हिंदपुर में पिछले 10 साल से काबिज है टीडीपी, क्या इस बार बचा पाएगी अपना गढ़

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए हिंदपुर में पहले चरण में मतदान 11 अप्रैल को संपन्न हुआ. हिंदपुर में टीडीपी पिछले दस साल से काबिज है लेकिन इस बार मुकाबला आसान नहीं. टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर है. टीडीपी की ओर से मौजूदा सांसद क्रिस्टप्पा निमाला तीसरी बार चुनावी मैदान में हैं. 

हिंदपुर में पिछले 10 साल से काबिज है टीडीपी, क्या इस बार बचा पाएगी अपना गढ़

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 के लिए हिंदपुर में पहले चरण में मतदान 11 अप्रैल को संपन्न हुआ. हिंदपुर में टीडीपी पिछले दस साल से काबिज है लेकिन इस बार मुकाबला आसान नहीं. टीडीपी और वाईएसआर कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर है. टीडीपी की ओर से मौजूदा सांसद क्रिस्टप्पा निमाला तीसरी बार चुनावी मैदान में हैं. वाईएसआर कांग्रेस ने भी भी गोरंतला माधव पर दांव लगाया है. कांग्रेस ने केटी श्रीधर जबकि बीजेपी ने पोगला वेंकट पार्थसारथी को चुनावी मैदान में उतारा है. 

कभी कांग्रेस का गढ़ थी यह सीट, अब बदलाव की बयार
हिंदपुर लोकसभा सीट आजादी के बाद से ही कांग्रेस का गढ़ रही. 1952 से लेकर 1980 तक कांग्रेस ने लगातार छह बार जीत हासिल की. 1984 में यह सीट टीडीपी के खाते में आ गई. यह पहला मौका था जब टीडीपी ने कांग्रेस का किला ढहाकार इस पर अपना परचम लहराया. इसके बाद के लोकसभा चुनाव में टीडीपी और कांग्रेस एकदूसरे को टक्कर देते रहे. हालांकि, 1989 के लोकसभा चुनाव में फिर से कांग्रेस ने वापसी की और 10 साल तक काबिज रही. 1996 के लोकसभा चुनाव में एक बार फिर से टीडीपी ने कांग्रेस को झटका देते हुए यह सीट उससे छीन ली. लेकिन 1998 में हुए मध्यावधि चुनाव में कांग्रेस ने फिर से वापसी की. 

 

2009 तक होता रहा कांग्रेस से मुकाबला
हिंदपुर लोकसभा सीट पर टीडीपी और कांग्रेस के बीच 2009 तक जंग होती रही. 2009 में कांग्रेस चुनाव जरूर हार गई लेकिन उसने टीडीपी को जोरदार टक्कर दी थी. लेकिन 2014 में समीकरण वाईएसआर कांग्रेस के पक्ष में झुक गए. 2014 में टीडीपी की क्रिस्तप्पा निमाला ने 97 हजार 325 वोटों के भारी अंतर से जीत दर्ज की थी. उन्हें 6 लाख 04 हजार 291 वोट मिले थे. दूसरे स्थान पर YSR कांग्रेस पार्टी के डी. श्रीधर रेड्डी रहे. उन्हें 5 लाख 06 हजार 966 वोट मिले. कांग्रेस पार्टी के जी.सी वेंकटरामुडु 36 हजार 452 वोट पर संतोष करना पड़ा था.