा डूंगरपुर लोकसभा सीट पर 29 अप्रैल को मतदान होना है. जिसके लिए आरएएसी की एक टीम पहुंच चुकी है. इसके अलावा बीएसएफ की भी एक कम्पनी जिले में पहुंच जायेगी.

3000 आदतन अपराधियों को किया गया पाबन्द
इस संबंध में डूंगरपुर के एसपी शंकरदत्त शर्मा ने बताया कि जिले के आदतन अपराधियों को पाबन्द व स्थायी व हार्डकोर अपराधियों की धरपकड़ का अभियान चलाया जा रहा है. पुलिस विभाग की ओर से अब तक निरोधात्मक कार्रवाई किये जाकर करीब 3000 आदतन अपराधियों को पाबन्द किया गया है. वहीं, करीब एक हजार स्थायी वारंटियो को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है. इसके अलावा अनुज्ञाधारी हथियारों को सम्बंधित थानों में जमा लिए जाने का कार्य भी युद्ध स्तर पर जारी है. 

13 चौकियों पर जाब्ता तैनात
उन्होंने यह भी बताया कि अवैध शराब तस्करी, हथियारों पर रोकथाम को लेकर जिले की सीमाओं पर भी खासी चौकसी बरती जा रही है. डूंगरपुर जिले की गुजरात से लगने वाली करीब 13 चौकियों पर जाब्ता तैनात किया गया है. इन मार्गों से गुजरने वाले हर वाहनों की गहनता से चेकिंग की जा रही है.

बॉर्डर पर संयुक्त नाकेबंदी है जारी
लोकसभा चुनाव के तहत राजस्थान-गुजरात के लगने वाली सीमावर्ती जिलों के पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियो की मीटिंग हो चुकी है. इस दौरान राजस्थान व गुजरात में सक्रिय अपराधियों और संदिग्ध लोगो की सूचनाओं का आदान प्रदान किया गया. वहीं, चुनाव को लेकर बॉर्डर पर संयुक्त नाकेबंदी, सामान्य कानून व्यवस्था के साथ शराब तस्करी पर अंकुश लगाने को लेकर भी कई निर्णय लिए गए है.